छत पर ही ये दम्पति उगा रहे कई तरीके की सब्ज़ी, 250 से ज्यादा गमले हैं इनके गार्डन में। आप भी जाने-

3030

हर रोज हमारे सुबह की शुरुआत कैसी होती है? किसी को आफिस जाना है ,किसी को स्कूल या कॉलज जाना है और जो घर पे रहती हैं उन्हें जल्दी-जल्दी अपने घर के काम निपटाने होते हैं। पर क्या हमने कभी सोचक है कि अगर हमारी हर खूबसूरत सुबह प्रकृति के स्पर्श के साथ ही साथ चाय की चुस्कियों से होती तो कैसा लगता?

जाहिर है यह सोच ही हमें रोमांचित कर देती है तो जरा सोचिहे जो दंपति रोज सुबह यही करते है वो कितने तरोताजा और खुश होंगे।

आज हम बात करेंगे बेंगलुरु के जलहल्ली में रहने वाले नरसिम्हा के जो 43 वर्ष के है और उनकी खूबसूरत पत्नी वसुंधरा नरसिम्हा की जो 41 वर्ष की हैं। इस प्यारे दंपति की सुबह रोज अपने छत्त पर पौधों के बीच कॉफ़ी की चुस्कियों से होती हैं।

vasundhra and narsimha

अब आप ये सोचेंगे कि क्या ये दंपति किसान है या कोई रिटायर्ड व्यक्ति। तो आप बिलकुल गलत सोच रहे हैं। नरसिम्हा और उनकी पत्नी वसुंधरा दोनो प्रोफेशनल है।

बात ये है कि नरसिम्हा और वसुंधरा को गार्डनिंग का बहुत शौक है। जब ये दोनों अपना घर बनवा रहे थे तब ही इन दोनों ने अपने घर में गार्डेनिंग करने के बारे में सोच लिया था।

नरसिम्हा टेरस गार्डेनिंग कर के रोजमर्रा की शाग-सब्जियां उगाते हैं। नरसिम्हा का कहना है कि जब वह किराये में अपार्टमेंट में रहते थे तो वहां जगह बहुत ही कम थी।वह दोनों चाह कर भी कुछ कर नही पाते थे। परन्तु जब उनदोनो ने अपना घर बनवाने का सोचा तो उन्होंने पहले ही इंजीनयर से बोल दिया था कि हमे गार्डेनिंग करनी है तो उसके लिए पर्याप्त जगह छोड़ दे। नरसिम्हा ने अपने छत्त पर प्लेटफार्म पर खरे किये ताकी आगे जागे उन्हें पौधे के रखरखाव में दिक्कत न हो। इस तरह इस खूबसूरत दंपति के जरूरतो के साथ- साथ उनका सपना भी पूरा हुआ।

पिछले साल से नरसिम्हा और वसुंधरा अपने छत्त पर करेले ,लौकी,रीच गार्ड,स्नेक गार्ड की खेती कर रहे गैलवेनाइज्ड आयरन (GI) के तार की मदद से। इसके इस दंपति को दो फायदे होते हैं पहली तो ये की पौधों को छत पर बढ़ने के लिए अधिक जगह मिलती है और दूसरी ये की इन दोनों की।घर की सुंदरता भी बढ़ जाती है।

पर ये अकेले नरसिम्हा ने ही नही किया उन्हें मजदूरों की मदद लेनी पड़ी। तार के साथ-साथ नरसिम्हा ने रस्सियां भी लगाई है जिससे पौधों को सपोर्ट मील बढ़ने के लिए। हफ्ते में यह दंपति तीन प्रकार की सब्जियां उपजाते हैं और कई बार तो सब्जिया इतनी अधिक हो जाती है कि पड़ोसियों को भी देनी पड़ती है।

कुछ ऐसी भी सब्जियां है जिनमे आपको धैर्य रखने को अवश्यक्ता हैं। जैसे लौकी और करेले वसुंधरा बताती हैं।

पौधें को कैसे किया तैयार:-

वसुंधरा और नरसिम्हा ने सबसे पहले कंटेनर तैयार किया ताकि उसमें वो बीज या पौधें रोप सके। इस दंपति ने रीसाइकल कंटेनर का उपयोग कोय।जिससे की इसमे अतिरिक्त पानी निकलने की व्यवस्था हो।

उसके बाद उन्होंने सब्जी के पौधे नर्सरी से खरीद कर लगाए।उन्होंने पौधों को वर्मीकम्पोस्ट और सूखे पत्तों से बनाये गए कार्बनिक पॉटिंग में लगा दिया। पौधे लगाते समय आपको यह ध्यान रखना है कि मिट्टी न ही ढिल्ली हो न ही चिपचिपी।

ट्रेनर रस्सियों का किया सदुपयोग:-

जब उनके पौधे बढ़ने लगे तब उन्होंने कंटेनर में ट्रेनर रस्सियों को जोड़ दिया।ताकि पौधों की लताएँ उस पर चढ़ाई जा सके।सब्जियों को सहारा देने के लिए इस दंपति ने (GI) तारों की मदद ली।

पौधों को पहचान कर किया हैंड पॉलीनेशन:-

जब पौधों पर फूल आते है तब वसुंधरा हैंड पॉलीनेशन कर के नर और मादा फूलो की पहचान करती हैं। वसुंधरा का कहना है कि मादा फूलो के पीछे एक छोटा सा फल होता है जबकि नर फूलों में ये नही होता है।आप पेंट ब्रश या कॉटर इयरबड के मदद से नर फूलो से पराग का मादा फूल पर छिड़क सकते हैं।और ये प्रक्रिया अगर आप सुबह करते है तो और भी अच्छा हैं।

वैसे तो ये काम मधूमखियो का है परंतु टेरस गार्डन पर ये प्रकीर्तिक रूप से होना मुश्किल लगता है । अगर आप अपने घर मे लौकी उगाना चाहते है तो इस विधि का इस्तेमाल कर सकते है । इस दंपति का कहना है अगर किसी कारणवश आप अपने छत्त पर (GI) तारों को नही लगा पाते तो आप रस्सियों की मदद से ये कर सकते है। इसपे भी आप लताओं को चढ़ा सकते हैं।

वसुंधरा और नरसिम्हा ने बताए कुछ खास टिप्स:-

  1. लौकी को नियमीत तौर पर पानी दे। अगर आप पौधे के स्थान पर बीज बो रहे है तो बीजो को अंकुरित होने का पर्याप्त समय दे।

2.पौधे बड़े कंटेनर में लगाएं कम से कम 12 इंच जगह होना चाहिए ताकि जड़े बढ़ सके।इस बत का ध्यान रखे कि पौधों पर पहले नर फूल उगते है बाद में मादा फूल।

3.जब पौधों पर फूल लगे तो अधिक ध्यान दे क्योंकि कुछ समय बाद फूल मुरझा जाते है। अगर आप चाहते है कि आपके लौकी की विर्द्धि अच्छी हो तो हर 20 दिन पर इसमे खाद डालें।

4.अगर आप अपने पौधों को बीमारियों से सुरक्षित रखना चाहते है तो पौधों पर नियमित नीम का तेल छिड़के।

नरसिम्हा और वसुंधरा ने अपने 400 वर्ग फुट की छत पर 250 गमले,ग्रो बैग,रीसाइकल बोतल और केन एक लाइन में लागाई हैं।

दीवार पर कुछ बोतल लगा कर हैंगिंग गार्डन बनाया है और छत्त के चारो तरफ बोतलों को रख कर अपने छत्त को और भी खूबसूरत बनाया है इस दंपति ने।

कौन-कौन सी चीजे इस्तेमाल करे टेरस गार्डेनिंग के लिए:-

आप पानी के बोतलो को बीच से काट कर छेद कर सकते हैं। उसके बाद जुसमे मिट्टी और पोषण के लिए वर्मीकम्पोस्ट भर दीजिये। अगर आप अवषधिये पौधे या बीज लगाने की सोच रहे है तो प्लास्टिक के बोतलो के स्थान पर 5 लीटर के डिब्बे का भी उपयोग कर सकते है।ऐसे ही आप पालक भी उगा सकते है इसमे।

अपने छत्त पर प्लेटफार्म बनवाया ताकि गमलो या कंटेनर को आप इस पर रख सके।इससे आपका छत्त भी साफ रहेगा और जगह भी बचेगी।साथ ही साथ आप बगीचे के बीच बैठ कर आप अपने आप को प्रकीर्ति के कैब पाएंगे।

आप चाहे तो गुड़हल और गुलदाउदी के फूलों को भी लगा सकते है।इससे नेचुरल पॉलीनेशन भी होगा।साथ ही साथ यह फूल पूजा के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

वसुंधरा और नरसिम्हा लौकी और करेले के साथ-साथ गोभी,मिर्च,बेल पीपर,तोरी और टमाटर सहित 26 प्रकार की सब्जियां उपजाते हैं।

इस दंपति ने जब सुना कि पत्तेदार सब्जियां और अवषधिये पौधे उगाने के लिए हानिकारक सीवेज के पानी का इस्तेमाल होता हैं। तब इस दंपति ने टेरस गार्डेनिंग करने की सोची।इसका नतीजा ये है कि तीन सालों से इस दंपति को प्याज, टमाटर जैसी सब्जियां खरीदने की आवश्यकता नही पड़ती। लॉकडाउन के दौरान जब सब सब्जिया खाने के लिए परेशान थे उस समय इस दंपति के गार्डन में काफी सब्जियां उगती थी और इस दंपति ने इसका लाभ बखूबी उठाया।

वसुंधरा और नरसिम्हा रोज़मेरी और लेमनग्रास के विदेशी क़िस्मों को उपजाने के बारे में सोच रहे है।

Kheti trend इस खूबसूरत दंपति के काम की सराहना करता है और इन्हें और कामयाब होने की शुभकामनाएं देता हैं। अगर आप इस दंपति से और अधिक जानना चाहते है गार्डनिंग के बारे में तो आप इनसे फेसबुक औए यु ट्यूब पे जुड़ सकते हैं।

अंजली पटना की रहने वाली हैं जो UPSC की तैयारी कर रही हैं, इसके साथ ही अंजली समाजिक कार्यो से सरोकार रखती हैं। बहुत सारे किताबों को पढ़ने के साथ ही इन्हें प्रेरणादायी लोगों के सफर के बारे में लिखने का शौक है, जिसे वह अपनी कहानी के जरिये जीवंत करती हैं ।

12 COMMENTS

  1. An outstanding share! I have juust forwarded this onto a coworker who was
    doing a little research onn this. And he in fact bought me dinner simply because I stumbled upon it for him…
    lol. So allow mme to rewword this…. Thanks for the meal!!
    But yeah, thanx for spednding some time to discuss this issue here on your web site.

    Allso visit my web page: MyFreeWebcam

  2. Hey there I am sso grateful I found your web site, I really found
    you by mistake, while I was looking onn Yahoo for something else, Nonetheless I am here now and
    would just like to say thank you for a incredible post andd a all round exciting blog (I also love the theme/design),
    I don’t have time to go through iit all at the moment but I have bookmarked it and also added your RSS feeds, so when I
    hzve tikme I will be back to read a lot more, Please do kep up the awesome b.

    Feel free to visit my webpage :: Chaturbate

  3. I’m now not certain where yyou are getting your information, however good
    topic. I needs to spend a while finding out much more or woorking out more.
    Thanks for magnificent info I used to be searching
    for this information for my mission.

    Here is my webpage; yadavam.com

  4. Hi, Neat post. There is ann issue with yur web site in internet explorer, would test this?
    IE nnetheless is the marketplace chief and a huge component of
    other people will leave out your fantastic writing because of this problem.

    My homepage :: chaturbate.wtf

  5. Hi there great blog! Does running a blog like this
    take a massive amount work? I’ve absolutely no expertise in programming however I was hoping to start my own blog soon. Anyways,
    iif you havee any ideas or techniques for new blog owners please share.

    I know this is off topic howdver I simply had to ask.

    Many thanks!

    Also visit myy blog post :: https://www.tvpm.nammudetheeram.com/community/profile/miriamcin350885/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here