इंदौर का यह आर्टिस्ट कचड़ें से बनाता है खुबसूरत कलाकारी, अभी तक कई बड़े लोगों की तस्वीर बना चुके हैं

2941
Indore artist Sunil Vyas makes beautiful artwork from waste

हम सभी ने अपने बचपन में स्कूल में बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट तो सुना ही होगा। जिसमे हर शिक्षक हमे खराब और वेस्ट मैटेरियल से कुछ काम का बनाने को कहते और सिखाते थे। हमे बचपन में हमेशा स्कूल में यह शिक्षा दी जाती थी। कि हमे कम से कम प्लास्टिक का इस्तेमाल करना चाहिए। इसकी वजह यह होती है की प्लास्टिक को रीसाइकल नही किया जा सकता है। यह बहुत सालो बाद रीसाइकल हो पाता है। जिससे हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है। इसके अलावा भी हमे यह इसलिए सिखाया जाता था ताकि हम चीजों का अच्छे से प्रयोग करना सीखे। न कि उन्हे बर्बाद करें। बल्कि जो चीजे हमारे काम की नही होती है। उसका भी हमे किसी न किसी तरह प्रयोग करना चाहिए। दुनिया में आने वाले समय में बहुत सी चीजों की कमी हो जायेगी क्योंकि आज कल के बच्चे इन सब चीजों से बहुत परे है। उन्हे इन सब के बारे में कुछ नही पता होता और न ही उन्हे इसके बारे में सिखाया जाता है। जब कि वेस्ट मैटेरियल को दुबारा से इस्तेमाल करना बहुत जरूरी हैं। हमारे देश में आज बहुत तरह के कलाकार है। उनमें से कुछ कलाकार ऐसे भी है जिन्हे वेस्ट मैटेरियल का इस्तेमाल करना बहुत अच्छे से आता है। आज हम बात करेंगे एक ऐसे ही कलाकार की……

*कौन है वह शख्स…….

आज हम जिनके बारे में बात करने जा रहे है, उनका नाम है सुनील व्यास (Sunil Vyas) जो इंदौर (Indore) के रहने वाले है। जो कि बहुत खूबसूरत शहर है। वह एक ऐसे कलाकार है, जिन्हे वेस्ट मैटेरियल जैसे प्लास्टिक, पेपर आदि इन सबसे बहुत सुंदर कलाकृतियां बनानी आती है। वह वेस्ट मैटेरियल का बहुत अच्छा उपयोग करते है। उन्हे बचपन से ही पेंटिंग का बहुत शौंक था। बड़े होकर उन्होंने वेस्ट मैटेरियल का सही उपयोग करने के बारे में सोचा। तो जो कला उन्हे आती थी। उसकी मदद से उन्होंने वेस्ट मैटेरियल को इकठ्ठा करके उस पर पेंटिंग करके कलाकृतियां बनाना शुरू कर दिया। अब तक उन्होंने बहुत बड़ी बड़ी हस्तियों की कलाकृतियां बनाई है। उन्होंने वेस्ट मैटेरियल को इक्कठा करके प्रधान मंत्री मोदी, और अमिताभ बच्चन जैसी कई बड़ी हस्तियों की भी कलाकृतियां बनाई है।

Indore artist Sunil Vyas makes beautiful artwork from waste

यह भी पढ़ें:- MBA में फेल होने पर युवक ने शुरु किया चाय का दुकान, अब हो रही है करोड़ों रुपये की कमाई: MBA ChaiWala

*कोरोना काल……

इस समय जब सारे देश में लॉकडाउन लगा हुआ था। और किसी का भी काम नही चल रहा था। बहुत लोगो ने तो अपनी नौकरी तक खो दी। और कई लोगो को अधिक नुकसान होने के कारण अपना कारोबार भी बंद करना पड़ा था। यह समय सभी के लिए बहुत मुश्किल था। परंतु सुनील के लिए नही उनके काम को ईस महामारी से कुछ जायदा फरक नही पड़ा था। कोरोना काल में भी उनकी कलाकृतियों की मांग बढ़ती ही नज़र आई। उनका काम रुका नही, बल्कि बढ़ता गया। जिससे उन्हे कोरोना काल में किसी भी तरह की मुश्किल का सामना नहीं करना पड़ा। इससे पहले वह कई एग्जिबिशन में जाया करते थे। और कई जगह जा कर ऐसी कई प्रतियोगिताओ में भाग लेते थे और अपनी बनाई हुई कलाकृतियां बेचते थे। उनकी हर कलाकृति इतनी सुंदर होती है कि हर व्यक्ति उनकी तारीफ करता रह जाता है।

Indore artist Sunil Vyas makes beautiful artwork from waste

*नही ली इसकी कोई शिक्षा…..

सुनील बताते है कि उन्होंने वेस्ट मैटेरियल से सुंदर कलाकृतियां बनाने की कोई शिक्षा ग्रहण नही की है। वह खुद ही रोजाना कुछ न कुछ नया सीखने की कोशिश करते रहते है। वह हमेशा सीखने के लिए त्यार रहते है। जिसके कारण वह आए दिन कुछ न कुछ वेस्ट मैटेरियल से खुद से बनाने की कोशिश करते रहते है। अगर कोई व्यक्ति खुद से कुछ सीखने का प्रयास करता है। तो वह उस चीज को बहुत अच्छे से सिख पाता है। सुनील भी खुद से सीखते थे। जिसके कारण वह बहुत सुंदर कलाकृतियां बनाते थे। और सभी को उनकी यह कला बहुत पसंद आती थी सभी उनकी बहुत तारीफ करते थे। यहां तक कि कोरोना काल में भी उनकी कलाकृतियों की मांग की गई थी। जिसके कारण उन्हे उस मुश्किल समय में भी किसी मुश्किल का सामना नहीं करना पड़ा था।

Indore artist Sunil Vyas makes beautiful artwork from waste

**प्रेरणा…….

सुनील व्यास जैसे लोग ही देश में बदलाव लाने का हौसला रखते है। हम लोग इस बात का अंदाजा भी नहीं लगा सकते कि दिन भर में कितना प्लास्टिक हमारे देश में इक्कठा होता है। हम में से यह बात बहुत कम लोग जानते है कि प्लास्टिक हमारे पर्यावरण को किस हद्द तक प्रदूषित करता है। सुनील जैसे व्यक्ति कुछ ऐसे तरीके लेकर आते है जो हमारे पर्यावरण को सुरक्षित रखे। सुनील को बचपन से ही पेंटिंग का शौंक था। जिसके माध्यम से उन्होंने वेस्ट मैटेरियल का इस्तेमाल करना खुद से शुरू किया। और देखते ही देखते बहुत सुंदर कलाकृतियां बनाने लगे। वह वेस्ट मैटेरियल और पेंट की मदद से बड़ी बड़ी हस्तियों की कलाकृति बना चुके है। उनकी यह शुरुवात सच में लोगो को प्रेरित करने लायक है। आज कल लोग पर्यावरण के बारे में बिलकुल नहीं सोचते है। और प्लास्टिक का इस्तेमाल करके उन्हे फेक देते है। चाहे उन्हे पता हो या न हो की प्लास्टिक हमारे पर्यावरण को कितना नुकसान पहुंचाते है।
हाल ही में भारत सरकार ने भी इसके प्रति एक नई शुरुवात की है। जो कि प्लास्टिक थैली को बंद करने की है। भारत सरकार ने हर जगह पर प्लास्टिक की थैली का इस्तेमाल करना बंद करा दिया है। हम लोगो को भी देश के प्रति अपना कर्तव्य निभाना चाहिए। और अपने देश को सुरक्षित रखने के लिए वेस्ट मैटेरियल का इस्तेमाल करना चाहिए।

71 COMMENTS

  1. Hey! This is kind of off topic but I need some guidance from an established blog. Is it hard to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty quick. I’m thinking about setting up my own but I’m not sure where to begin. Do you have any ideas or suggestions? Appreciate it

  2. The very crux of your writing whilst sounding agreeable originally, did not really settle well with me personally after some time. Somewhere throughout the paragraphs you managed to make me a believer unfortunately just for a short while. I however have a problem with your jumps in logic and one would do nicely to help fill in all those gaps. If you can accomplish that, I would definitely end up being amazed.

  3. I aam really loving tһe theme/design of yoսr blog.
    Do yоuu ever run into any weЬ brօwser c᧐mpаtibility іssues?

    A couple of my blog audience һave complained about myy weƄsite nnot
    operating correctly in Exxρⅼorer but looks great iin Firefox.
    Do you һave anyy suggestions to help fix this issue?

  4. I have been surfing online more than three hours today, yet I never found any interesting article like yours.
    It is pretty worth enough for me. In my opinion, if all web owners and bloggers made good content as you did, the internet
    will be much more useful than ever before.

    My homepage Slot Online

  5. Hello! I understand this is somewhat off-topic however I had to ask.
    Does running a well-established website like
    yours require a large amount of work? I am completely new to blogging but I do write
    in my diary on a daily basis. I’d like to start a blog so I will be able to share my own experience and views online.
    Please let me know if you have any recommendations or tips for new aspiring blog
    owners. Thankyou!

  6. Oh my goodness! Impressive article dude! Thanks, However I am having difficulties with your
    RSS. I don’t understand why I am unable to join it.
    Is there anybody having the same RSS issues? Anybody who knows the solution can you
    kindly respond? Thanx!!

    my homepage Mesin 138 Slot

  7. Hi there, i read your blog occasionally and i own a
    similar one and i was just wondering if you
    get a lot of spam comments? If so how do you reduce it, any plugin or anything
    you can suggest? I get so much lately it’s driving me mad so any support is very much appreciated.

  8. It’s a pity you don’t have a donate button! I’d definitely
    donate to this excellent blog! I guess for now i’ll settle for bookmarking and adding
    your RSS feed to my Google account. I look forward to new updates and
    will talk about this blog with my Facebook
    group. Chat soon!

  9. Hello, I think your blog might be having
    browser compatibility issues. When I look at your blog site in Opera, it looks fine but
    when opening in Internet Explorer, it has some overlapping.
    I just wanted to give you a quick heads up! Other
    then that, very good blog!

  10. Superb blog! Do you have any hints for aspiring writers?

    I’m planning to start my own website soon but I’m
    a little lost on everything. Would you recommend starting with
    a free platform like WordPress or go for a paid option? There are so many choices
    out there that I’m totally overwhelmed .. Any ideas?
    Appreciate it!

  11. I really like your blog.. very nice colors & theme. Did you design this website yourself
    or did you hire someone to do it for you? Plz respond as I’m looking to design my own blog and would
    like to know where u got this from. thank you

  12. Just wish to say your article is as astonishing. The clarity in your post
    is just spectacular and i can assume you are
    an expert on this subject. Well with your permission let me to grab your RSS feed to keep updated
    with forthcoming post. Thanks a million and please carry
    on the enjoyable work.

  13. Pretty section of content. I just stumbled upon your blog and in accession capital to claim that I get
    actually enjoyed account your blog posts. Any way I’ll be
    subscribing to your feeds and even I fulfillment you
    get admission to persistently fast.

  14. Bende bitmiştim bundan annesi kızını ogluna siktirmesi yığıldık kaldık.
    Hadi yala. Baktım hala ses yok çıktım diğer odalara baktım.
    Kesintisiz yapma olmamakta diyordu dinleyecek halim yoktu.
    Aynı zamanda 31 çekiyordu o an beynimden vurulmuştum.
    çığlıklar atmaya başladık. Sanırım banyoya gidiyordu, bir gün gece.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here