इस 4थी पास सख्स ने अपने परिवार के 11 सदस्यों को IPS, IAS से लेकर बड़ा अधिकारी बना दिया

1262
a uneducated man from haryana made his family members ias ips

आज अधिकतर युवाओं का सपना है IAS या IPS बनना, जिसके लिए वो जी तोड़ मेहनत भी कर रहे है, अगर किसी भी परिवार एक सदस्य IPS बन जाता है तो उस परिवार का सिर फर्क से हमेशा ऊँचा रहता है, आज हम आपको एक ऐसे परिवार के बारे में बताएंगे जिनके परिवार के 11 सदस्य IPS और IAS है।

एक ही परिवार के 11सदस्य है IPS, IAS-

आपको बता दे कि ये परिवार हरियाणा के जींद जिले के डूमरखां कला गांव में रहता है, इस परिवार के 11 सदस्य अधिकारी पद कार्यरत है जिनमे IAS और IPS पद शामिल है।

आपको बता दे कि इस परिवार के मुखिया चौधरी बसंत सिंह श्योकंद का ये सपना था कि उनके घर से सारे बच्चे अधिकारी बन अपने परिवार का नाम रौशन करें, आपको बता दे कि बसंत जी खुद चौथी तक ही पढ़े है परन्तु उन्होंने अपने परिवार के बच्चों को पढ़ाने के लिए बहुत मेहनत किया, उनके परिवार के बच्चो ने भी उनकी मेहनत व्यर्थ नही जाने दी और पढ़ लिख कर अफसर बन उनके सपने को साकार किया।

बसंत जी के मेहनत का नतीजा-

बसंत जी का बड़ा बेटा राजकुमार श्योकंद एक कॉलेज के रिटायर प्रोफेसर है, इसके साथ ही उनका बेटा यशेन्द्र एक IAS अफसर है और उनकी बेटी स्मृति चौधरी अम्बाला में रेलवे में SP के पद पर कार्यरत है, बसंत जी का दूसरा बेटा कांफ्रेण्ड में जीएम थे और उनकी पत्नी डिप्टी डीईओ थी, इसी प्रकार उनके परिवार के और भी सदस्य अधिकारी पद पर कार्यरत है।

इसी साल हुआ बसन्त जी का देहांत-

आपको बता दे कि इसी साल (2021) में मई के महीने में 99 वर्ष के उम्र में उनका देहांत हो गया, वो खुद भले चौथी तक पढ़े थे परन्तु उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों को अफसर बनने के लिए प्रेरित किया।

हम बसन्त जी को सत-सत नमन करते है कि उन्होंने कठिन परिश्रम करके अपने घर के 11 सदस्यों को अधिकारी बनाया जो आज ईमानदारी पूर्वक हमारे देश की सेवा कर रहे है।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here