80 रुपये के उधार से शुरू हुआ था काम, आज लिज्जत पापड़ का करोड़ों का बिज़नेस बन चुका है

1209
history of lizzat papad

हम भारतीय खाने के बहुत शौकीन है, हम तरह- तरह के व्यंजन बनाते है और उनका स्वाद चखते है, परन्तु बात अगर शाकाहारी खाने की हो और उसमे पापड़ ना आए ऐसा तो हो नही सकता है, बच्चे हो या बुजुर्ग सबको पापड़ पसंद होता है खाने में, वो भी कोई भी पापड़ नही बल्कि हमारे यहाँ की सबसे मशहूर “लिज्जत पापड़”। लिज्जत पापड़ की सबसे खास बात ये है कि समय चाहे कितना भी बित गया हो परन्तु, इसके स्वाद में कोई बदलाव नही आया है, आज भी इसका स्वाद वैसा ही है जैसा कि सालों पहले हुआ करता था, इसलिए तो ये सबकी पसंदीदा पापड़ है, आइए आज हम आपको लिज्जत पापड़ कैसे बनना शुरू हुआ उसकी कहानी से परिचित करवाते है।


कैसे हुई शुरुआत-

अपने घर को आर्थिक रूप से मजबूत करने की सोच से साल 1959 में 7 सहेलियों ने मिलकर लिज्जत पापड़ बनाने का कार्य शुरू किया, इस बात से बिल्कुल अनजान की उनके बनाये गए पापड़ इतने पसंद किये जायेंगे। ये सारी सहेलियां मुम्बई की रहने वाली है जिनके नाम है- जसवंती बेन, पार्वतीबेन रामदास ठोदानी, उजमबेन नारंदास कुण्डलिया, बानुबेन तन्ना, लागूबेन अमृतलाल गोकानी, जया बेन बिठलानी। इन सातों सहेलियों ने अपने घर पर ही पापड़ बनाने का कार्य शुरू किया, और एक और महिला को पापड़ बेचने का काम दिया।

दुसरो से उधार लेकर शुरू किया पापड़ बनाना-

इन सात सहेलियों ने कभी भी ये सोच कर पापड़ बनाना शुरू नही किया था कि उनके पापड़ का एक दिन इतना नाम होगा और लोग इसे इतना पसंद करेंगे, बल्कि अपने घर के खर्च चलाने के लिए इन सातों सहेलियों ने पापड़ बनाना शुरू किया था। परन्तु समस्या ये थी की इन सातों की आर्थिक स्थिति बिल्कुल भी अच्छी नही थीं तो पापड़ बनाने की सामग्री और मशीन कहा से आएगी क्योंकि उनके पास तो पैसे ही नही थे। फिर इन सातों सहेलियों ने छगनलाल पारेख से 80 रुपये उधार लिया और पापड़ बनाने का कार्य शुरू किया, छगनलाल पारेख सर्वेंट ऑफ इंडिया सोसाइटी के अध्यक्ष और सामाजिक कार्यकर्ता थे।


4 पैकेट पापड़ बनाने से किया शुरुआत-

उधार के पैसों से इन सहेलियों ने पापड़ बनाने की मशीन और सामग्री खरीदी, और शुरू में इन्होंने मात्र 4 पैकेट पापड़ बनाये और एक दुकानदार को बेच दिया। इन सातों सहेलियों के पापड़ सबलोगों ने बहुत पसंद किया, इसलिए दुकानदार ने इनसे और पापड़ बनाने की मांग की। इन सहेलियों की मेहनत रंग लाई क्योंकि अब लिज्जत पापड़ सबका पसन्दीदा पापड़ बन गया था और इसकी डिमांड दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही थी, जिनसे इन सातों सहेलियों ने उधार पैसे लिए थे अपने पापड़ का बिजनेस शुरू करने के लिए उन्होंने ही इन्हें बताया कि पापड़ की ब्रांडिंग और मार्केटिंग कैसे की जाती है।

60 से अधिक ब्रांच और 1600 करोड़ का बिजनेस है वर्तमान में-


साल 1962 में इस पापड़ बनाने वाली संस्था का नाम ” श्री महिला उधोग लिज्जत पापड़” रखा गया। साल 2002 में लिज्जत पापड़ कंपनी का टर्नओवर 10 करोड़ रुपये थे, आज लिज्जत पापड़ के 60 से अधिक ब्रांच है और इस कंपनी में 45 हज़ार से अधिक महिलाएं कार्य करती है, ये इन सातों सहेलियों की बहुत बड़ी उपलब्धि है कि मात्र 80 रुपये से शुरू किया गया ये कार्य आज 1600 करोड़ रुपये का बिजनेस बन गया है।

 

लिज्जत पापड़ की कामयाबी देख के बहुत सारी महिलाएं गृह- उधोग की तरह आकर्षित हो कर कार्य करना शुरू कर रही है, इन सातों सहेलियों की हम जितनी तारीफ करे उतनी कम है, इन सब से हमे प्रेरणा लेनी चाहिए, हमारी तरफ से इन सातों सहेलियों और लिज्जत पापड़ के प्रत्येक कर्मचारी को ढ़ेरों शुभकामनाएं।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

18 COMMENTS

  1. Нey! I know this is somewhat off-topіc but I had to
    ask. Does oerating a well-established blog like yоurs
    tqke a massiѵe amount work? I’m brand new to operating a
    blog howevrr I do write in my journaql daily. I’d like to start a blog so I сan share
    my own experience andd feelings online. Pleаse let mme know if you
    have any kind of ѕuggestions orr tips for new aspiring blog owners.
    Appreciate it!

    Fеel free to visit my weƄ-site … slot online

  2. After lkoking into a handful of the articles on your web page, I truly
    like your way of writing a blog. I saved it to my bookmark website list and will bbe checking back soon. Take a look
    at my web site too and let me know how yyou feel.

    My weeb siye chaturbate.llc

  3. certainly like your web-site however you need to check the spellig on quite a few of your posts.Manny of
    them arre rife with spelling problms and I find it verry troublesome to tell the reality on the other
    hand I will definitely come again again.

    Feel free too visit my website: what is naked girls

  4. Heey there! I’ve been following your web site for some time now and finally got the bravery to go
    aheead and give you a shout out from Houston Texas!
    Just wanted to mentfion keep up the excellent job!

    my web site … Chaturbate

  5. May I simply just say what a comfor to uncover an individual who truly knows what they’re ttalking about over the internet.
    You certainly know how too bring a problem to light
    and make it important. More people ought to read this and understand
    this side of your story. It’s surprising you’re not more popular because
    youu surely have the gift.

    Here is my web blog – https://coldwarexperience.com/community/profile/gehmajor6611669

  6. I would like to thank you for the efforts you have put in penning this website.

    I am hoping to see the same high-grade content by you
    later on as well. In fact, your creative writing abilities has motivated me to get
    my own, personal site now 😉

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here