93 वर्ष की उम्र में भी कभी दवा नही खरीदते, केवल खुद के द्वारा उगाए ऑर्गेनिक सब्जियां खाते

1594
inspiring keral farmer

वर्तमान में अपने आप को फिट रखने के लिए सारे लोग जिम जाते है, घंटो पसीना बहाते है तब भी नतीजे जल्दी नही दिखते है। पर आपको क्या याद है कि हमारे दादा जी, नाना जी कभी जिम गए होंगे, परन्तु वो फिट और स्वस्थ्य रहते थे कैसे? तो इस बात का जवाब है उनका दैनिक कार्य हमारे पूर्वज जिम में पसीना बहाने की जगह खेतो में पसीना बहाते थे और सारी बीमारियों से दूर रहते थे, आइये आज हम आपको ऐसे ही से शख्श से मिलवाते है जिनकी उम्र 93 है परन्तु वो आज भी अपना खाना खुद ही उगा रहे है, और उसका सेवन करके स्वस्थ है।

 

चिदंबरम नायर जी का परिचय-

 

चिंदबरम नायर जी केरल कोरीकोड में रहते है, उनकी आयु 93 वर्ष की है। इतनी उम्र में भी नायर जी फिट और स्वस्थ्य है और इसका पूरा श्रेय वो खेती को देते है। नायर जी का कहना है कि भारत को कृषि प्रधान देश इसलिए कहा जाता है क्योंकि कृषि हमारे देश की नींव है, इसलिए इस तथ्य को हमे हमेशा याद रखना चाहिए।

 

बचपन से ही खेती से लगाव-

नायर जी को खेती से लगाव उनके छुटकपन से ही रहा है, नायर जी बताते है की पहले उनके घर पे एक छोटा सा गार्डन हुआ करता था, उसी गार्डन से उन्हें खेती करने की प्रेरणा मिली और उन्होंने अपनी जमीन पर खेती करना शुरू किया और ये सिलसिला चलता गया।

 

शिक्षक रह चुके है नायर जी-

 

नायर जी ने 27 साल शिक्षक के रूप में बच्चो को पढ़ाया है, वो बताते है कि उस समय भी मैं स्कूल जाने से पहले तक अपने खेतों में काम करता था, फिर स्कूल जाता था, और जब छूटी होती थी सब अपने घर जाते थे और मैं अपने खेतो में।

 

जैविक खेती करते है-

नायर जी जैविक तरीके से खेती करते है, उन्होंने अपनी 7 एकड़ जमीन में 350 से अधिक नारियल के पेड़ लगाए है, इसके साथ ही वो फल और सब्जियां भी उगाते है जैसे- केला, टमाटर, अरबी, मिर्च, धान और भी बहुत कुछ। नायर जी खेती से इतना उगा लेते है कि उन्हें बाजार से कुछ खरीदना नही पड़ता बल्कि, उपज अधिक हो जाने पर वो उन्हें बाज़ार के बेच देते है।

जाहिर सी बात है कि जैविक खेती करने पर मेहनत भी अधिक लगती हैं, क्योंकि मिट्टी आपको खुद तैयार करनी पड़ती है, और पौधो को पोषण देने के लिए पेस्टिसाइड और प्रकीर्तिक उर्वरक भी खुद से ही बनाने पड़ते है। उनका कहना है कि अगर आप जैविक कचरे का उपयोग करते है तो मिट्टी के स्वास्थ्य के लिए ये किसी वरदान से कम नही है, इसके साथ ही प्रदूषण भी कम होता है, पानी के संरक्षण में मदद भी मिलती है। नयार जी कोई भी केमिकल वाले किटनासक का प्रयोग नही करते है अपने पौधौ के लिए बल्कि खुद से ही खाद बनाने के लिए गोबर की खाद और मुमफली के खली का इस्तेमाल करके जैविक खाद बनाते है, जो पौधो को पोषण देते है और पौधो की विकाश में मदद करते है।

 

कड़ी मेहनत है, इस उम्र में भी फिट रहने के लिए-

नयार जी उम्र के इस पड़ाव पर आके भी इतने फ़ीट और स्वस्थ्य है, इसके पीछे उनकी वर्षों की कड़ी मेहनत छुपी है। नायर जी अपने जीवनशैली के बारे में कहते है कि- ” प्रतिदिन वो 6 बजे सुबह उठते है, स्नान करने के बाद अपने खेतो पर जाते है और वही पर रहते है, सिर्फ खाना खाने और सोने मैं घर आता हूँ, और रात में 8.30 तक सो जाता हूँ।”

नायर जी अपने ऊर्जावान होने का श्रेय शाकाहारी भोजन को देते है, अधिक तेल मसलो वाला खाना खाने से बचते है नायर जी, वो अपनी पारंपरिक खाने बनाने में अपनी पत्नी की मदद करते है और उसीका सेवन करते है। नायर जी के बेटे राधाकृष्ण का कहना है कि – “मुझे चावल की खीर और अवियल (10 सब्जियों से बना व्यंजन) बहुत पसंद है”

 

आगे वो राधाकृष्ण कहते है उनके पिताजी इस बात का ध्यान रखते है किं खीर अधिक मीठा ना बने, और जब हम अवियल खाये तो उसमे की सब्जियां भी खाए। आगे वो कहते है कि वो अपने पिता को बचपन से ही खेतो में काम करता हुए देखते आये है, उनका कहना है कि उनके परिवार में बाजार से सिर्फ नमक के अलावा बहुत कम चीज़ें ही बाजार से आती है उनके घर मे। नायर जी का परिवार बहुत सालो से अपने खाने में तेल का भी प्रयोग नही करता है, उनके खेतो में जो भी उपजता है उनके परिवार के लिए वो पर्याप्त होता है, यहाँ तक कि नायर जी कपड़े भी चरखे पर बना लेते है।

 

खेती से है अटूट प्रेम-

 

नायर जी के चार बच्चे है जिनमें से 2 लड़के और 2 लड़कियां है उनमें बेटों के नाम- के. मोहनदास, के. राधाकृष्ण, कोमलवल्ली और उषा है। नायर जी के बेटे अपनी नौकरी में व्यस्त रहते है, मोहनदास के सेवानिवृत्त कृषि अधिकारी है और राधाकृष्णन सेवानिवृत्त शिक्षक है इसके साथ नयार जी की दोनो बेटियां गृहणी है, नायर जी के पत्नी का नाम कात्यानी है।

 

नौकरी करने की वजह से नायर जी के बच्चो के पास अधिक समय नही होता है, परन्तु उनके बच्चो को जब भी समय मिलता है वो उनकी मदद करते है खेती में। नायर जी कहते है उनके बच्चे उनके अकेले जाने से मना करते है कि कही मैं बीमार ना पड़ जाउ, परन्तु आज मैं स्वस्थ हु उसका पूरा श्रेय खेती को ही जाता है नायर जी का कहना है। नायर जी को बढ़ती उम्र की वजह से सिर्फ सुनने के थोड़ी कठिनाई होती है, इसके अलावा उन्हें कोई परेशानी नही है, ना ही वो कभी अस्पताल गए है। खेती के प्रति नायर जी का प्रेम इतना अटूट है कि वो अपना बाकी का जीवन भी खेती करके बिताना चाहते है।

 

Kheti trend नायर जी के जज्बे को सलाम करता है, और उन्हें ढ़ेर सारी शुभकामनाएं भी देता है।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

31 COMMENTS

  1. Wow thаt was odd. I just wrote an ᴠery long
    comment but after I clicked submit my comment didn’t
    appeaг. Grrrr… ԝell I’m not writing all that ovеr again. Anyhow,
    just wаnted to saay superb blog!

    Here is my blog post:1xbet

  2. Awesome blog you have here but I was wanting to know if you knew of any community forums that cover the same topics talked
    about here? I’d really love to be a part of group where I can get responses from other experienced individuals that share the same interest.

    If you have any suggestions, please let me know. Thanks a lot!

    Look into my webpage – spam

  3. My programmer is rying to persuade me to move to .net frolm PHP.
    I have always disliked the idea because of the expenses.
    But he’s tryiong none the less. I’ve bwen using Movable-type oon several websites
    for about a year and am nervous abut switching
    to another platform. I have heard excellent things about blogengine.net.
    Is therte a way I can transfer aall my wordpress content into it?
    Any help would be really appreciated!

    Here iis my blog post great Chaturbate

  4. I believe this is one of the most vital information for me.
    And i am glad studying your article. But wanna commentary on some general things, The website
    style iss great, the articles is truly excellent
    : D. Excellent job, cheers

    my web-site; MyFreeWebcam

  5. I do not қnow whetһer it’s jᥙst me orr if eѵeryone
    else expleriencing problems with your site.

    It appeats ass if some of thе tewxt іn your content are running off thee sсreen.
    Can someone else please c᧐mment and leet me know if this iss happening to
    tһem too? This may be a issue wіth my internet brօwser because I’ve had tthis happen bеfore.
    Appreciate it

    Here iis mmy webpage slot gacor

  6. I’m truly enjoying the design and layout of your blog. It’s a very easy on the eyes which makes it much more enjoyable for me to come here and visit more often. Did you hire out a designer to create your theme? Fantastic work!

  7. Definitely believe that which you stated. Your favorite reason seemed to be on the net the easiest thing to be aware of. I say to you, I definitely get annoyed while people think about worries that they plainly don’t know about. You managed to hit the nail upon the top and also defined out the whole thing without having side-effects , people can take a signal. Will probably be back to get more. Thanks

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here