मसालें की कम्पनी से बनाई एक अलग पहचान, जानिए कितनी संपत्ति के मालिक थे MDH मसालों के ऑनर धर्मपाल गुलाटी

524
know Property of MDH Owner Dharampal Gulati

हम बचपन से ही घरों में MDH मसालें का इस्तेमाल होते और TV पर प्रचार देखते आ रहे हैं। शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जिसे MDH मसालें का लजीज़ स्वाद पसंद न हो, लेकिन यह शुरू से ही हर घर की पहली पसंद रह चुका है।

मसालों के किंग माने जाने वाले MDH के मालिक धर्मपाल गुलाटी (Dharampal Gulati) हैं, जिन्होंने मसालें की कंपनी से पूरी दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई। उन्होंने अपने जीवन में काफी संघर्ष किया तब जाकर वे सफलता के शिखर तक पहुंचे। ऐसे में आइए जानते हैं उनके और उनकी प्रॉपर्टी के बारे में।

आज भी लोगों के लिए प्रेरणास्त्रोत हैं

मसालों के किंग कहे जाने वाले धर्मपाल गुलाटी जी (Dharampal Gulati) का दिल का दौरा पड़ने से 3 दिसंबर 2020 को 97 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया। गुजर जाने के बाद भी वह आज भी लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत बने हुए हैं।

know Property of MDH Owner Dharampal Gulati
आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण छोड़नी पड़ी पढ़ाई

धर्मपाल गुलाटी जी का जन्म पाकिस्तान के सियालकोट में वर्ष 1952 में हुआ था। बंटवारे के बाद उनका परिवार भारत आ गया। उनका बचपन बेहद गरीबी में व्यतीत हुआ। आर्थिक स्थिति इतनी दयनीय थी कि पांचवी कक्षा में ही उन्हें अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ गई। धर्मपाल गुलाटी के पिता एक मसाले की दुकान चलाते थे जिसका नाम एमडीएच था। बंटवारे के बाद भारत आने पर घर परिवार चलाने के लिए वह दिल्ली में तांगा चलाने का काम करने लगे।

कैसे हुई MDH की शुरुआत

गुलाटी जी ने वर्ष 1952 में दिल्ली के चांदनी चौक पर एक दुकान किराए पर ली और फिर से मसालों का काम शुरू किया। उन्होंने इस दुकान का नाम भी एमडीएच ही रखा। मसालें मशहूर होने के बाद धीरे-धीरे उनका व्यापार बढ़ने लगा, जिसके बाद उन्होंने मसालों की फैक्ट्री लगा ली।

बने सबसे अधिक सैलरी लेने वाले CEO

गुलाटी जी ने काफी संघर्षों का सामना किया और आखिरकार उनकी मेहनत इस कदर रंग लाई कि देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी उनके मसाले पसंद किए जाने लगे। वर्ष 2017 के एक रिपोर्ट के अनुसार गुलाटी जी भारत के सबसे अधिक सैलरी लेने वाले सीईओ थे उनकी सैलरी ₹21 करोड़ थी।

know Property of MDH Owner Dharampal Gulati

चैरिटेबल ट्रस्ट का किए स्थापना

समाज सेवा में आगे रहने वाले गुलाटी जी ने एक चैरिटेबल ट्रस्ट भी चलाया। इस ट्रस्ट का नाम उन्होंने अपने पिताजी के नाम पर “महाशय चुन्नी लाल चैरिटेबल ट्रस्ट” रखा। इस ट्रस्ट के द्वारा उन्होंने 250 बेड वाला हॉस्पिटल ही बनाया, जिसमें गरीब बस्तियों में रहनेवाले लोगों का फ्री में इलाज किया जाता है। साथ ही इस ट्रस्ट के द्वारा एक ही विद्यालय भी चलाया जाता है जहां बच्चों में मुफ्त में शिक्षा का दीप जलाया जाता है।

बनाए 54 सौ करोड़ की प्रॉपर्टी

बंटवारे के बाद गुलाटी जी (Dharampal Gulati) ने जब पाकिस्तान से भारत आया आए थे, तब उनके पास केवल ₹100 थे। लेकिन एक रिपोर्ट के अनुसार 2017 में एमडीएच कंपनी का नेट प्रॉफिट 213 करोड़ रुपए था। 54 सौ करोड़ की प्रॉपर्टी बनाकर वे दुनिया को अलविदा कह गए। -Property of MDH Owner Dharampal Gulati.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here