45 हज़ार की नौकरी छोड़ CA राजीव आज जैविक खेती कर कमा रहे हैं 50 लाख

2842

भारत शुरू से ही कृषि प्रधान देश रहा है। कृषि ही लोगो के जीवन का आधार हुआ करती थी, लेकिन अफसोस शहर के चकाचौंध से लोग इतने आकर्षित हो रहे है कि उनकी मिट्टी उनसे पीछे छूट रही है।लेकिन कुछ ऐसे भी देश के परिश्रमी जवान है जो शहर से गांव की तरफ एक नया सवेरा ले कर आते हैं। उन्हीं में से एक परिश्रमी का नाम है – राजीव बिट्टू


हमारे देश मे हुनरयुक्त लोगो की कमी नही है। जज़्बा हो और मिट्टी के प्रति श्रद्धा हो तो बंजर ज़मीन से भी लाखों की आमदनी हो सकती है। हमारे किसान बहुत अच्छे से जानते हैं कि किस मौसम के लिए कौन सी खेती उपयुक्त होगी, और लाभ क्या होगा। बात अगर राजीव की हो तो , उन्होंने पत्थर वाली भूमि को उपजाऊ जमीन में बदल दिया है। जहा अभी कई तरह के फसल उगाई जाती हैं। आज के समय मे केमिकल युक्त भोजन खा कर हम कई बीमारियों को आमंत्रित कर रहे हैं। वही राजीव जैविक खेती कर भारत को रोगमुक्त करने की तैयारी में लगे हैं। यहा उवर्रक के लिए रसोई के कचरों, केंचुए और वेर्मिकम्पोस्ट जैसी चीज़ों का प्रयोग किया जाता है। और हम सब ये जानते हैं कि फसलो को इससे कोई नुकसान नही पहुचता है और अच्छी खेती भी होती है।


परिचय:-
राजीव बिहार के एक जिले, गोपालगंज के रहने वाले हैं। इनका बचपन एक संयुक्त परिवार में गुज़रा है जहाँ कई लोग रहते थे। राजीव अपने सारे भाई-बहनों में बबड़े हैं और इसी कारण शुरू से ही जिम्मेदार भी हैं। राजीव के पिता जी सरकारी सिचाई विभाग में एक इंजीनियर थे। राजीव का बचपन तो बिहार में गुज़रा लेकिन आगे की पढ़ाई के लिए उन्होंने झारखंड जाने का निर्णय लिया। हजारीबाग के एक होस्टल में रूम ले कर उन्होंने आगे की पढ़ाई जारी रखी। वहां IIT में जाने की कोशिश सफल ना रही तो उन्होंने बीकॉम में एडमिशन ले लिया और आगे चलकर CA के लिए एनरोलमेंट भी कराया। राजीव ने 2003 में CA में सफलता हासिल की , chatered अकाउंटेंट बने। उस वक़्त उनका वेतन लगभग 45000 रुपये था। उनकी शादी 2009 में रश्मि सहाय से हुई जो पेशे से एक प्लास्टिक इंजीनियर हैं।कही न कही उनका मन खेती की तरफ जाता रहता था। वो किसानों की मानसिकता को समझना चाहते थे और आखिरकार आगे चलकर राजीव ने CA की नौकरी छोर कर जैविक खेती की तरफ रुख किया। वो एक NGO भी चलाते हैं जिसका नाम है – अंकुर रूरल एंड ट्राइबल डेवलोपमेन्ट सोसाइटी – Ankur Rural Development And Tribal Development Society.


2013 में जब राजीव अपनी बेटी के साथ अपने गांव गोपालगंज लौटे तो उन्हें बहुत अच्छा महसूस हुआ, जैसे वो यही रहना चाहते थे। उनकी बेटी को भी गांव बहुत भाया। लेकिन किसी दिन उनकी बेटी ने एक किसान के पास इसलिए जाने से मना कर दिया क्योंकि किसान के कपड़े मिट्टी लगने से गंदे हो गए थे। इस बात ने राजीव को झकझोर कर रख दिया। तभी उन्होंने ये मन बना लिया कि अब खेती और किसानी ही उनका लक्ष्य बना रहेगा। वो किसानों के लिए और यू कहे हो किसानों के साथ काम करने का मन बना लिए।
ज़मीन को लिया लीज़ पे
खेती शुरू करने से पहले उन्होंने गहन अध्ययन किया, जानकारियां हासिल की, कृषि विभाग से सलाह भी लिए, छोटी से छोटी बातों को समझा फिर ज़मीन का बंदोबस्त भी किया। क्योंकि उनके पास पर्याप्त भूमि नही थी। अपने घर से 28 किलोमीटर की दूरी पर उन्हें 10 एकड़ का ज़मीन मिला और नियम व शर्तों के साथ ये ज़मीन लीज़ पर ली।इसमे सबसे बड़ी शर्त ये थी कि जिस किसान से इन्होंने ज़मीन लिया था उससे लाभ का 33 प्रतिसत चाहिए था। लेकिन इसकी परवाह ना करते हुए राजीव ने हामी भर दी और अपना काम शुरू किया।


इस खेती को राजीव ने लगभग 2.50 लाख की लागत से शुरु किया । सर्वप्रथम 7 एकड़ में तरबूज़ और खरबूज की खेती हुई और सबसे अच्छी बात ये है कि उस उपज से पूरे 19 लाख की आमदनी हुई जो कि एक सफलतम शुरुआत कही जा सकती है। उस 19 लाख में से उन्हें कुल 9 लाख का फायदा हुआ। उन्हीने उसके बाद 50 मजदूरों को काम भी दिया। राजीव का लक्ष्य है कि वो 1 करोड़ टर्नओवर की आमदनी करे जिसके लिये उन्हीने 13 एकड़ की और ज़मीन लीज़ पर लिया और चमत्कार ऐसा हुआ कि दिन रात मेहनत कर के 2016 में राजीव ने 50 लाख से ज्यादा का कमाई किया जो कि बहुत ही सराहनीय है।
आज राजीव ने अपना एक करोड़ टर्नओवर का लक्ष्य पूरा कर लिया है और आगे की तरफ खूब मेहनत कर रहे हैं। इस काम को मुकाम तक पहुचाने में उनके दोस्तों ने भी खूब साथ दिया है। उनके दोस्त खेती में ड्रिप इर्रिगेशन और मल्चिंग में काफी मदद करते हैं। राजीव का CA से इस सफल खेती तक का सफर हमे बहुत प्रेरणा देता है। आत्मनिर्भर भारत की बात आज जोर शोर से गूंज रही है। उसी आत्मनिर्भर भारत के निवासी राजीव बिट्टू को खेती ट्रेंड का नमन।

66 COMMENTS

  1. Değerli okurlar, Bitcoin tarihindeki en sansasyonel sıçrayış 2017’nin sonuna doğru yaşanmıştı.
    dolar seviyelerinden 18-19 bin dolara kadar yükselmiş, kısa
    sürede görülen bu akıl almaz artış, tarihindeki en yüksek bilinirliğe ulaşmasına, en alakasız insanların bile birkaç
    yüz TL’lik kripto para.

  2. Amazing! This blog looks exactly like my old one! It’s on a entirely different subject but it has pretty much the same layout and design. Wonderful choice of colors!|

  3. Great post. I was checking constantly this weblog and I am impressed! Very useful information specifically the closing section 🙂 I handle such info a lot. I used to be seeking this particular info for a very lengthy time. Thank you and good luck. |

  4. Great blog! Do you have any tips for aspiring writers? I’m planning to start my own site soon but I’m a little lost on everything. Would you recommend starting with a free platform like WordPress or go for a paid option? There are so many options out there that I’m totally overwhelmed .. Any recommendations? Appreciate it!|

  5. My partner and I absolutely love your blog and find a lot of your post’s to be just what I’m looking for. Would you offer guest writers to write content to suit your needs? I wouldn’t mind creating a post or elaborating on a few of the subjects you write concerning here. Again, awesome website!|

  6. Wonderful website you have here but I was curious if you knew of any user discussion forums that cover the same topics talked about here? I’d really love to be a part of group where I can get responses from other knowledgeable individuals that share the same interest. If you have any recommendations, please let me know. Appreciate it!|

  7. wonderful publish, very informative. I’m wondering why the opposite specialists of this sector don’t realize this. You must continue your writing. I’m confident, you have a great readers’ base already!|

  8. Thank you, I have recently been searching for information about this topic for a long time and yours is the greatest I’ve found out till now. But, what in regards to the bottom line? Are you positive about the supply?

  9. I don’t know if it’s just me or if perhaps everybody else encountering issues with your website.
    It appears like some of the text on your posts are running off the screen. Can someone else
    please provide feedback and let me know if this
    is happening to them too? This could be a issue with my internet browser because I’ve had this happen before.
    Thanks

    Look at my webpage … tracfone special

  10. You absolutely know how to keep your readers’ interest with your witty thoughts on the topic Website Traffic. I was looking for additional resources, and I am glad I came across your site. Feel free to check my website xrank.cyou

  11. Greetings from Carolina! I’m bored to death at work so I decided to browse your blog on my iphone during lunch break. I enjoy the information you provide here and can’t wait to take a look when I get home. I’m surprised at how fast your blog loaded on my cell phone .. I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyways, excellent site!

  12. A formidable share, I just given this onto a colleague who was doing a little bit analysis on this. And he the truth is purchased me breakfast as a result of I discovered it for him.. smile. So let me reword that: Thnx for the deal with! However yeah Thnkx for spending the time to debate this, I feel strongly about it and love reading extra on this topic. If attainable, as you develop into experience, would you thoughts updating your weblog with more details? It’s extremely helpful for me. Large thumb up for this blog publish!

  13. Just wish to say your article is as astounding. The clarity in your post is simply excellent and i can assume you’re an expert on this subject. Well with your permission let me to grab your feed to keep up to date with forthcoming post. Thanks a million and please continue the gratifying work.

  14. I have been looking for articles on these topics for a long time. baccarat online I don’t know how grateful you are for posting on this topic. Thank you for the numerous articles on this site, I will subscribe to those links in my bookmarks and visit them often. Have a nice day

  15. Virtually all of what you state happens to be supprisingly precise and it makes me wonder the reason why I had not looked at this in this light previously. This article truly did switch the light on for me personally as far as this particular subject matter goes. But at this time there is one factor I am not necessarily too cozy with and whilst I try to reconcile that with the central theme of your point, let me observe just what all the rest of the subscribers have to say.Well done.

  16. [url=https://over-the-counter-drug.com/#]over the counter medication[/url] what is the best over-the-counter anti-inflammatory for dogs

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here