कृषि फार्म को बना दिया एग्रो टूरिज़्म, आने वाले सभी लोगों को खिलाया जाता है शुद्ध भोजन

366
Purvi from Rajasthan Established Agro Tourism in her farm

हम सभी लोगो को अपने खान पान की तो बहुत चिंता रहती है। जिसके कारण हम लोग बाहर का खाना पसंद नही करते है। कुछ लोगो के लिए बाहर का खाना सही होता है जो कि उन्हे बेहद पसंद होता है तो वह बाहर से ही खाते है। परंतु बहुत लोग आज भी बाहर का बना खाना ज्यादा पसंद नही करते हैं। क्योंकि उन्हे अच्छे से पता होता है कि बाहर का खाना किस तरह बनाया जाता है। और कितना हानिकारक होता है। आज कल तो बने हुए खाने के अलावा सब्जियों और फलों में भी मिलावट कर दी जाती है। जो लोगो की सेहत के लिए सही नही होती। तभी कुछ लोग खुद फार्मिंग भी करने लगे है। अपने घर पर उगाई गई सब्जियों का ही इस्तेमाल करते है। ऐसा करके उन्हे इस बात का भरोसा होता है कि वह किसी अन्य व्यक्ति से मिलावट वाली सब्जी न खाकर खुद की उगाई हुई शुद्ध और ताज़ी सब्जी खा रहे है। देखा जाए तो यह सही भी है।इसी बहाने लोग अपने घरों में खेती तो कर रहे है। जिस खेती से सभी दूर हो गए थे आज अपनी सेहत की चिंता कर उसे फिर से अपना रहे है। आज कल लोग बाहर घूमने जाते है तो उन्हे होटल का खाना पसंद नही होता। होटल वाले भी आज कल ऑर्गेनिक फार्मिंग करने लगे है। ताकि वह खुद की ताजा सब्जी उगाकर पका सके और अपने टूरिस्ट को स्वच्छ और शुद्ध खाना खिला सके। आज हम बात करेंगे एक ऐसे एग्रो फार्म की जो कि राजस्थान में एक लड़की द्वारा चलाया जा रहा है। आइए जानते हैं, विस्तार में इस एग्रो फार्म के बारे में।

**खेती कर खुद सब्जी उगाकर, पकाती है देसी खाना…….

लोग आज कल प्रकृति के बहुत करीब होते जा रहे है। हर कोई अपनी छुट्टियों में प्राकृतिक जगह जाना पसंद करता है। और वहा पर लोग जाकर प्राकृतिक खाना भी खाने की चाह रखते है। अगर आप ऐसी जगह पर जाना पसंद करते है तो आपको ऐसी जगह मिलेगी राजस्थान के राज्य भीलवाड़ा में जहा पर पूर्वी ऑर्गेनिक फार्मिंग करके लोगो को ताजा और देसी खाना खुद बनाकर खिलाना पसंद करती है। यह बहुत कम जगह पर देखने को मिलता है। प्रकृति के सुंदर दृश्य के साथ साथ देसी खाना खाने का मज़ा ही अलग होता है। पूर्वी ऑर्गेनिक फार्मिंग लगभग 10 एकड़ ज़मीन पर करती है। और फिर अपने एग्रो फार्म में आए लोगो को अपने हाथो से खाना बनाकर खिलाती है। वह जिन सब्जियों का खाना पकाती है, वह सब उनके ऑर्गेनिक फार्मिंग द्वारा उगाई जाती है। तो वह ताज़ी और शुद्ध होती है।

यह भी पढ़ें:- नौकरी में नहीं लगा मन तो शुरु किया आधुनिक खेती, अब उसी से कमा रहे हैं 15 करोड़ रुपये

**सुविधाएं……

पूर्वी के इस एग्रो फार्म पर बहुत सी सुविधाए उपलब्ध है। पर इनमे से एक भी सुविधा उन फाइव स्टार होटलों की सुविधाओं में से नही है। यह उनसे अलग है। पूर्वी बताती है कि अगर किसी को उनके फार्म पर अपनी छुट्टी बिताने आना है तो उन्हे एक दिन पहले पूर्वी को उसके बारे में बताना होता है। ताकि पूर्वी उन सबके लिए खाने की तयारी कर सकें। इसके अलावा वह वहा आए लोगो को खेती के तौर तरीके भी समझती है। और उन्हे खुद भी वह सब करने का मोका देती हैं। जिससे वह खेती के कार्य का बहुत करीब से अनुभव कर सकते हैं। वहा आए सभी लोग पूर्वी के व्यवहार और उनकी दी हुई सुविधाओं से बेहद प्रसन्न होते हैं। पूर्वी खाने में लोगो को चकुंदर का हलवा, मक्की की रोटी, लहसुन की चटनी, मैथी की रोटी जेसी कई स्वादिष्ट डिश बनाकर मिट्टी के बर्तनों में परोसती है।

वीडियो देखें:-

*सब्जियां…….

पूर्वी के अनुसार वह जो अपने खेतो में ऑर्गेनिक फार्मिंग करके सब्जियां उगती है। उन्हे आप खरीद भी सकते है। जी हां, जो लोग पूर्वी के एग्रोफर्म में आते है। और प्रकृति, खेती और देसी खाने का आनंद लेते हैं। उनमें से कई लोग वहा की उगाई हुई सब्जियां खरीदना भी पसंद करते है। क्योंकि वह बहुत शुद्ध और ताज़ी होती है। पूर्वी वहा आए लोगो को भी सब्जियां बेचती है। इसके अलावा वह अपने खेतो में उगाई हुई सब्जियों की होम डिलीवरी भी करती है। लोगो को खेती की ताज़ी सब्जी बहुत पसंद होती है। उन ताज़ी सब्जियों से ही खाने का स्वाद बदल जाता है। तभी लोग अपने घरों में भी वह बनाना पसंद करते है। जिसके कारण वह पूर्वी से सब्जियां खरीदते भी है। इसके अलावा पूर्वी बताती है कि अगर कोई शादी, विवाह में उनके खाने की बुकिंग करना चाहे तो वह सुविधा भी पूर्वी उपलब्ध कराती हैं।

**प्रेरणा……

आज के दौर में कोई अपना इतना समय खेती बाड़ी को नही देता है। हर कोई अपनी जिंदगी में व्यस्त रहता है। और अच्छी नौकरी पाना चाहता है। बहुत कम लोग ऐसे है जो प्रकृति का ध्यान रखते है और ऑर्गेनिक फार्मिंग करते है। अगर लोगो को शौंक भी हो तो वह अपने घर की छोटी छत पर ऑर्गेनिक फार्मिंग करना पसंद करते है। हमे पूर्वी से यह प्रेरणा लेनी चाहिए कि आज के दौर में जहां सब लोग अपने बारे में सोचते है। वहा पूर्वी ने लोगो के बारे में सोचा और ऑर्गेनिक फार्मिंग करने के बाद वह खुद अपने हाथो से उनके आए एग्रोफार्म पर लोगो के लिए खाना बनाती है। फिर चाहे वह कितनी भी संख्या में हो। वह अपने फार्म में प्रकृति का भी पूरा ध्यान रखती है। तभी लोग उनके फार्म पर जाना पसंद करते है। क्योंकि वह हर समय हरा भरा दिखता है। और उसका दृश्य सबका मन मोह लेता है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here