बेटियों को शिक्षित करना हुआ कठिन तो बन गई मछुआरिन, यह देश की प्रथम महिला हैं जो मत्स्य का कारोबार करती हैं

6845
india's first fisher woman

समुन्द्र देखना किसे पसंद नही है, बहुत सारे लोगो का सपना होता है को वो जाके समुन्द्र के किनारे बैठ के डूबते हुए सूरज को देखे ये बड़ा ही मनोरम दृश्य होता है। परन्तु ये भी सत्य है की कुदरत कब शांत से भयावह रूप लेले ये किसी को पता नही होता है। सुनामी तो हम सबको याद होगी हज़ारो लोगो ने अपनी जान गावई थी, तब हमें समुन्द्र के पास जाने से भी डर लगता था।

परन्तु उनके बारे में सोचिए जिनका घर ही समुन्द्र की वजह से चलता है, जी हाँ हम बात कर रहे है मछुवारों की जब वो घर से निकलते है तो उन्हें बिल्कुल भी अंदाजा नही होता है कि समुन्द्र शांत रहेगा या फिर से अपना विराट रूप दिखायेगा, परन्तु अपना घर चलाने के लिए वो अपना जान जोखिम में डाल के समुन्द्र में जाते है इस बात से अनजान की वो सही सलामत वापस भी आ पाएंगे किनारे तक या नही।

 

हमने ज्यादातर पुरूष मछुवारों को ही देखा है समुन्द्र में जाते हुए, परन्तु आज हमआपको भारत की पहली लाईसेंस धारक मछुआरन के बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने अपने बेटियों को पढ़ाने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल के ये काम शुरू किया।

 

के.सी. रेखा का परिचय-

रेखा केरल के थ्रीसुर जिले के चवक्कर में रहती है। उनकी उम्र 45 वर्ष है। रेखा के परिवार के किसी सदस्य ने पहले ये कार्य नही किया था, रेखा पहली सदस्य है अपनी परिवार की, ऐसे तो बहुत सारी महिलाएं समुन्द्र में मछलिया पकरने का कार्य करती है। परन्तु सरकार ने सिर्फ रेखा को अनुमति दी है समुन्द्र में उतरने की।

 

एकलौती लाइसेंस वाली मछुयारीन-

रेखा देश की पेहली महिला है जिन्हें सरकार ने लाइसेंस दिया है, इसके साथ ही समुन्द्र में जाने की इजाजत भी दी है। ये बात आपको आश्चर्यजनक लगेगी परन्तु रेखा के पहले किसी भी महिला को भारत के अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर पर मछली पकरने की अनुमति नही थी ना ही किसी महिला के पास लाइसेंस था।

 

केरल के स्टेट के फिशरीज डिपार्टमेंट ने रेखा को ” डीप शी फ़िशिंगिं लाइसेंस” दिया है। लाइसेंस मिलने के पश्चात प्रीमियर मरीन रिसर्च एजेंसी ” द सेंट्रल मरीन फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट” ने भी रेखा को समानित किया।

 

बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने का किया निश्चय-

 

रेखा का परिवार भी सबकी तरह सुखी परिवार था, रेखा उनके पति और उनकी दो बेटियां सुखी जीवन जी रही थी, परन्तु 2004 में आये सुनामी की वजह से पूरा समुन्द्र तहस नहस हो गया था। रेखा के पति ने फिर से कोशिश करनी चाही परन्तु उनके दो साथियों ने उनका साथ छोड़ दिया, इसका कारण एक तो समुन्द्र का भयावह रूप था जो उन्होंने देखा था, और दूसरा कारण आर्थिक तंगी थी।

रेखा ने दिया पति का साथ-

रेखा का परिवार बुरे हालात से गुजर रहा था, क्योंकि अकेले समुन्द्र में नाव उतारना रेखा के पति की बस की बात नही थी, उनके एक साथी की जरूरत थी, तब रेखा ने अपने पति का साथ दिया और पहली बार समुन्द्र में कदम रखा। क्योंकि उन्हें आर्थिक तंगी से झूझना पर रहा था साथ ही साथ उनकी बेटियों की पढ़ाई भी बाधित हो रही थी, जिसके कारण रेखा ने ये कदम उठाया।

 

रेखा कहती है समुन्द्र की लहरें बहुत भी भयावह होती है, पर वो डरी नही क्योंकि वो जानती थी अगर वो डरी तो उनका घर बिखर जाएगा।

 

देवी पर अटूट विश्वास है रेखा को-

 

मछुआरों के परिवार में ” कदललमा देवी” की पूजा की जाती है, मछुआरों का देवी पर अटूट विश्वास है, क्योंकि ये नदी की देवी मानी जाती है। रेखा रोजाना देवी की पूजा करती है, हर रोज समुन्द्र में जाने से पहले देवी का आशीर्वाद लेती है तभी जाती है, रेखा कहती है ये काम इतना आसान नही है जितना दिखता है।

 

लोग अपने घरों में रेस्टुरेंट में बड़े मजे से मछली खाते है, परन्तु इन मछलियों को समुन्द्र से लाना बहुत ही जोखिम भरा कार्य है। रेखा कहती है ये सब उन्होंने अपने पति से सीख है, मैं थक जाती थी पर उन्होंने मेरा हमेशा साथ दिया और हौसला बढ़ाया। रेखा के पति पी. कार्तिकेयन कहते है कि उन्हें अपनी पत्नी पर गर्व है।

 

तारीफ करते नही थकते पति-

रेखा के पति रेखा की बहुत तारीफ करते है, उनका कहना हैं की अगर समय पर रेखा ने मेरा साथ नही दिया होता तो मेरा पूरा परिवार बिखर जाता, पर रेखा के निडरता से मेरा परिवार आज खुशी खुशी जीवन यापन कर रहा है।

 

रेखा के पति आगे कहते है कि उन्हें इस बात की बहुत खुशी है कि रेखा की मेहनत का फल सरकार ने रेखा को दिया है, क्योंकि लाइसेंस पाने के लिए बहुत से इम्तिहान से गुजरना पड़ता है जैसे- समुन्द्र में मछली पकरने वाले मछुआरों को मौसम की, समुंद्री रास्तो की और खास कर देश की समुंद्री सिमा की परख होनी आवश्यक है। साथ ही साथ एक मछुआरे को अच्छे से विकट परिस्थितियों में भी नाव चलाने का अनुभव होना चाहिए।

आगर अचानक से विकट परिस्थितियों से सामना हो जाएं तो कैसे सुरक्षित तट पर पहुँचे इसका अनुभव होना चाहिए, इसके साथ ही मछलियों की परख होनी चाहिए उनके बारे में सही जानकारी होनी चाहिए। ये सारी नियमो लंबी सरकारी लिस्ट है, जब सरकार के अधिकारी देखते है कि आप ये सब करने के योग्य है, तब आपको सरकार लाइसेंस देती है। अपने परिवार और बेटियों के लिए रेखा में बहुत कुछ सीखा और निडरता से सबका सामना किया है तब वह आज देश की इकलौती महिला लाइसेंस धारक मछुयारीन बनी है।

 

Kheti trend रेखा की हिम्मत की सराहना करता है, साथ ही साथ उन्हें ढ़ेर सारी शुभकामनाएं भी देता है।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

63 COMMENTS

  1. Hi there this is somewhat of off topic but I was wanting to know if blogs
    use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML.
    I’m starting a blog soon but have no coding experience so
    I wanted to get guidance from someone with experience.
    Any help would be enormously appreciated!

  2. hello there and thank you for your information ?
    I’ve certainly picked up something new from right here.
    I did however expertise some technical points using this website, since I experienced to reload the website many times
    previous to I could get it to load correctly.
    I had been wondering if your web host is OK? Not that I’m complaining,
    but slow loading instances times will very frequently affect your placement in google and could
    damage your high-quality score if advertising and marketing with Adwords.

    Well I am adding this RSS to my e-mail and could look out for a lot more of your
    respective intriguing content. Make sure you update
    this again soon.

  3. Terrific post however , I was wondering if you could
    write a litte more on this subject? I’d be very grateful if you could elaborate a little bit further.
    Cheers!

  4. My partner and I stumbled over here coming from a different web
    address and thought I may as well check things
    out. I like what I see so i am just following you.
    Look forward to looking over your web page for a second
    time.

  5. Pretty section of content. I simply stumbled upon your site and
    in accession capital to say that I acquire actually enjoyed account your weblog posts.
    Any way I’ll be subscribing to your augment and even I fulfillment you get right of entry to constantly quickly.

  6. I know this if off topic but I’m looking into starting
    my own weblog and was curious what all is required to get setup?
    I’m assuming having a blog like yours would cost a pretty penny?
    I’m not very web savvy so I’m not 100% certain.
    Any suggestions or advice would be greatly appreciated. Thank you

  7. Great goods from you, man. I’ve understand your stuff previous
    to and you are just extremely wonderful. I actually like what you’ve acquired here, really like what you
    are saying and the way in which you say it. You
    make it entertaining and you still care for
    to keep it smart. I can’t wait to read far more from you.
    This is actually a great website.

  8. Hi! I’ve been reading your blog for a while now and
    finally got the bravery to go ahead and give you a
    shout out from Austin Tx! Just wanted to mention keep up the fantastic job!

  9. hi!,I really like your writing so much! percentage we communicate
    extra approximately your article on AOL? I need a specialist on this house to solve my problem.
    May be that is you! Looking ahead to peer you.

  10. Thanks , I have recently been looking for info about this topic for ages and yours is
    the greatest I’ve found out so far. However, what in regards
    to the conclusion? Are you certain in regards to the source?

  11. Magnificent items from you, man. I’ve be aware your stuff prior to and you’re just too great.
    I actually like what you’ve obtained here, certainly like what you’re stating
    and the way in which wherein you say it. You’re making it
    enjoyable and you continue to care for to keep it sensible.
    I cant wait to learn far more from you. That is really a great
    web site.

  12. Thank you for every other informative site. The place else may just I get that type of information written in such a perfect method?
    I’ve a mission that I’m just now working on,
    and I have been at the glance out for such information.

  13. Just want to say your article is as astonishing.
    The clearness on your submit is simply nice and that i could assume you are
    knowledgeable on this subject. Fine together with your permission allow me to grasp your feed to stay up to date with
    impending post. Thank you one million and please continue the rewarding work.

  14. I just like the helpful info you provide in your articles.
    I’ll bookmark your blog and test once more here regularly.
    I’m fairly certain I will learn plenty of new stuff proper here!

    Good luck for the following!

  15. My brother recommended I would possibly like this website.

    He used to be totally right. This publish
    truly made my day. You cann’t believe simply how a lot time I had
    spent for this info! Thank you!

  16. Aw, this was an exceptionally nice post.
    Taking a few minutes and actual effort to make a great article… but what can I say… I put things off a whole lot and
    don’t seem to get nearly anything done.

  17. Fantastic goods from you, man. I’ve understand your stuff previous
    to and you are just extremely fantastic. I really like what you have acquired
    here, really like what you are saying and the way in which you
    say it. You make it entertaining and you still care for to
    keep it smart. I can not wait to read far more from you. This is actually a tremendous
    site.

  18. I’ll immediately clutch your rss as I can’t in finding your e-mail subscription hyperlink or newsletter service.
    Do you’ve any? Kindly allow me know in order that I may just subscribe.
    Thanks.

  19. Oh my goodness! Awesome article dude! Thank you, However I am experiencing issues
    with your RSS. I don’t understand why I can’t join it. Is there anybody getting similar RSS issues?
    Anyone who knows the solution can you kindly respond?
    Thanks!!

  20. This is very interesting, You’re a very skilled blogger.
    I’ve joined your rss feed and look forward to seeking more of your great post.
    Also, I’ve shared your site in my social networks!

  21. Today, I went to the beach with my children. I found a
    sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.”
    She placed the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear.
    She never wants to go back! LoL I know this is totally off topic but I
    had to tell someone!

  22. Excellent post. I used to be checking continuously this blog and I’m inspired!
    Extremely useful information particularly the last section 🙂
    I take care of such information much. I was looking for this certain info for a long time.
    Thank you and good luck.

  23. Heya! I understand this is somewhat off-topic but I had to ask.

    Does managing a well-established website such as yours require a large amount of work?

    I’m brand new to writing a blog but I do write in my journal everyday.
    I’d like to start a blog so I can easily share my experience and
    feelings online. Please let me know if you have any recommendations or tips for brand
    new aspiring bloggers. Appreciate it!

  24. Hi there, I found your site via Google at the same time as looking for a similar topic, your web
    site came up, it seems to be great. I have bookmarked it in my google bookmarks.

    Hi there, simply become aware of your weblog through Google, and located that it is
    really informative. I am gonna watch out for brussels.
    I will appreciate should you proceed this in future. A lot of other people will be benefited from your writing.
    Cheers!

  25. Hello, Neat post. There is an issue with your site in web explorer, would check this?

    IE nonetheless is the market chief and a big portion of people
    will omit your excellent writing due to this problem.

  26. I do not even know how I ended up here, but I thought this post was great.
    I don’t know who you are but certainly you are going to a famous
    blogger if you are not already 😉 Cheers!

  27. Please let me know if you’re looking for a author for your
    site. You have some really good articles and I believe I would be a good asset.
    If you ever want to take some of the load off, I’d absolutely love to write
    some articles for your blog in exchange for
    a link back to mine. Please blast me an email if interested.
    Kudos!

  28. A person necessarily lend a hand to make seriously articles I might state. This is the very first time I frequented your web page and to this point? I surprised with the analysis you made to create this actual put up extraordinary. Fantastic task!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here