देश के लिए 3 गोल्ड मेडल जीती, झारखंड की बेटी ने पूरे देश का मान बढ़ाया

693
deepika kumari won three gold medals in archery and became worlds number one archer

आज हमारे देश की बेटियाँ हर छेत्र में अपने परिवार और देश का नाम रौशन कर ही है, बस जरूरत है तो बस उनपर विश्वास रखने की और उनका हौसला बढ़ाने की। आइए आज ऐसी ही एक देश की बेटी के कामयाबी के बारे में हम आपको बताते है।

3 स्वर्ण पदक जीत, रचा इतिहास-

तीरंदाज दीपका को कौन नही जानता है, वो झारखंड की रहने वाली है और अपने कामयाबी से उन्होंने हर जगह पूरे देश को गर्व महसूस करवाया है। फ्रांस में उन्होंने 5 घण्टे में 3 स्वर्ण पदक जीत के देश का नाम रौशन किया है।

आपको बता दे कि दीपिका के पति अतनु दास भी एक निशानेबाज है उनके साथ भी दीपिका ने एक गोल्ड मेडल जीता है, दीपिका ने अकेले भी गोल्ड जीता, उन्होंने एक दिन में 3 गोल्ड मेडल जीत कर इतिहास रच दिया है।

मैक्सिको को हराया-

आपको बता दे कि फाइनल में भारत ने मैक्सिको को हराया है, अंकिता और कोमलिका ने दीपिका के बखूबी साथ निभाया, आपको जान के ये हैरानी होगी कि ये तीनो बेटियां झारखंड की है , आज पूरा देश तीनो बेटियों की सराहना कर रहा है। झारखंड के मुख्यमंत्री सोरेन के साथ-साथ अन्य दल के नेताओं ने भी दीपिका को ढ़ेर सारी बधाई दी है। उन्होंने विश्व कप स्टेज 3 में रिकवर व्यक्तिगत स्पर्धा को 6-0 से जीतकर स्वर्ण पदक की हैट्रिक की सफलता पाई। इसके साथ ही दीपिका दुनिया की नंबर 1 तीरंदाज बन गयी है।

 

जीत कर वापसी की-

आपको बता दे कि भारत पिछले हफ्ते मुकाबले में पीछे हो गया था, परन्तु इस सप्ताह उन्होंने शानदार वापसी की और सफलता पाई। विश्व कप जीतने के लिए तीनो बेटियों ने जीतोड़ मेहनत की थी, आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि इन तीनो बेटियों ने मात्र दो महीने में दूसरा विश्व कप खिताब जीत देश का नाम फिर से रौशन किया, दीपिका का कहना है कि विश्वकप में तीन गोल्ड मेडल जितना किसी सपने के कम नही है, इसके साथ ही वो उत्साहित होके कहती है अभी मैं यहाँ नही रुकूँगी क्योंकि आगे और भी कॉम्पिटीशन खेलना है।

इसके साथ ही अतनु दास कहते है को 30 जून 2021 को उन दोनों के शादी को दो साल हो जाएंगे, आगे वो कहते है कि उनकी एनिवर्सरी का ये सबसे अच्छा तोहफा है, वो कहते है कि हम दोनों को ऐसा लगता है कि हम दोनों एक दूसरे के लिए ही बने है, परन्तु जब हम खेल के मैदान पर होते है तो सिर्फ एक खिलाड़ी की तरह ही सोचते है और एक दूसरे को प्रोत्साहित करते है, आपको बता दे कि इसके पहले दीपिका ने मिक्स्ड आर्चरी साल 2016 में खेली थी।

पूरा देश आज तीनो बेटियों को सराह रहा है, हमारी तरफ से तीनों बेटियों को ढ़ेर सारी शुभकामनाएं।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here