SI पिता DSP बेटी को रोज करते सैल्यूट, एक हीं थाने में हैं कार्यरत, पढ़िए पिता-पुत्री की इस खूबसूरत कहानी को

530
SI Father salutes his DSP daughter

पुरुष प्रधान देश होने के बावजूद भी हमारे देश की बेटियां हर क्षेत्र में सफलता हासिल कर रही हैं। चाहे वह क्षेत्र सिविल सर्विस का हो, सरहद पर रहकर देश की सुरक्षा करने का हो, खेती करने का हो या फिर देश के साथ अपने पैरेंट्स का नाम रौशन करने का।

आज हम आपको एक ऐसी बेटी की कहानी बताएंगे, जिन्हें उनके पिता ऑफिस में सैल्यूट करते हैं और घर आकर दोनों एक साथ खाना खाते हैं। पिता जिस थाने में सब इंस्पेक्टर (Sub Inspector) हैं, वहां उनकी बेटी उप पुलिस अधिक (DSP) है। तो आइए पढ़ते हैं, इस SI पिता और DSP बेटी की मन प्रसन्न कर देने वाली स्टोरी।

SI Father salutes his DSP daughter

पिता करते हैं बेटी को रोज सैल्यूट

अफसर अली (Asraf Ali) और उनकी बेटी शाबेरा अंसारी (Shabera Ansari) मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में स्थित मझौली थाने में सेवाएं दे रहें हैं। पिता अफसर अली सब इंस्पेक्टर (SI) हैं, तो उनकी बेटी शाबेरा अंसारी उप पुलिस अधीक्षक (DSP)। पिता अपने बेटी को थाने में रोज सैल्यूट करते हैं तो उनकी छाती चौड़ी हो जाती है। पिता को अपनी बेटी पर गर्व है कि वह अन्य लड़कियों के लिए मिसाल बनी है।

SI Father salutes his DSP daughter

बेटी हाथों से खिलाती है खाना

वही घर आकर बेटी अपने पिता के लिए खाना बनाती है और दोनो एक साथ खाना खाते हैं। कोरोना वैश्विक महामारी के कारण लॉकडाउन हुआ और इन दोनों बाप-बेटी की पोस्टिंग एक ही थाने में हो गई। अफसर अली उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के निवासी हैं। लॉकडाउन लगने के पूर्व वह मध्यप्रदेश के इंदौर जिले के लसूड़ीया थाने में सब इन्स्पेक्टर (SI) के पोस्ट पर कार्यरत थे। वही उनकी बेटी शाबेरा अंसारी (Shabera Ansari) उप पुलिस अधीक्षक (DSP) के तौर पर मझौली थाने में कार्यरत थी।

SI Father salutes his DSP daughter

गए थे बेटी से मिलने, लॉकडाउन के कारण फंस गए वहीं

जब असरफ अंसारी (Asraf Ansari) बलिया गए थे तो अपनी ड्यूटी से इंदौर लौटे और अपनी बेटी से मिलने के लिए सीधी जिला चले गए। इसी दौरान कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण पूरे देश में लॉकडाउन लग गया। जिस कारण असरफ अपनी बेटी के पास रक गए। लॉकडाउन लंबा हो गया जिस कारण पुलिस मुख्यालय ने उन्हें यह आदेश दिया कि वह स्थानीय थाने मझौली में ही ड्यूटी करें।

SI Father salutes his DSP daughter

कोरोना वॉरियर्स के तौर पर सम्भाला मोर्चा

उस मझौली पुलिस थाने की इंचार्ज उनकी बेटी शाबेरा अंसारी थी, जिस कारण दोनों पिता और पुत्री को एक ही थाने में सेवाएं देनी पड़ी। एक कोरोना वॉरियर्स के तौर पर उन दोनों ने मोर्चा को संभाले रखा। पिता-पुत्री दोनों 20-20 घंटे अपनी ड्यूटी किया करते थे।

SI Father salutes his DSP daughter

शाबेरा भी रह चुकी हैं सब इंस्पेक्टर

वर्ष 2013 में शाबेरा अंसारी सब इंस्पेक्टर के तौर पर सेलेक्ट होकर मध्यप्रदेश में कार्यरत हुई। वर्ष 2016 में उन्होंने अपनी सेवाएं प्रारंभ की और साथ ही PSC की तैयारी भी जारी रखा। उनकी मेहनत रंग लाई और उन्होंने वर्ष 2016 की PCS की परीक्षा में सफलता हासिल कर ली। वर्ष 2018 में वह बतौर उप पुलिस अधीक्षक (DSP) तौर पर चयनित हुईं। वर्ष 2019 से वह ट्रेनिंग ले रही हैं और अपने पिता के साथ ड्यूटी भी कर रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here