वकालत छोड़ इस वकील ने शुरु किया खेती करना, 20 एकड़ में 50 किस्मों की खेती करते हैं : कमलजीत सिंह हेयर

853
Punjab Farmer Kamaljeet singh Heyar doing natural farming

हम लोगों ने एक बात को महसूस किया होगा कि पहले की अपेक्षा आज के समय के लोगों की औसत आयु घटती जा रही है। इसका सबसे मुख्य कारण दूषित तथा रासायनिक खाद और कीटनाशकों का खेती में उपयोग करना है।

आज हम बात करेंगे एक ऐसे शख्स के बारे में, जिसने अपने परिवार के विषम परिस्थितियों में एक बात को महसूस किया तथा इसके निवारण का उपाय भी किया।

तो आइए जानते हैं उस शख्स और उसके परिस्तिथियों तथा उसके निवारण के उपायों के बारे में-

कौन है वह शख्स ?

हम बात कर रहे हैं कमलजीत सिंह हेयर (Kamaljeet Singh Heyar) की, जो मूल रूप से पंजाब (Punjab) के फिरोजपुर जिला के सोहनगढ़ रत्तेवाला गाँव के रहने वाले हैं। आज के समय में वह पेशे से एक किसान है। उनकी उम्र लगभग 45 साल है।

Punjab Farmer Kamaljeet singh Heyar doing natural farming

घर के विषम परिस्थितियों ने झकझोरा

कमलजीत सिंह हेयर (Kamaljeet Singh Heyar) के दादा की मृत्यू 101 साल की आयु में हुई थी। इसके कुछ हीं सालों बाद उनके पिता की मृत्यु असमय ही हार्ट अटैक से हो गई और उनके छोटे भाई की मौत दस साल की आयू में हो गई थी। घर के इस विषम परिस्थितियों से वे हमेशा काफी चिंतित रहा करते थे। वे इन सभी बातों के बारे में काफी विचार विमर्श किए कि आखिर दादा की मृत्‍यु कुदरती थी लेकिन उनके पिता व छोटे भाई की मृत्यु तो कुदरती नहीं थी। काफी विचार विमर्श करने के बाद उन्हें एक बात समझ में आई कि पहले लोग खेती खुद से किया करते थे, तो मौत भी स्वभाविक हुआ करती थी लेकिन आज के समय में खरीदी हुई रसायनों व पेस्टीसाइड्ज के उपयोग से सभी की उम्र कम होते जा रही है।

प्राकृतिक खेती करने का बनाया मन

एडवोकेट कमलजीत सिंह हेयर (Kamaljeet Singh Heyar) के पिता की असमय मौत से पेस्टीसाइड और रसायनों के खेती में प्रयोग के खतरे का पता चला। इसके बाद उन्‍हाेंने वकालत छाेड़ दी और जैविक खेती करने का मन बनाया। शुरुआती दौर में उन्हें तमाम परेशानियों को झेलने के बाद धीरे-धीरे सभी जानकारियां मिली और वह अपने मेहनत के बदौलत सफलता हासिल करने में कामयाब रहें।

Punjab Farmer Kamaljeet singh Heyar doing natural farming

वकालत छोड़ शुरु की प्राकृतिक खेती

कमलजीत सिंह हेयर ने अपने दिल की सुनी वकालत छोड़ते हुए नेचुरल फार्मिँग करने को ठानी। उन्होंने खेती शुरु कर दी, इसके लिए उन्होंने अपने 20 एकड़ के फॉर्म में 120 किस्मों के 1500 पेड़ लगाए हैं, जिसमे कुछ लकडियों और कुछ फल वाले हैं। उन्होंने कहा कि वे 50 किस्मों की खेती भी इसी जमीन में कर रहे हैं और खेती में उन्होंने जैविक विभिन्नता अपनाई हुई है। वह मक्की, ज्‍वार, कोधरा, चने के अलावा दालों की खेती कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- गांवों से पलायन रोकने के लिए लाखों की नौकरी छोड़ शुरु की मशरुम उगाना, आज करोड़ो का टर्नओवर हो रहा है : मशरुम गर्ल

उनके खेती और सिंचाई की खासियत

उनके फार्म हाउस को देखने दूर-दूर से किसान और रिसर्चर आते हैं। सबसे खास बात यह है कि उनके खेत में बगैर परमिशन कोई एंट्री नहीं कर सकता। इसके अलावे वे खेत में ही कंपोस्ट खाद तैयार करते हैं। ऐसे वे बिना केमिकल खाद के उपयोग किए दो लाख रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से खेती से कमाई करते हैं। उनके खेतों में बारिश के पानी को सहेजने का भी इंतजाम किया है। ड्रेनेज सिस्टम के जरिये ये बारिश का पानी एक तालाब में सहेजकर रखते हैं। सबसे अहम बात यह है कि वे खेती के साथ हीं साथ विलुप्त हो रहे पेड़ों को बचाने का भी सार्थक प्रयास कर रहे हैं।

खुद का बनाया ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट

कमलजीत सिंह हेयर अब पूरी तरह से प्राकृतिक खेती (Natural Farming) के लिए ट्रेंड हो गए हैं। खुद की जानकारियों के साथ हीं साथ उन्होंने दुसरे की जानकारियाँ बढ़ाने तथा सीख देने के लिए अपनी ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट की भी शुरुआत की है। वह अपने ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट के माध्यम से दूसरे लोगों को ट्रेनिंग देने का काम कर रहें हैं।

Punjab Farmer Kamaljeet singh Heyar giving training for natural farming

लोगों को संदेश देने की कोशिश

कमलजीत सिंह हेयर (Kamaljeet Singh Heyar) ने वकालत छोड़ नेचुरल खेती शुरु की और अच्छी-खासी कमाई भी किया। इसके साथ हीं उन्होंने समाज को संदेश दिया है कि नेचुरल खेती से हमे शुद्ध अन्न और सब्जियां मिल सकती है, जिससे हम सेहतमंद रह सकते हैं। उनके इस प्रयास को समाज के अनेकों लोगों ने अनुसरण करना शुरु कर दिया है।

18 COMMENTS

  1. Very great post. I just stumbled upon your blog and wished to say that I have truly enjoyed surfing around your weblog posts. In any case I will be subscribing on your rss feed and I’m hoping you write again very soon!

  2. I’ve been exploring for a little for any high quality articles or blog posts on this kind of area . Exploring in Yahoo I finally stumbled upon this web site. Studying this info So i am satisfied to show that I’ve a very good uncanny feeling I came upon exactly what I needed. I such a lot indubitably will make certain to do not omit this web site and give it a look on a relentless basis.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here