इंजीनियर बनने का सपना नहीं हुआ सच तो बेचने लगे दूध, अब जुगाड़ से बना दी देसी फरारी कार

11402
Gorakhpur basti man Shiva Pujan Made jugaad Ferrari car with jugaad

हमारा देश भारत जुगाड़ लगाने के मामले में इतना आगे है कि दुनिया के बड़े-बड़े देश इसका मुकाबला नहीं कर सकते। यहां के युवा अपने खुरापाती दिमाग से आए दिन कुछ न कुछ जुगाड़ लगाकर अपने कठिन काम को आसान बना लेते हैं। आज हम बात करने वाले हैं, गोरखपुर (Gorakhpur) के बस्ती जिले के कप्तानगंज थाना के रौताइनपुर गांव के रहने वाले शिवपूजन की, जिन्होंने अपनी देशी जुगाड़ से एक फरारी कार बना डाला है। अब उनकी वीडियो ट्वीटर पर खूब वायरल हो रही है।

बता दें कि, देशी जुगाड़ से बनाए गए फरारी कार का वीडियो इतना वायरल हो रहा है कि, अब महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा के पास भी पहुंच गया है और उन्होंने इस वीडियो को देखने के बाद शिवपूजन से मिलने की इच्छा जताते हुए ट्वीट किया है।

बचपन से बनना चाहते थे इंजीनियर

शिवपूजन (Shivpujan) का बचपन से ही इंजीनियर बनने का सपना था, लेकिन घर की आर्थिक स्थिति सही नहीं होने के कारण उनका सपना अधूरा रह गया। परिवार के खर्च उठाने के लिए उन्होंने रंगाई-पुताई का काम करना शुरू कर दिया और फिर धीरे-धीरे उनकी दिलचस्पी इस क्षेत्र में बढ़ी और उन्होंने देशी जुगाड़ से करनी शुरू कर दी और दीवारों पर पेंटिंग और राइटिंग करने लगे। लेकिन इससे ज्यादा कमाई नहीं होने के कारण उन्होंने 5 साल पहले वेल्डिंग का काम सीखना शुरू कर दिया और गेट, ग्रिल जैसे सामान बनाना शुरू कर दिया।

Gorakhpur basti man Shiva Pujan Made jugaad Ferrari car with jugaad

कैसे आया फरारी कार बनाने का ख्याल

दरअसल, शिवपूजन (Shivpujan) ने सबसे पहले पेंटिंग का काम शुरू किया और अच्छी कमाई के लिए वेल्डिंग करना शुरू कर दिया। इसी दौरान इनके दिमाग में जुगाड़ू फरारी कार बनाने का विचार आया और उन्होंने इस पर काम करना शुरू करना शुरू भी दिया।

यह भी पढ़ें :- इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ महिला ने शुरु किया महाराष्ट्रीयन खाने का व्यवसाय, आज 14 रेस्टोरेंट की मालकिन हैं

भाइयों ने की मदद

शिवपूजन (Shivpujan) ने जब अपना जुगाड़ू फरारी कार बनाने वाला आइडिया अपने परिवार वालों के सामने रखा तो उनके भाइयों ने मिलकर करीब 1 लाख रुपये तक की मदद की। भाइयों से मिली मदद के बाद शिव पूजन के मन में उत्साह बढ़ा और महज 3 महीने में हीं उन्होंने देसी फरारी कार बनाकर तैयार दिया। जब लोगों ने इस जुगाड़ू फरारी कार को देखा तो उनकी खूब तारीफ की और यह सुनकर इन्होंने अपनी कार को और भी बेहतरीन बनाने की कोशिश करना शुरू कर दिया। अब तक इस मॉडल बनाने में उन्होंने सवा लाख रुपया तक का खर्च कर दिया है।

Gorakhpur basti man Shiva Pujan Made jugaad Ferrari car with jugaad

अब जुगाड़ू फरारी कार से करते हैं अपनी जरूरतों को पूरा

कहते हैं न, आवश्यकता हीं आविष्कार की जननी है। इस लाइन को शिवपूजन ने भी चरितार्थ किया। उन्होंने इस फरारी कार को अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए बनाया था। क्योंकि वे अपनी बाइक से दूध के कनस्तर नहीं ले जा पाते थे। उनकी बस्ती के पास मालवीय रोड पर डेयरी है। शिवपूजन अब रोजाना अपने गांव से फरारी की मदद से दूध के कनस्तरों को शहर लेकर जाते हैं।

Gorakhpur basti man Shiva Pujan Made jugaad Ferrari car with jugaad

युवक ने जुगाड़ू फरारी का वीडियो बनाकर डाला ट्वीटर पर

एक दिन जब शिवपूजन (Shivpujan) अपनी फरारी से दूध के कनस्तर लेकर डेयरी जा रहे थे तो किसी युवक ने उनकी तीन पहिया फरारी को देखकर उसका वीडियो बना लिया और उस वीडियो को ट्वीटर पर शेयर कर दिया। जिसके बाद यह वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है।

एक बार चार्ज करने के बाद 80 किलोमीटर तक नॉनस्टॉप दौड़ सकती है यह कार

शिवपूजन (Shivpujan) ने बताया कि, उनकी कार 55 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से सड़क पर दौड़ती है. उनकी कार में 4 बैटरी लगी हैं, जो 48 वोल्ट का करंट और 1 किलो वाट का पावर पैदा करती है। इस गाड़ी को एक बार चार्ज करने के बाद आप 80 किलोमीटर तक नॉनस्टॉप दौड़ा सकते हैं।

15 COMMENTS

  1. Dicycloverine is an antispasmodic medicine which
    is used to relieve cramps in the stomach and intestines. It helps to ease bloating
    and the spasm-type pain that can be associated with irritable bowel syndrome and
    diverticular disease. It works by causing the muscles of the gastrointestinal system to relax.

  2. Effect of cognitive existential group therapy on survival in early stage breast cancer buy azithromycin tablets 252 While preclinical models showed that this treatment can reverse therapy resistance by targeting CSCs, 253, 254 its function in cancer has not been clinically determined, and liver injury may be a possible serious adverse event

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here