पिता ने ऑटो चलाकर पढ़ाया, बेटा बन गया वायुसेना में फ्लाइंग ऑफिसर: अब देश की सेवा कर रहा है

2770
Auto driver son of vizag becomes officer in airforce

ऐसा हमेशा कहा जाता है कि जिसमे अपने लक्ष्य को पाने की चाह हो उसे कोई रोक नही सकता है, आज ऐसी ही एक कामयाबी के बारे हम आपको बताएंगे जिसमे किस्मत ने भी कड़ी मेहनत के आगे अपने घुटने टेक दिए।

जे. गोपीनाथ का परिचय-

जे. गोपीनाथ के पितां ऑटो चलाते है, उनके परिवार की आर्थिक स्थिति बिल्कुल भी अच्छी नही थी परन्तु इसके बाद भी गोपीनाथ के पितां ने कभी उन्हें पैसो की कमी महसूस नही होने दी। ये उनके पिता का ही योगदान है जी वो आज फ्लाइंग अफसर बन गए है।

विजाग में उनके पिता ऑटो चलाते है, गोपीनाथ ने भारतीय सेना में एक कमिशन अधिकारी बन अपने माता-पिता का नाम रौशन किया है। गोपीनाथ के पितां का नाम सुरीबाबू है और वो अरिलोवा के एसआईजी नगर में रहते हैं।

Auto driver son of vizag becomes officer in airforce

आर्थिंक परेशानी के बाद भी पितां ने किया हमेशा प्रोत्साहित-

गोपीनाथ के पितां ऑटो चालते थे, उन्हें काफी आर्थिक परेशानिया भी थी परन्तु उन्होंने हमेशा अपने बेटे को प्रोत्साहित किया और अपने बेटे के सपने को संभव करने में उन्होंने हमेशा अपने बेटे की मदद की। वो चाहते थे कि वो लोन लेकर अपने बेटे को इंजीनियरिंग कराए परन्तु गोपीनाथ ने उन्हें मना कर दिया क्योंकि उनका सपना सेना में अफसर बनने का था।

फ्लाइंग अफसर बन किया सपना साकार-

 

गोपीनाथ के दादा जी सेना में थे इसलिए उनकी भी ये इक्छा थी कि वो सेना में भर्ती हो, उन्होंने अपने सपने को साकार करने के लिए वो एयरमैन के रूप में IAF में शामिल हुए और अपने वायुसेना में अफ़सर बनने के सपने को साकार किया।

Auto driver son of vizag becomes officer in airforce

IAF में शामिल होने के बाद उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन की पढाई आंध्रप्रदेश विश्विद्यालय से पूरी की। उसके बाद फ्लाइंग अफसर बन कर उन्होंने अपना सपना पूरा किया। गोपीनाथ के फ्लाइंग अफसर बनने के बाद उनकी बहन गौरी का कहना है कि उनका परिवार और पड़ोसी भी उनकी सफलता से उत्साहित हैं, उन्होंने वायुसेना के डुडीगल एकडेमी में गोपीनाथ की स्नातक समारोह की लाइव स्ट्रीमिंग देखी है, आगे उनकी बहन का कहना है कि गोपीनाथ वायुसेना में एक एयरमैंन के रूप में इसलिए भर्ती हुए क्योंकि उन्हें इस बात का पूरा विश्वास था कि वो एक दिन फ्लाइंग अधिकारी जरूर बनेंगे।

गोपीनाथ के पितां का कहना है कि उनके बच्चे आज सफल है वो ही उनके प्रयासों का सच्चा फल है। गोपीनाथ कहते है कि यहाँ तक पहुचाने के लिए उनके पिता ने कड़ी मेहनत की है, वो रात को देर से सोते थे और सुबह जल्दी उठ जाते थे ताकि हमारी जरूरतों को पूरा कर सके, आगे वो कहते है कि वो अपने माता-पिता को सारी खुशियां देना चाहते है जिसके वो हक़दार है

 

हम गोपीनाथ और उनके पिता की मेहनत को सराहते है और उन्हें ढ़ेर साड़ी शुभकामनाएं देते है।

अंजली पटना की रहने वाली हैं जो UPSC की तैयारी कर रही हैं, इसके साथ ही अंजली समाजिक कार्यो से सरोकार रखती हैं। बहुत सारे किताबों को पढ़ने के साथ ही इन्हें प्रेरणादायी लोगों के सफर के बारे में लिखने का शौक है, जिसे वह अपनी कहानी के जरिये जीवंत करती हैं ।

2 COMMENTS

  1. Have you ever thought about creating an ebook or guest authoring on other blogs?

    I have a blog centered on the same ideas you discuss and would really like to
    have you share some stories/information. I know my readers would appreciate your work.
    If you are even remotely interested, feel free to shoot me an e mail.

  2. Hey there! I’ve been reading your blog for some time now and finally got the courage to goahead and give you a shout out from Austin Texas! Just wanted to say keep up the good job!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here