पति के देहांत के बाद पूरा किया उनका सपना, 10 हज़ार से शुरू कर आचार का बिज़नेस, आज कमा रही लाखों रुपये

2378

कोमल है कमजोर नहीं ,शक्ति का नाम ही ,नारी है. !!
तू, जग को जीवन देने बाली,मौत भी तुझसे हारी है।
सतियों के नाम पे मुझे जलाया , मीरा के नाम पे, जहर
पिलाया ! सीता जैसी अग्नि परीक्षा आज भी जग में
जारी है। कोमल है कमजोर नहीं तू ,शक्ति का नाम ही
नारी है !
एक ऐसी ही शक्तिशाली महिला का नाम है – दीपाली भट्टाचार्य
दीपाली असम की रहने वाली हैं। एक समय ऐसा था कि दीपाली भी सामान्य ज़िन्दगी जीती थी। सुबह उठ के नास्ता बनाना, घर को संवारना, कुछ ऐसा ही दिन गुज़रता था। लेकिन कुछ सालों में परिस्थितियों ने उन्हें एक साधारण से असाधारण महिला बना दिया।


दीपाली ने एक संस्था की स्थापना की है, जिसका नाम है :- प्रकृति, प्रकृति एक ब्रांड भी है। इस संस्था में आचार और नमकीन बनाने का काम किया जाता है। दीपाली रोज़ सुबह उठ कर ‘पीठा टोस्ट’ बनाती हैं जो कि असम के परम्परा में एक खास जगह रखता है। इसको बनाने के लिए गुड़, आटा, नारियल और इलाइची का प्रयोग किया जाता है। लोगो के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए दीपाली उसे तलने के जगह पर बेक कर लेती हैं। उनके पड़ोस में मिठाई दुकान है,जो इनसे हर रोज़ 60 पीठे लेते हैं।
दीपाली हमेशा कुछ नया बनाने की कोशिश करती रहती हैं। अभी तक उन्होंने लगभग 30 नए किस्म के आचार बनाये हैं। आपको यह जान कर बहुत अलग लगेगा कि दीपाली ने मशरूम, नारियल और हल्दी के भी आचार बनाये हैं और लोगो ने खूब पसंद भी किया है। वह सभी चीज़े हाथो से ही बनाती हैं और इस काम मे उनकी बेटी – सुदीत्री भी उनका साथ देती है।


करीब 250 आचार के डब्बे हर महीने तैयार किये जाते हैं और बेचे जाते हैं। ये आचार केवल गुवाहाटी ही नही,बल्कि देश के और भी हिस्सो में भेजे जाते हैं, जैसे:- दिल्ली, राजस्थान, बैंगलोर आदि। दीपाली की सालाना आय लगभग 5,00,000 रुपये हैं। दीपाली के पति का देहांत वर्ष 2003 में ही हो गया था। उनकी मृत्यु दिल के दौरे से हुई थी। उनकी उम्र भी ज्यादा नही थी, मात्र 40 वर्ष थी। पेशे से वे असम में एक शिक्षक थे। वो बहुत गुणवान और नेक विचार वाले व्यक्ति थे। उन्होंने थिएटर भी किया। स्कूल में वो बच्चो को विज्ञान, गणित पढ़ाते थे और संगीत भी सिखाते थे। उनके गुज़र जाने के बाद अब दीपाली अपने बेटी और सास के साथ रहती हैं ।
वह बताती हैं कि जब सब कुछ ठीक था तो दोनों घर मे ही ऐसे कामो के शुरुआत करने के बारे में प्लान किया करते थे और उनके पति ने ही प्रकृति नाम सुझाव में दिया था। उनके सपनों को पूरा करने के लिए दीपाली ने इसका नाम प्रकृति रखा और आज एक सफल कारोबारी बन चुकी हैं।
दीपाली के हाथों में शुरू से ही एक जादू था। परिवार से लेकर उनके रिश्तेदार, दोस्त सभी उनके आचार के दीवाने थे। तभी ये ख्याल आया कि इसमें आगे बढ़ा जा सकता है। दीपाली ने अपने फर्म को वर्ष 2015 में पंजीकृत कराया और दृढ़ संकल्प के साथ आगे बढ़ी।
पति के देहांत के बाद दीपाली को ही घर सम्हालना था, और इस बड़ी जिम्मेदारी को उन्होंने पूरे समर्पण के साथ उठाया। आगे चलकर अलग-अलग प्रतिभागितायों में उन्होने हिस्सा भी लिया, के बार जीत भी हासिल हुई । पुरस्कार में दीपाली को बर्तनों के सेट मिलते थे तो कभी नकद राशि मिलती थी।


दीपाली ने 10,000 के निवेश के साथ ‘प्रकृति’ की नीव रखी। और फिर क्या, शुरू हो गया आचार का काम। लहसून, भट जोलोकिया, चिकन, मछली, इमली आदि का आचार बनना शुरू हुआ और लोगो ने खूब पसंद किया। फिर उन्होंने रेडी तो ईट का कॉन्सेप्ट लाया, जिसमे पहले से ही तैयार नास्ता होता था । जैसे:- मुढ़ी, चिवड़ा, चावल का पाउडर ,चीनी का मिश्रण आदि होते थे। दीपाली अपने स्वादिष्ट दही बडे के लिए भी बहुत प्रसिद्ध है और उन्हें बहुत आर्डर भी आते हैं।
शादी से पहले दीपाली गुवाहाटी से 300 किलोमीटर दूर जोरहाट में रहती थीं। वही से उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा प्राप्त की। देवीचरण बरुआ कॉलेज से उन्होंने बैचलर डिग्री हासिल किया है और पढ़ाई के बाद 1990 में उनकी शादी हो गयी। दीपाली ने शुरू से ही अपने पिता को मसाले का कारोबार करते देखा है। इनके परिवार का भी एक प्रसिद्ध ब्रांड था , जिसका नाम था गोंधराज मसाला। उसी मसाले से उनके घर का आचार बनाया जाता था जो बहुत स्वादिष्ट हुआ करता था। इस आचार बनाने के प्रक्रिया को वो बहुत ध्यान से देखती थी। बाद में उनके भाई के गुज़र जाने के बाद वो फर्म बन्द कर दिया गया।
दीपाली की सास भी बहुत अच्छी कुक हैं जिनसे उन्होंने खाने के बारीकियों को सीखा जो आज उनके काम आ रहा है। प्रकृति से पहले उन्होंने एक होम फूड डिलीवरी शुरू किया था जिसके लिए एक स्कूटर भी खरदा गया था। जिसमे लोग दीपाली के हाथ के बने इडली, आलू चप , दही बडे आदि खूब पसंद करते थे।
बहुत से प्रतियोगिता में भाग लेना दीपाली के लिए वरदान साबित होता था। एक बार उन्होंने नारियल विकाश बोर्ड ने उनके डिश की सराहना करते हुए उन्हें 2005 में एक मौका दिया कि वो कोच्चि जा के 10 दिन की ट्रेनिंग ले सके।जिसमे उन्होंने नारियल से जुड़े कई डिशों को बनाना सीखा। उसमे उन्होंने नारियल की मिठाई, केक , आइस क्रीम, आचार बनाना सीखा।


वहां से लौटने के बाद, दीपाली ने उस एक्सपेरिएंस को औरों में बांटा, उन्हें भी वो सीख दी जिससे महिलाओं को फायदा हुआ। वर्ष 2012 तक उन्होंने कई पत्रिकाओं में अपने रेसिपीज को छपवाया भी। लोग इनके डिशेस को पढ़ते थे, उसके विधि को पढ़कर सीखते थे। लेकिन इसके साथ उन्होंने प्रकृति को ब्रांड बनाने की ठान ली थी जो आखिरकार 2015 में एक पंजीकृत संस्था हो गयी (एफएसएसएआई)।
प्रकृति का सारा काम दीपाली के घर से ही किया जाता है। चाहे वो आचार बनाना हो या पीठा बनाना हो या पैकेजिंग का काम हो । साथ ही दीपाली बदलाव करती रहती हैं जिससे लोगो को स्वस्थ रखा जाए और स्वाद भी बना रहे।
कई इंजीनियर, डॉक्टर, प्रोफेसर आदि इनके पास दूर दूर से आते हैं। इनके टोस्ट पीठा को जो एक बार चख लेता है वो बार बार यहाँ आता है। ज्यादातर, जब हम आचार बाहर से खरीदते हैं तक उसमे तेल की मात्रा बहुत होती है। जिसे हम बार बार खाने से परहेज करते हैं, लेकिन दीपाली के सामानों में ये समस्या नही है। वो बिल्कुल शरीर के अनुकूल होता है।
बात यदि दीपाली और उनकी बेटी सुदीत्री की करें तो दोनों एक दोस्त की तरह रहते हैं। दोनों ने बहुत मुश्किल वक़्त भी देखा है। किसी ने अपना पति खोया तो उसी वक़्त किसी के सर से उसके पिता का हाथ उठ गया। आज दोनों खूब लग्न से इस काम को आगे बढा रही हैं।
उनकी बेटी ने 2015 में इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की और कुछ सालों तक दूरसंचार कंपनियों में काम भी किया। उसके बाद नौकरी छोड़ दी। अपनी तकनीकी ज्ञान का उपयोग आज सुदीत्री अपने माँ के बिज़नेस को आगे बढ़ने में कर रही हैं। ट्विटर, व्हाट्सएप और फेसबुक जैसे सोशल प्लेटफार्म से वो प्रकृति को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुँचा रही हैं। साथ ही अपने ब्रांड का फोटोशूट भी करती हैं।


दीपाली का पूरा जीवन और उनके कठिन कदम हमे ऊर्जा से भर देते हैं। हमे इनसे काफी प्रेरणा मिलती है। किस प्रकार उन्होंने अपने परेशानी के दिनों को अवसर में बदल दिया। हम तो इनकी कहानी से सीखते ही हैं लेकिन दीपाली की बेटी के लिए भी उनकी माँ सबसे बड़ी प्रेरणा हैं। दीपाली के सफल कार्य को खेती ट्रेंड का सलाम।

107 COMMENTS

  1. I’ve been surfing online greater than 3 hours nowadays, yet I never found
    any interesting article like yours. It’s pretty value sufficient for me.
    In my view, if all website owners and bloggers made excellent content as you probably did,
    the web might be much more helpful than ever before.

  2. Hey There. I found your weblog the use of msn. This is an extremely
    well written article. I’ll make sure to bookmark it and return to read extra of your helpful info.

    Thank you for the post. I’ll definitely return.

  3. Usually I don’t learn post on blogs, but I would like to say
    that this write-up very pressured me to try and do it!
    Your writing style has been amazed me. Thank you, very nice post.

  4. Good day I am so excited I found your web site, I
    really found you by mistake, while I was browsing
    on Google for something else, Anyways I am here
    now and would just like to say thanks a lot for a remarkable post and a all
    round enjoyable blog (I also love the theme/design), I don’t
    have time to read through it all at the moment but I have book-marked it and also included your RSS feeds,
    so when I have time I will be back to read more, Please do keep
    up the great b.

  5. It’s actually a great and helpful piece of information. I am happy that you simply shared this helpful info with us.
    Please keep us informed like this. Thanks for sharing.

  6. I truly love your blog.. Pleasant colors & theme. Did you build this
    web site yourself? Please reply back as I’m looking to create my own website
    and want to find out where you got this from or just what the theme is called.
    Appreciate it!

  7. You actually make it appear really easy together with your
    presentation however I find this topic to be actually something that
    I feel I would never understand. It sort of feels too
    complicated and very wide for me. I’m looking ahead to your
    next post, I will attempt to get the cling of it!

  8. I have been surfing online more than 4 hours today, yet
    I never found any interesting article like yours.
    It’s pretty worth enough for me. Personally, if all webmasters and bloggers made good content as you did,
    the internet will be a lot more useful than ever before.

  9. Simply want to say your article is as amazing. The clarity
    in your post is simply great and i can assume
    you’re an expert on this subject. Fine with your permission let me
    to grab your feed to keep updated with forthcoming post.

    Thanks a million and please carry on the enjoyable work.

  10. I’m not sure exactly why but this website is loading incredibly slow for me.
    Is anyone else having this issue or is it a
    problem on my end? I’ll check back later on and see if the problem still exists.

  11. Howdy! Do you know if they make any plugins to assist
    with SEO? I’m trying to get my blog to rank
    for some targeted keywords but I’m not seeing very good success.
    If you know of any please share. Kudos!

  12. wonderful issues altogether, you just gained a emblem new reader.
    What might you suggest in regards to your submit that
    you just made a few days in the past? Any certain?

  13. whoah this blog is wonderful i really like studying your
    posts. Stay up the great work! You realize, many persons are hunting around for this information, you could help them greatly.

  14. Pretty nice post. I just stumbled upon your weblog and wished to say that I’ve truly enjoyed surfing around your blog posts.
    In any case I will be subscribing for your feed and I am hoping you write again soon!

  15. Hey there! I know this is kinda off topic
    but I’d figured I’d ask. Would you be interested in trading links or maybe guest writing a blog post or vice-versa?
    My site discusses a lot of the same topics as yours and I
    feel we could greatly benefit from each other. If you might be
    interested feel free to shoot me an email. I look forward to hearing from
    you! Superb blog by the way!

  16. Just desire to say your article is as amazing.
    The clearness on your post is simply nice and i can assume you are knowledgeable on this subject.
    Well with your permission allow me to grab your feed
    to stay updated with forthcoming post. Thanks one million and please keep up the gratifying work.

  17. Have you ever thought about adding a little bit more than just
    your articles? I mean, what you say is valuable and all.
    However just imagine if you added some great images or video clips to give your posts more,
    “pop”! Your content is excellent but with images and clips, this blog could definitely be one of the greatest in its
    niche. Awesome blog!

  18. What i don’t realize is in reality how you’re now not actually much more smartly-favored than you may be now.
    You’re very intelligent. You understand thus significantly relating to this subject, produced me individually consider it from
    numerous varied angles. Its like men and women don’t seem to be fascinated except
    it is something to accomplish with Lady gaga! Your individual stuffs excellent.

    All the time deal with it up!

  19. you are in point of fact a excellent webmaster. The site
    loading velocity is amazing. It sort of feels that you are doing any unique trick.
    Furthermore, The contents are masterwork. you’ve performed
    a great task in this matter!

  20. Terrific article! That is the kind of info that are meant
    to be shared around the web. Shame on Google for now not positioning this
    post higher! Come on over and talk over with my website .
    Thank you =)

  21. Today, I went to the beachfront with my children. I found a sea shell and
    gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She placed
    the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab
    inside and it pinched her ear. She never wants to go back! LoL I know
    this is entirely off topic but I had to tell someone!

  22. I just like the valuable information you provide to your articles.

    I’ll bookmark your blog and test again here regularly.
    I am reasonably certain I’ll learn plenty of new stuff right here!
    Best of luck for the following!

  23. Excellent site you have here but I was curious about
    if you knew of any message boards that cover the same topics talked about here?
    I’d really love to be a part of group where I can get responses from
    other experienced individuals that share the same interest.
    If you have any suggestions, please let me know.
    Cheers!

  24. Hi, I do think this is a great website. I stumbledupon it 😉 I may return once again since i
    have book marked it. Money and freedom is the best way to change, may you be rich and continue to guide other people.

  25. Just want to say your article is as astonishing. The clarity on your publish is
    simply cool and i can think you’re a professional on this subject.
    Fine together with your permission allow me to clutch
    your feed to stay updated with drawing close post. Thank
    you one million and please keep up the enjoyable work.

  26. I’m really enjoying the theme/design of your weblog.
    Do you ever run into any web browser compatibility issues?
    A couple of my blog visitors have complained about my website not working correctly in Explorer but looks great in Opera.

    Do you have any solutions to help fix this issue?

  27. Howdy! I could have sworn I’ve been to this site before but after looking at many of the articles I realized it’s new to me.
    Anyhow, I’m definitely happy I found it and I’ll be bookmarking it and checking back often!

  28. Hello, I think your site might be having browser compatibility issues.
    When I look at your website in Ie, it looks fine but when opening in Internet Explorer, it has some overlapping.
    I just wanted to give you a quick heads up! Other then that, superb blog!

  29. I do agree with all the ideas you’ve introduced for your post.

    They are really convincing and can definitely
    work. Nonetheless, the posts are very short for beginners.
    Could you please lengthen them a bit from next
    time? Thank you for the post.

  30. Hi, I think your web site might be having web browser compatibility problems.
    When I take a look at your blog in Safari, it looks fine however,
    when opening in IE, it’s got some overlapping issues.
    I simply wanted to give you a quick heads up! Other than that, great site!

  31. Hey! This is kind of off topic but I need some advice from an established blog.
    Is it very hard to set up your own blog? I’m not very
    techincal but I can figure things out pretty quick. I’m thinking about creating my own but I’m not sure where to begin.
    Do you have any points or suggestions? Thanks

  32. Having read this I believed it was really enlightening.
    I appreciate you finding the time and energy to put this informative article together.
    I once again find myself personally spending a significant amount of time both reading and posting comments.
    But so what, it was still worth it!

  33. May I simply say what a comfort to uncover an individual who truly understands what
    they’re discussing on the net. You actually realize how to bring an issue to light and make it important.
    More and more people should look at this and understand this side of the story.
    I can’t believe you aren’t more popular because you definitely have the
    gift.

  34. I think everything posted was actually very logical.
    But, what about this? suppose you added a little content?
    I ain’t suggesting your information is not solid, but suppose you
    added something to maybe get folk’s attention? I mean पति
    के देहांत के बाद पूरा किया उनका सपना, 10 हज़ार से शुरू कर आचार का बिज़नेस, आज कमा रही लाखों
    रुपये – KhetiTrend.in is kinda boring. You should peek at Yahoo’s home
    page and see how they create news titles to grab viewers to open the links.
    You might add a video or a related picture or two to grab
    people interested about everything’ve got to
    say. In my opinion, it could bring your blog a little livelier.

  35. What i do not realize is in reality how you’re not really a lot more neatly-favored than you may be right now. You’re very intelligent. You know thus significantly in the case of this topic, produced me personally imagine it from so many varied angles. Its like men and women don’t seem to be involved unless it?¦s something to accomplish with Lady gaga! Your own stuffs great. At all times handle it up!

  36. Write more, thats all I have to say. Literally, it
    seems as though you relied on the video to make your point.
    You definitely know what youre talking about, why waste your intelligence on just
    posting videos to your site when you could be giving us something informative
    to read?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here