ग्रामीण परिवेश से रहकर निखारा अपना भविष्य, यूपीएससी की परीक्षा में हासिल किया 5वां स्थान: ममता यादव

129
IAS Success story of Mamta Yadav From Haryana

लोगों के मन की यह व्यथा होती है कि जो बच्चे गांव के परिवेश में पलते-बढ़ते हैं, वे थोड़े अलग ही स्वभाव के होते हैं। वे किसी सफलता की ऊँचाई को हासिल नहीं कर सकते लेकिन हर बार लोगों के मन की व्यथा को मिटाने के लिए गांव के परिवेश वाले बच्चे कुछ ऐसा कार्य कर जाते हैं, जिससे लोगों की बोलती बंद हो जाती है।

आज हम आपको एक ऐसी लड़की की कहानी बताएंगे जिसने छोटे गांव के परिवेश में रहकर खुद को इस काबिल बनाया की यूपीएससी (UPSC) जैसे कठिन एग्जाम को क्रैक कर आईएएस (IAS) बनी हैं।

IAS Success story of Mamta Yadav From Haryana

यूपीएससी की परीक्षा में लाई 5वां रैंक

ममता यादव (Mamta Yadav) ने यूपीएससी (UPSC CSE 2020) में पूरे इंडिया में 5वां रैंक हासिल किया है। उनका ताल्लुक हरियाणा (Haryana) बसई ग्राम से है। ममता अपने ग्राम की वह पहली महिला हैं, जिन्हें ये सफलता हासिल हुई है। उनके इस सफलता से सिर्फ उनकी फैमिली ही नहीं पूरी गांव बहुत खुश है। -IAS Success story of Mamta Yadav From Haryana

IAS Success story of Mamta Yadav From Haryana

कोचिंग के साथ किया सेल्फ स्टडी भी

अपनी शुरुआत की शिक्षा सम्पन्न करने के उपरांत उन्होंने ग्रेजुएशन किया। आगे उन्होंने यूपीएससी (UPSC) की तैयारी प्रारंभ की। हालांकि उन्हें अपने पहले प्रयास में सफलता हाथ लगी लेकिन वे इससे असंतुष्ट थी। उन्होंने कोचिंग के साथ-साथ मन लगाकर पढ़ाई की और उनकी परिश्रम का फल उन्हें जल्द ही प्राप्त हुआ। उन्होंने दूसरे प्रयास में ही यूपीएससी (UPSC) क्रैक कर आईएएस (IAS) का पोस्ट हासिल किया। -IAS Success story of Mamta Yadav From Haryana

IAS Success story of Mamta Yadav From Haryana

किया अपने सपने को साकार

उन्होंने तैयारी के दौरान एनसीईआरटी (NCERT) के साथ अन्य स्टैंडर्ड बुक की भी मदद ली। उनका मानना है कि अगर आप सही दिशा में प्रयास कर रहें हैं तो आपको सफल होने से कोई भी नहीं रोक सकता। -IAS Success story of Mamta Yadav From Haryana

IAS Success story of Mamta Yadav From Haryana

अन्य कैंडिडेट्स को सलाह

वे अन्य कैंडिडेट्स को यह सलाह देती हैं कि आप बेहतर रणनीति के साथ अपनी तैयारी करें। अपने लक्ष्य को लेकर हमेशा आगे की तरफ अग्रसर रहिए। एन्सर लिखते रहिए और अपने तैयारी का एनालिसिस भी जारी रखिए। -IAS Success story of Mamta Yadav From Haryana

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here