जानिए देश के पहले ट्रांसजेंडर पायलट के बारे में, जिसे माँ ने घर से निकाल दिया था उसने आज पूरे समाज का मान बढ़ाया

15346
first transgender pilot edam herry

आज भी हमारे सामज में कुछ ऐसी चीज़ें है जिसे लेकर लोगो की सोच आज भी नही बदली है, जैसे “ट्रांसजेंडर” को ही देख लीजिए, सरकार ने उनके लिए नए कानून बनाये है परन्तु आज भी उन्हें अच्छी नज़रों से नही देखा जाता है।

आज हम आपको एक ऐसे ही ट्रांसजेंडर के बारे में बताएंगे, जिनके परिवार ने भी उनकी सच्चाई जानने के बाद उन्हें घर से निकाल दिया, परन्तु उस शख्श ने हार नही मानी औए कुछ करने की ठानी आज उनकी सफलता से लोग मिसाल ले रहे है, तो आइए जानते है उनके बारे में।

 

देश के पहले ट्रांसजेंडर पायलट-

एडम हैरी देश के पहले ट्रांसजेंडर पायलट है, जब उनके माता-पिता को इस बात की जानकारी हुई कि वो ट्रांसजेंडर है तो उन्होंने एडम को घर से बाहर निकाल दिया, जब उनके माता-पितां ने उन्हें घर से बाहर निकाला तब उनके पास थोड़े से भी पैसे नही थे जिसकी वजह से उन्हें सड़को पर रात गुजारनी पड़ी, परन्तु उन्होंने हार नही मानी और अपनी मेहनत और सच्चाई से सफलता हासिल की।

सपने को किया पूरा-

एडम का सपना कमर्शियल पायलट बनने का था, अपने सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने प्राइवेट पायलट लाइसेंस का प्रशिक्षण लिया, साल 2017 में उन्हें जोहान्सबर्ग में लाइसेंस भी मिला, उन्होंने ये सोचा था की वो अपने घर वालो को अपने सपने के बारे में बताएंगे, परन्तु उससे पहले उनके माता-पिता को उनके ट्रांसजेंडर होने का पता चल गया और वो लोग एडम से अलग हो गए।

 

दुकान पर भी किया काम-

एडम के पास अपने खर्च निकलने के लिए पैसे नही थे, इस वजह से उन्हें जूस के दुकान पर काम करना पड़ा, हम सभी जानते है कि हमारे समाज मे ट्रांसजेंडर को कैसे नजरिये से देखा जाता है। इतनी परेशानियों के बाद भी एडम ने हिम्मत नही हारी और मेहनत करते गए, उन्होंने सोशल जस्टिस विभाग से अपनी पढ़ाई के लिए मदद मांगी, तो वहां से उन्हें एविएशन एकडेमी को ज्वॉइन करने की सलाह दी गयी।

सरकार ने की मदद-

एडम के इस परेशानी के वक़्त में केरल सरकार ने उन्हें मदद की, उन्हें राज्य सामाजिक न्याय डिपार्टमेंट की तरफ से 22.34 लाख रुपये की स्कॉलरशिप मिली। इस पैसे की मदद से उन्होंने कमर्शियल पायलट का कोर्स पूरा किया, आपको बता दे कि जब वो एविएशन एकडेमी का फॉर्म भर रहे थे तब उन्हें अपने जेंडर को लेके कुछ परेशनियों का सामना करना पड़ा, परन्तु उनके एक शिक्षक ने उनकी मदद की।

हम अपने पाठकों और सबसे निवेदन करना चाहते है कि समय के साथ अपनी सोच में भी बदलाव लाए, हमारी तरफ से एडम हैरी को ढ़ेर सारी शुभकामनाएं।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

8 COMMENTS

  1. Film çekmek için internet hızına bağlı olarak, HD ve HQ Porno ayarlarını
    yapabilir ve bizimle olağanüstü netlikte izlemek için en özel sürümü bulabilirsiniz.
    En güncel haliyle bundan tam anlamıyla yararlanmak için, günün her saatinde yanınızda, erişimi olan bir keyif merkezi olduğunu
    göreceksiniz.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here