न्यूटन के नियम को देता चुनौती, जानिए भारत के एक ऐसे वॉटरफॉल के बारे में जिसका पानी नीचे से ऊपर बहता है

580
story behind reverse waterfall, india, Maharastra

इस धरती पर कई रहस्यमयी स्थान मौजूद हैं जिसकी खोज करने पर वह अपने रहस्यों में इंसानों को उलझाए रखता है। भारत में स्थित नानेघाट का उल्टा झरना भी एक ऐसा ही रहस्यमय स्थान है।

story behind reverse waterfall, india, Maharastra

नानेघाट पुणे में जुन्नार के पास महाराष्ट्र (Maharastra) के पश्चिमी घाट में स्थित है। यह घाट विश्वभर में रिवर्स वाटरफॉल (Reverse Waterfall) के लिए मशहूर है। बारिश के मौसम में इस झरने को देखने के लिए भारी भीड़ लगती है।

story behind reverse waterfall, india, Maharastra

हम सभी ने साइंस में न्यूटन्स लॉ पढ़ा है। न्यूटन के गुरुत्वाकर्षण के नियम के अनुसार कोई भी चीज जो उपर से गिरती है वह सीधे नीचे चली आती है। लेकिन नानेघाट का झरना को देखकर एक अलग ही लॉ प्रतीत होता है। दरअसल ये झरना घाट की ऊंचाई से नीचे गिरने के बजाय ऊपर आ जाता है। इसलिए इस झरने को रिवर्स वॉटरफॉल कहा जाता है।

story behind reverse waterfall, india, Maharastra

इया घटना को देखकर सभी के मन में यही सवाल आता है कि आखिर ऐसा होता कैसे है। तो ऐसे में वैज्ञानिकों की माने तो इसका कारण हवाओं का तेज बल है जो बहते हुए पानी को ऊपर की ओर धकेलता है। नानेघाट में हवाएं बहते तेज चलती हैं। इसलिए जब वॉटरफॉल नीचे गिरता है तो तेज हवा के कारण उड़कर ऊपर चला जाता है।

रिवर्स वाटरफॉल (Reverse Waterfall) की इस घटना को मानसून के दौरान देखा जा सकता है क्योंकि उसी दौरान तेज हवाएं चलती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here