बचपन मे ही पिता को खोया और मात्र 21 की उम्र में ISRO में वैज्ञानिक बना, बिहार के अंकित की कहानी जानें

868
Ankut gupta isro scientist

जरा सोचिए अगर कोई खेलने-कूदने के उम्र का कोई लड़का अगर कोई बड़ी कामयाबी हासिल करे तो उसके लिए वो कितना खुशहाली भरा पल हुआ होगा। उसके परिवार के साथ ही समाज के लोगों में कितनी खुशी होगी? यह हम कोई कहानी की बात नहीं कर रहे हैं। यह एक सच्ची घटना है जिसमे एक 21 वर्षीय लड़का ने यह कर दिखाया है कि मेहनत और संघर्ष के बदौलत बड़ी से बड़ी कामयाबी भी पाई जा सकती है। तो आइए जानते हैं उस लड़के और उसके कामयाबी से जुड़ी सभी जानकारियां :-

Ankut gupta isro scientist

कौन है वह शख्स ?

हम बात कर रहे हैं बिहार (Bihar) के सासाराम के तकिया बाजार के रहने वाले अंकित गुप्ता (Ankit Gupta) की, जिनका चयन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान परिषद में अंतरिक्ष वैज्ञानिक के पद पर हुआ है। इनकी सफलता की कहानी बहुत हीं संघर्षशील है। उन्होनें बहुत हीं कठिन परिस्थितियों में लड़कर अपने इस लक्ष्य को हासिल किया है। अंकित की उम्र जब10 वर्ष थी तब वे चौथी क्लास में पढ़ाई करते थे। उसी समय उनके पिता की मृत्य हो गयी थी। इसके बाद से अंकित पुरी तरह से टूट चुके थे, यूं कहे तो उनके उपर मुसीबतों का पहाड़ टूट गया। तमाम परेशानियों को झेलने के बाद भी उन्होंने हार नहीं मानी। अंतत उन्होंने अपने संघर्ष के बदौलत सफलता भी हासिल की। ―Ankit Gupta, a resident of takiya Bazar in Sasaram, Bihar, has been selected as a Space Scientist in the Indian Council of Space Research (ISRO).

Ankut gupta isro scientist

शिक्षा-दीक्षा

अंकित जब 10 वर्ष के थे तो उनके पापा की मृत्यु हो गई थी। इसके बाद वे चौथी कक्षा से लेकर 12वीं तक की पढ़ाई उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में पूरी की। 12वीं की पढ़ाई के बस उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। उसके बाद 1 साल तक जेईई मेंस की तैयारी की। इसके बाद अंतरिक्ष विज्ञान में इंडियन इंस्टीट्यूट आफ स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी त्रिवेंद्रम में उनका चयन हो गया। वे पढ़ाई- लिखाई में शुरु से हीं काफी तेजतर्रार थे।
 
Ankut gupta isro scientist

ISRO के अंतरिक्ष वैज्ञानिक के रूप में हुआ चयन

अंकित (Ankit Gupta) ने 12वीं क्लास तक की पढ़ाई गोरखपुर में की थी। इसके बाद उन्होंने एक साल जेईई मेंस की तैयारी की इसके बाद उनका चयन जेईई मेंस में हुआ। जेईई मेंस की परीक्षा में सफल होने के बाद अंकित का नामांकन इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी त्रिवेंद्रम में हुआ। उनका वहां से पढ़ाई पूरी करने के बाद ‘इसरो’ के विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र में अंतरिक्ष वैज्ञानिक के रूप में चयन हुआ। जहां उन्हें 24 दिसंबर को इसरो से नियुक्ति का प्रस्ताव मिला। उनका चयन वैज्ञानिक में होने पर उनके परिवार के लोग बेहद खुश हैं और उनके उज्जवल भविष्य के लिए कामना कर रहे हैं। ―Ankit Gupta, a resident of takiya Bazar in Sasaram, Bihar, has been selected as a Space Scientist in the Indian Council of Space Research (ISRO).

 
Ankit gupta isro scientist

युवाओं के लिए बने हैं प्रेरणा

अंकित (Ankit Gupta) का इसरो (ISRO) के विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र में अंतरिक्ष वैज्ञानिक के रूप में चयन होने पर उनके घर के साथ ही साथ पूरे समाज में खुशी की लहर है। संघर्षशील जीवन बिताने के बाद जब अंकित का चयन इसरो वैज्ञानिक के तौर पर हुआ तो सभी लोग थोड़ा अचंभीत हुए। हालांकि अंकित शुरू से ही पढ़ाई लिखाई में तेज तरार थे। लेकिन बात यह है कि उन्होंने बहुत आभाव में अपनी पढ़ाई पूरी की है तथा सफलता हासिल की। इसलिये वे आज के समय में हजारो युवाओं के लिए प्रेरणा बने हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here