मात्र 11 वर्ष की उम्र में सब्जी के छिलकों से बनाया कागज, पेड़ पौधों को बचाने के लिए शुरू की अनोखी पहल

329
Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

बाते तो हम रोज कुछ-न-कुछ सुनते रहते हैं लेकिन कुछ बातें ऐसी भी होती हैं, जिनपर विश्वास करना मुश्किल होता है परन्तु जो सत्य है, उसे कोई झुठला नहीं सकता। आज हम आपको कुछ ऐसी ही कहानी बताएंगे जिसे सुनकर आपको लगेगा कि यह बात झूठी है। जिस उम्र में बच्चियां खेलना-कूदना पसन्द करती हैं, उस उम्र में मान्या हर्ष ने कुछ अलग कारनामा कर दिखाया है।

11 वर्ष की लड़की का कमाल

अगर आपको कोई यह बताए कि मान्या हर्ष (Manya Harsha) ने प्याज के छिलकों से कागज बना रही हैं, तो आप को विश्वास नहीं होगा। अभी मान्या की आयु मात्र 11 वर्ष ही और वह यंग रिसाइकलर के तौर पर कार्य जारी कर चुकी हैं। -Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

इको फ्रेंडली पेपर्स का प्रयोग

मान्या हर दिन किचन के कचरे का उपयोग कर इको-फ्रेंडली पेपर में रिसाइकिल कर रही हैं। इस छोटी बच्ची ने इस उम्र में वो कारनामा कर दिखाया है जो कभी कोई सोच भी नहीं सकता। उन्होंने किचन वेस्ट यानी प्याज के छिलकों से पेपर का निर्माण प्रारंभ किया है। -Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

करती हैं ईको-फ्रेंडली पेपर का निर्माण

मान्या हर्ष (Manya Harsha) सिर्फ प्याज ही नहीं बल्कि लहसुन, आलू, नारियल, मटर और कॉर्न के छिलकों से ईको-फ्रेंडली पेपर का निर्माण कर रहीं है। वे बताती हैं कि भारत में प्रतिदिन लगभग तीन सौ ग्राम सब्जियों का कचरा बाहर निकलता है। अगर हम इस कचरे का उपयोग सहि तरीके से करें तो यह हम सभी के लिए बहुत ही फायदेमंद होगा। -Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

लिया कुछ अलग करने का निर्णय

शहर में बढ़ते कचरे को देखते हुए उन्होंने कुछ अलग करने का निश्चय किया ताकि कचरे का निपटारा भी हो जाए कार्य भी उन्नति वाली हो। वे कहती हैं कि अगर हम सभी इस पहल को अपना लें तो फिर कचरे का निपटारा भी जो जाएगा एवं पर्यावरण का संरक्षण भी होगा। क्योंकि हम सभी ये जानते हैं कि
हर वर्ष अनेकों पेड़ काटे जाते हैं ताकि कागज का निर्माण हो। -Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

आखिर किस तरह बनाती हैं ईको-फ्रेंडली पेपर?

मान्या हर्ष (Manya Harsha) कागज के निर्माण के लिए पहले फलों एवं सब्जियों के छिलकों को एकत्रित करती हैं फिर उसे उबालती है और उसके उपरांत उसका पेस्ट बनाती हैं। पेस्ट बनने के बाद वह उसे सरफेस या फिर फ्लैट कंटेनर में रखती हैं। पेस्ट के उपरांत जितना भी एक्स्ट्रा पानी बच जाता है उसे छानकर सूखने के लिए छोड़ दिया जाता है। इस तरह की प्रक्रिया कर इको-फ्रेंडली पेपर का निर्माण मान्या करती हैं। आप इस पेपर पर आप पेंट कर सकते हैं, आर्ट क्राफ्ट कर सकते हैं, एवं लिखने के साथ-साथ यह पेड़ मोड़ा भी सकता है। -Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

फेंके हुए फूलों से बनाती हैं पेपर

मान्या हर्ष (Manya Harsha) अपने जन्मदिन के अवसर पर पौधे को लगाकर लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करती हैं। इतना ही नहीं वे अपने क्षेत्र के लोगों से यह रिक्वेस्ट करती हैं कि कचड़े को झील में ना फेंककर कूड़ेदान में फेंका जाए। 75वें इंडपेंडेंस दे के दिन उन्होंने बस कंडक्टर्स, ट्रैफिक पुलिसवालों और ऑटो ड्राइवर्स को पौधे बांटकर उन्हें पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरूक किया। त्योहार में लोग जिस फूल को फेंक देते हैं उसे उठाकर मान्या पेपर बना रही है। -Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

लिखी हैं किताबें और मिला है सम्मान भी

विश्व जल दिवस के मौके पर UN वाटर ने अपने फेसबुक पेज पर उनके कार्यों की प्रशंसा की है। मान्या हर्ष (Manya Harsha) वाटर हीरो (Water Hero) से सम्मानित हो चुकी हैं। इतना ही नहीं उन्हें जल शक्ति मंत्रालय द्वारा ES पुरस्कार 2020 से भी सम्मानित किया गया है। उन्होंने नेचर थीम वाली किताबें ” नेचर आर फ्यूचर, द वॉटर हीरोज, वंस अपॉन ए टाइम इन 2020 लिखी हैं। -Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में शामिल

वे एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स से ग्रैंडमास्टर की उपाधि से नवाज़ी गईं हैं। उन्होंने इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, गोल्डन बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, कर्नाटक अचीवर्स बुक ऑफ रिकॉर्ड्स वर्ल्ड बुक ऑफ इंडिया रिकॉर्ड्स एवं एक्सक्लुसिव वर्ल्ड रिकॉर्ड के साथ अन्य रिकॉर्ड भी अपने नाम किया है। वह सबसे कम उम्र की कन्नड़ लेखिका भी हैं। वह डिजिटल किड्स जर्नल सनशाइन फोर्टनाइट की सम्पादक और संस्थापक भी हैं। -Eco-Friendly papar made by 13 year old Manyaa Harsha

बहुत ही कम उम्र में इतने बेहतरीन कार्य करने के लिए The Logically मान्या हर्ष (Manya Harsha) की प्रशंसा करता है और उनके उज्जवल भविष्य की कामना करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here