नैनीताल अपनी ख़ूबसूरती के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। इस खूबसूरत हिल स्टेशन पर हर मौसम में पर्यटकों की भीड़ रहती है। नैनीताल में ऐसे कई ख़ूबसूरत जगहें हैं, जो पर्यटकों को यहां आने पर मजबूर कर देता है। उनमें से एक है मुक्तेश्वर, जो नैनीताल से 51 किमी दूर है। मुक्तेश्वर अपनी ख़ूबसूरत वादियों के लिए प्रसिद्ध है। आज हम आपको मुक्तेश्वर के एक गांव के बारे में बताएंगे, जो इन दिनों लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। हालांकि अब भी यह गांव गूगल मैप की पहुंच से बाहर है। – You can enjoy the environment by visiting Banlekhi village of Nainital.

बनलेखी गांव

मुक्तेश्वर का यह ख़ूबसूरत गांव जहां चारों ओर हरे-भरे पहाड़, दूर-दूर तक फ़ैले हिमालय की ऊंची-ऊंचीं चोटियां, ठंडी व शुद्ध हवा और चिड़ियों का चहकना इस गांव की ख़ूबसूरती पर चार चांद लगाते हैं। आपको बता दें कि बनलेखी मुक्तेश्वर का सबसे दूर दराज वाला गांव माना जाता है। यहां आपको उत्तराखंड की असल संस्कृति की झलक देखने को मिल सकती है। इसके अलावा यहां पैदल यात्रा करने में भी आपको एक अलग अहसास होगा। इस गांव के लोग बिना आपको पहचाने भी अपने घरों में आने का निमंत्रण देते हैं। – You can enjoy the environment by visiting Banlekhi village of Nainital.

Mystery Village Banlekhi

भालू गाढ़ वॉटरफ़ॉल पर्यटकों के आकर्षण का मुख्य केंद्र है

बनलेखी से 12 किमी दूर स्थित भालू गाढ़ वॉटरफ़ॉल पर्यटकों के आकर्षण का मुख्य केंद्र है। चारों तरफ से पहाड़ों से घिरा यह वॉटरफ़ॉल बेस्ट पिकनिक स्पॉट भी है। यहां आपको कई तरह की पक्षियां देखने को मिल सकती है।

Mystery Village Banlekhi

मुक्तेश्वर धाम

इस गांव के आस-पास शिव मंदिर, राजारानी मंदिर और ब्रह्माश्वर जैसे कई मंदिर हैं। हालांकि मुक्तेश्वर धाम इस क्षेत्र का सबसे प्रसिद्ध धार्मिक स्थल माना जाता है। भगवान शिव, पार्वती, गणेश और नंदी को समर्पित यह मंदिर बनलेखी की पहचान है। इस धाम के दर्शन करने के बाद ही आपकी यात्रा पूर्ण मानी जाती है।

Mystery Village Banlekhi

नंदा देवी चोटी के दर्शन

मुक्तेश्वर जाए और नंदा देवी चोटी के विहंगम नजारे का दर्शन ना करे तो आपका जाना व्यर्थ है। सुबह जल्दी उठकर सूर्योदय के समय बर्फ से ढंकी नंदा देवी चोटी के ख़ूबसूरत दृश्य को निहारने का अवसर न गवाएं, क्योंकि यह आपके सबसे यादगार अनुभवों में से एक हो सकता है। हालांकि इसका दर्शन आप दूर से ही कर सकते हैं।

Mystery Village Banlekhi

ट्रैकिंग और कैंपिंग

बनलेखी गांव में आप ट्रैकिंग और कैंपिंग का भी लुफ्त उठा सकते हैं। इसके लिए आप यहां की ऊंची पहाड़ियों पर चढ़ाई कर सकते हैं और कैंपिंग के लिए Club Taurus Adventure Camp जा सकते है। यहां एक रात रुकने के लिए आपको 2500 रुपये खर्च करना पड़ सकता है।

Mystery Village Banlekhi

बनलेखी में मिल सकता है हर तरह का खाना

बनलेखी एक गांव है इसलिए यहां आपको खाने के ज़्यादा ऑप्शन नहीं मिल पाएंगे, लेकिन यहां निरवाना ऑर्गनिक किचन, कैफे लोकल और द बर्डकेज जैसे कई फेमस रेस्टोरेंट में आपको पहाड़ी खाने से लेकर हर तरह का खाना मिल सकता है। यहां आपको कई स्वादिष्ट कुमाउंनी व्यंजन जैसे मड़वे की रोटी, सिसुणे का साग, कापा, भट की चुटकानी और आलू के गुटखे खाने को मिल जायेंगे।

इस मौसम में जाएं बनलेखी गांव घूमने

बनलेखी गांव (मुक्तेश्वर) जाने का सही समय गर्मियों में मार्च से जून और ठन्डे के समय में अक्टूबर से मार्च तक है। जुलाई से सितम्बर के समय यहां काफी बारिश होती है इसलिए उस दौरान ना जाएं।

हवाई, सड़क और रेल के जरिए जाया जा सकता है मुक्तेश्वर

मुक्तेश्वर जाने के लिए आप दिल्ली से हवाई, सड़क और रेल मार्ग द्वारा आसानी से जा सकते है। मुक्तेश्वर से सबसे नज़दीकी हवाई अड्डा पंतनगर एयरपोर्ट है। यहां से मुक्तेश्वर जाने के लिए प्राइवेट कैब या फिर स्टेट ट्रांसपोर्ट की सुविधा उपलब्ध है। केवल तीन घंटे में आप बनलेखी पहुंच जाएंगे।

पब्लिक ट्रांसपोर्ट के जरिए जा सकते है बनलेखी गांव

दिल्ली से बनलेखी गांव की दूरी 325 किमी है। यहां से मुक्तेश्वर जाने के लिए आपको पब्लिक ट्रांसपोर्ट आसानी से मिल जायेगा, जो आपको 9 घंटे में बनलेखी पहुँचा देगा।

Mystery Village Banlekhi

ट्रेन से मुक्तेश्वर जाने का रास्ता

अगर आप मुक्तेश्वर रेल मार्ग से जाना चाहते है, तो आप काठगोदाम या फिर रामनगर तक जा सकते हैं। काठगोदाम से मुक्तेश्वर की दूरी 65 किमी है। यहां से आपको स्टेट ट्रांसपोर्ट की बस और प्राइवेट कैब आसानी से मिल जाएंगी।

बनलेखी के रिसोर्ट में रुक सकते है

बनलेखी में पर्यटकों के ठहरने के लिए एकमात्र बनलेखी रिसोर्ट हीं है। इस रिसोर्ट में दो लोगों के ठहरने के लिए आपको एक रात के करीब 3500 रुपये खर्च करने होंगे। रिसोर्ट के जरिए ही आपको ब्रेकफास्ट की सुविधा भी मिलेगी। बनलेखी के अलावा आप मुक्तेश्वर आकर भी रुक सकते हैं। यहां आपको आसानी से सस्ते रिसोर्ट भी मिल जाएंगे। – You can enjoy the environment by visiting Banlekhi village of Nainital.

24 COMMENTS

  1. I’m really impressed with your writing skills and also with the layout on your blog. Is this a paid theme or did you customize it yourself? Either way keep up the excellent quality writing, it is rare to see a nice blog like this one these days.|

  2. Hey there would you mind sharing which blog platform you’re working with? I’m going to start my own blog in the near future but I’m having a hard time selecting between BlogEngine/Wordpress/B2evolution and Drupal. The reason I ask is because your design and style seems different then most blogs and I’m looking for something unique. P.S Apologies for being off-topic but I had to ask!

  3. Definitely believe that which you stated. Your favorite reason seemed to be on the internet the simplest
    thing to be aware of. I say to you, I certainly get irked
    while people consider worries that they plainly do not know
    about. You managed to hit the nail upon the top and defined out the whole thing without having
    side effect , people could take a signal.

    Will likely be back to get more. Thanks

    Here is my page tracfone special

  4. First of all, thank you for your post. totosite Your posts are neatly organized with the information I want, so there are plenty of resources to reference. I bookmark this site and will find your posts frequently in the future. Thanks again ^^

  5. In the grand scheme of things you secure an A just for hard work. Where you actually misplaced everybody ended up being in the facts. As people say, details make or break the argument.. And it couldn’t be more correct here. Having said that, let me inform you precisely what did work. The writing is rather persuasive which is probably why I am making an effort in order to comment. I do not make it a regular habit of doing that. Second, whilst I can easily notice a jumps in reasoning you come up with, I am not sure of exactly how you appear to connect your points which inturn make the actual conclusion. For now I will, no doubt subscribe to your position however hope in the future you actually connect your facts better.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here