जानिए काली मिर्च की खेती के नुस्खे, जिसमें कम लागत में होता है लाखों का मुनाफा

1641
black pepper cultivation

हमारा भारत देश विश्व भर में कृषि और भाईचारे के लिए तो प्रसिद्ध है ही इसके साथ ही हमारा देश स्वादिष्ट और मसालेदार खाने ले लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। विदेशो से लोग भारत आते है भारतीये खाने का लुत्फ उठाने, अब तो विदेशो में भी भारतीय रेस्तरां खुलने लगे है। आज हम आपको मसालो के राजा के बारे में कुछ खास बाते बताएंगे।

“काली मिर्च” मसालों का राजा-

काली मिर्च को मसालो का राजा भी कहा जाता है, क्योंकि किसी भी व्यंजन या मसाले में थोड़ी सी काली मिर्च डालने से स्वाद दुगना बढ़ जाता है। काली मिर्च में कई अवषधिये गुण भी है, इसके सेवन से हमारा स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है।

गुणों से भरपूर-

काली मिर्च गुणों से भरी हुई है, काली मिर्च खाने से हमारा पाचन तंत्र स्वस्थ रहता है, काली मिर्च लिवर के लिए भी बहुत फायदेमंद है इसके साथ ही साथ वात और कफ जैसी बीमारी में काली मिर्च का सेवन किसी वरदान से कम नही है। दमे की बीमारी से जूझते हुए लोगो के लिए भी काली मिर्च बहुत ही फायदेमंद साबित होती है। काली मिर्च की मदद से बहुत सारी दवाईया भी बनती है।

डॉ. राजाराम त्रिपाठी का परिचय-

डॉ. राजाराम त्रिपाठी छत्तीशगढ़ के रहने वाले है, त्रिपाठी जी का खुद का माँ दण्तेष्वरी हर्बल फार्म है जहाँ वो काली मिर्च की खेती करते है। त्रिपाठी जी अपने फार्म में जैविक तरीके से अवषधिये पौधे की खेती करते है। अधिकतर लोगों का ये मानना है कि काली मिर्च की खेती दक्षिण भारत मे ही होती है परन्तु राजाराम जी ने इस बात को अपनी मेहनत से गलत साबित किया है।

दृढ़ निश्चय का मिला पुरुस्कार-

सबका ऐसा मानना है कि काली मिर्च की खेती दक्षिण भारत मे ही होती है, परन्तु राजाराम जी ने सोचा कि जब वहा काली मिर्च की खेती हो सकती है तो छत्तीशगढ़ में क्यों नही, उसके बाद त्रिपाठी जी ने अपने फर्म में काली मिर्च की खेती शुरू की उनकी मेहनत और लगन रंग लाई और छत्तीसगढ़ में भी काली मिर्च उपजने लगी। काली मिर्च की खेती से त्रिपाठी जी को काफी मुनाफा भी हुआ।

 

कई प्रकार के पौधे उपजते है माँ दण्तेष्वरी फार्म में-

माँ दण्तेष्वरी फार्म में एक एकड़ जमीन में 700 से अधिक अमेरिकन पौधे लगे है, इन अमेरिकन टिके पौधे का उपयोग इमारती लकड़िया बनाने में किया जाता है। इसी फार्म में त्रिपाठी जी ने काली मिर्च की खेती की शुरुआत की।

कैसे करे काली मिर्च की पहचान-

काली मिर्च के पौधे की पहचान करने की बहुत सारी बाते होती है जैसे कि काली मिर्च की पत्तियां आयातकार होती है इसके साथ ही इसके पत्तियों की लंबाई 12 से 18 सेंटीमीटर तक होती है और चौड़ाई 5 से 10 सेंटीमीटर तक होती है। काली मिर्च की जड़े उथली हुई रहती इसके साथ ही कालो मिर्च के पौधों पर सफेद रंग के फूल आते है।

काली मिर्च उपजाने के अनेक लाभ है जैसे काली मिर्च के पौधो में आपको अलग से खाद डालने की आवश्यकता नही परती क्योंकि काली मिर्च की जो पतिया नीचे गिरती है वो आर्गेनिक खाद का काम करती है पौधे के लिए। इसके साथ ही काली मिर्च की खेती के लिए आपको अलग से जमीन की आवश्यकता नही परती है आप आम या कटहल जैसे खुरदुरी पौधों के साथ काली मिर्च की खेती कर सकते है।

Kheti trend डॉ. राजाराम त्रिपाठी की सराहना करता है की उनकी सोच और प्रयास ने छत्तीशगढ़ में भी काली मिर्च के पौधे उपजा दिए, ये हम सबके लिए गर्व की बात है। अगर आपको काली मिर्च के खेती के बारे में और अधिक जानकारी चाहिए तो आप इस नंबर – 9406358025, 7000719042 पर संपर्क कर सकते है।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

31 COMMENTS

  1. Howdy Ι am so excited I foud your sitе, I reaⅼly founbd you by
    accident, ᴡhiⅼe I was looking on Askjeeve for something else, Anyhow I
    am here now and would just like to sɑy mаnjy thanks for a tremendous post and a aⅼl round entertaining bⅼog (I alѕo ⅼove the theme/design), I don’t have
    tіme to loⲟk over it all at the moment but I have bookmarked іt and
    alsо includeⅾ your RSS feeds, so when I have time I wіll be back
    too read a great deal more, Pleаse do keep upp the superb
    w᧐rk.

    my webpage :: Kunjungi Website Kami

  2. Great gooԁs from you, man. I’ve understand yoᥙr stuff preνious to and you’re just extremely great.
    I aсtually ⅼike what you have acauired herе, certainly like what yօu’re saying and
    the waay in which you say it. You maҝe it enjoyable and yyou still take care of to keep it sensible.
    I can not wait to read much more from you. Ꭲhis is really a wonderfսl ԝeb
    site. http://mosca.asia/booking/525247

  3. Hi! Quick questіon that’s totally off topic. Do you know how tօ make your site mbile friendly?
    Ꮇу weƄsite looks weird when browsing from my iphօne4.
    I’m trying tto find a template or pluɡin that might be
    able to ffix this problem. If you have any recommendations,
    please share. Cheers!

    Also visit my weebsite :: dorahoki

  4. Thanos for finally talking аbout > जानिए काली मिर्च की खेती
    के नुस्खे, जिसमें कम लागत
    में होता है लाखों का मुनाफा slоt
    gacor

  5. This is the right web ѕіte for everyone ᴡhoo
    would like too understand this topic. You қnow so mսch its almost hard
    to argue with yoս (not tһat I personlly will
    need to…HaHa). Youu definitely put a brand new spin on a topic that’s been written about for years.

    Great stuff, just excellent!

  6. What i don’t realize is actually how you are not really much more well-liked than you may be right now. You are so intelligent. You realize therefore significantly relating to this subject, made me personally consider it from a lot of varied angles. Its like men and women aren’t fascinated unless it’s one thing to accomplish with Lady gaga! Your own stuffs great. Always maintain it up!

  7. I loved as much as you will receive carried out right here. The sketch is attractive, your authored material stylish. nonetheless, you command get bought an nervousness over that you wish be delivering the following. unwell unquestionably come further formerly again as exactly the same nearly a lot often inside case you shield this increase.

  8. Great ?V I should certainly pronounce, impressed with your website. I had no trouble navigating through all tabs as well as related information ended up being truly easy to do to access. I recently found what I hoped for before you know it in the least. Quite unusual. Is likely to appreciate it for those who add forums or something, website theme . a tones way for your customer to communicate. Nice task..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here