16 वर्ष की आयु में खो दी थी सुनने की शक्ति, कठिन मेहनत से पहले ही प्रयास में UPSC की परीक्षा पास कर IAS बनी

308
Inspirational Story of IAS Saumya Sharma

कहते है न, “मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है, पंखों से कुछ नहीं होता, हौसलों में उड़ान होती है। जी हां, आज हम आपको एक ऐसी महिला से रूबरू कराने वाले हैं, जिन्होंने अपने हौसलें को बुलंद रख बिना किसी कोचिंग क्लास के ही यूपीएससी एग्जाम में पहली प्रयास में सफलता हासिल किया है तथा आज आईएएस बन देश में अपनी एक अलग पहचान स्थापित की है।

तो आइए जानते हैं उस महिला से जुड़ी सभी जानकारियां :-

कौन है वह महिला?

हम दिल्ली (Delhi) की रहने वाली सौम्या शर्मा (IAS Saumya Sharma) की बात कर रहे हैं, जिन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई भी दिल्ली से हीं पूरी की है। उनके माता-पिता पेशे से डॉक्टर हैं, इसलिए वे लोग इनके पढ़ाई-लिखाई को लेकर काफी जागरूक रहते थे।

बता दें कि सौम्या भी हमेशा से पढ़ाई में अच्छी थीं और उन्होंने 10वीं क्लास में टॉप भी किया था। 12 की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने नेशनल लॉ स्कूल से वकालत की डिग्री हासिल की है।

Inspirational Story of IAS Saumya Sharma

वकालत करने के बाद किया आईएएस की तैयारी

सौम्या शर्मा (IAS Saumya Sharma) ने अपनी शुरुआती पढ़ाई दिल्ली से पूरी करने के बाद नेशनल लॉ स्कूल से कानून की पढाई में ग्रेजुएशन किया। यूपीएससी के एग्जाम में शामिल होने का विचार उन्हे ग्रेजुएशन के पांचवे साल में आया और उसके बाद उन्होंने UPSC एग्जाम देने का मन बना लिया।

यह भी पढ़ें :- पिता बेचते थे तीर-धनुष, बेटी ने केरल की पहली आदीवासी IAS अधिकारी बनकर रचा इतिहास

बचपन में हीं खोई सुनने की क्षमता

सौम्या शर्मा (IAS Saumya Sharma) ने महज 16 साल की उम्र में हीं अपनी सुनने की क्षमता खो दिया था। इनके माता-पिता इनकी इलाज के लिए कई जगहों पर गए लेकिन कुछ फायदा नहीं मिल पाया।

बता दें कि, वे अपनी सुनने की क्षमता 90-95 फीसदी खो दी थी, जिसकी वजह से उन्हें हियरिंग एड का इस्तेमाल करना पड़ता है।

बिना कोचिंग क्लास की यूपीएससी की तैयारी

सौम्या शर्मा ( IAS Saumya Sharma) ने यूपीएससी की तैयारी करने का मन नेशनल लॉ कॉलेज में पढाई करने के दौरान पांचवे साल में बनाया था लेकिन उन्होंने यूपीएससी की तैयारी के लिए किसी कोचिंग क्लास जॉइन करना सही नहीं समझा बल्कि सेल्फ स्टडी करना सही समझा। सबसे ज्यादा प्रेरित करने वाली यह बात है कि उन्होंने सिर्फ चार महीने की तैयारी से हीं देश के कठिन एग्जाम UPSC को क्लियर कर लिया है।

Inspirational Story of IAS Saumya Sharma

परीक्षा के दिन था 104 डिग्री बुखार

सौम्या शर्मा ने यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) में मेहनत और संघर्ष के बदौलत 4 महीनों में हीं यूपीएससी की प्रीलिम्स परीक्षा (UPSC Prelims Exam) को क्वालिफाई कर लिया।

बता दें कि, परीक्षा के दिन उन्हें 102 से लेकर 104 डिग्री तक बुखार रहा था, जिसके बावजूद भी हार न मानते हुए उन्होंने बेहोशी की हालत में भी परीक्षा दी। उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा में ऑल इंडिया लेवल पर 9वीं रैंक हासिल किया और आज आईएएस बनकर समाज को प्रेरित कर रही हैं।

सौम्या का नए कैंडिडेट्स को दिया सलाह

सौम्या शर्मा ने अपने एक इंटरव्यू में बताया था कि सही गाइडेंस के साथ यूपीएससी में सफलता हासिल करना आसान हो सकता है। यदि आपके पास यूपीएससी के तैयारी के दौरान सही गाइडेंस नहीं है तो इसके लिए कोचिंग जॉइन कर सकते हैं या आपके पास सही नॉलेज है तो कोचिंग के बिना सेल्फ-स्टडी करकर भी तैयारी कर सकते हैं।

निधि बिहार की रहने वाली हैं, जो अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अभी बतौर शिक्षिका काम करती हैं। शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करने के साथ ही निधि को लिखने का शौक है, और वह समाजिक मुद्दों पर अपनी विचार लिखती हैं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here