देहरादून के जय शर्मा ने 100 अनाथ बच्चों को गोद ले लिया, इससे नेक कार्य कुछ भी नही

725
jai sharma adopted 100 orphans

हम सभी जानते है कि कोरोना की वजह से पूरा देश परेशान है, परन्तु सबसे अधिक परेशानी उन बच्चो को है जिन्होंने कोरोना की वजह से अपने माता-पितां को खो दिया है, और अनाथ हो गए है, अगर हम उनकी मदद भी करेंगे तो कितने दिन, कोई उन बच्चो के माता-पिता की कमी नही पूरी कर सकता है उनके जीवन मे, परन्तु आज हम आपको एक शख्श के बारे में बताएंगे जिन्होंने इन बच्चो को गोद लेकर उनके जीवन को खुशहाल बनाने का संकल्प लिया है।

जय शर्मा का परिचय-

जय शर्मा देहरादून में सोशल वर्क का कार्य करते है, उन्होंने 100 बच्चो को गोद लिया है जिन्होंने इस महामारी में अपने माता-पिता को खो दिया है, उनका “JOY” ( just open yourself) नाम का NGO है, वो अब तक 20 बच्चो को गोद ले चुके है।

बच्चो की लेंगे जिमेदारी-

अपने फेसबुक पर शेयर की एक वीडीओ में जय कहते है कि जब कोरोना की दूसरी लहर शुरू हुई तब ऐसे 5 परिवार थे जिन बच्चो के माता-पिता दोनो का देहांत हो गया था और बच्चे अनाथ हो गए थे, वो बच्चे अपने घर पर अकेले थे जिनमें से कुछ बच्चे 4- 5 साल के थे तो कुछ 12 साल के और कुछ छोटे बच्चे भी थे, जैसा कि हम सब जानते है कि कोरोना की लहर रुकने का नाम ही नही ले रही थी, प्रतिदिन केस में बढ़ोतरी हो रही थी, आगे उनका कहना है कि वो अगले हफ्ते 50 और बच्चो को गोद लेंगे उसके बाद फिर 100 और बच्चो को गोद लेंगे। जय कहते है कि वो उन सारे बच्चो का तब तक ध्यान रखेंगे जब तक वो अपने पैरों पर खड़े नही हो जाते।

लोगो को मदद भी मुहैया करा रहे है-

आपको बता दे कि अभी तक जय ने उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग, जोशीमठ और उत्तरकाशी जिले के बच्चो को गोद लिया है, इसके साथ ही वो और उनकी टीम गांव तक पहुँच के अपने NGO की तरफ से लोगो तक ऑक्सीजन सिलिंडर, मास्क, फर्स्ट एड किट और भी बाकी मेडिकल इक्विपमेंट भी पहुँचा कर लोगो की सहायता कर रहे है।

हम जय शर्मा के नेक काम को सत-सत नमन करते है और उन्हें ढ़ेर साए शुभकामनाएं भी देते है।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here