अपने सपने के बीच नहीं आने दी अपनी नेत्रहीनता को, चेन्नई के बाला नागेंद्र की संघर्षमय कहानी: IAS Bala Nagendran

3901
success story of becoming an IAS officer Bala Nagendran from Chennai

एक ऐसा व्यक्ति जिसने कभी दुनिया नहीं देखा, परंतु एक ऐसा सपना देखा जो भारत के लाखों युवा देखते है। आज हम बात कर रहे हैं शारीरिक रूप से अक्षमता वाले व्यक्ति बाला नागेंद्र (Bala Nagendran) की। बचपन से नेत्रहीन बाला के आंखों ने आईएएस (IAS) बनने का सपना देखा। केवल देखा ही नहीं बल्कि उसे पूरा भी किया। बाला साल 2019 में यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में 600वीं रैंक लाकर अपने सपने को हकीकत में बदल दिया।

बाला बचपन से ही पढ़ाई में थे होशियार

चेन्नई (Chennai) के रहने वाले बाला नागेंद्र (Bala Nagendran) के पिता भारतीय सेना से रिटायर्ड हैं। वे वर्तमान में चेन्नई में टैक्सी चलाकर अपने परिवार का रोजगार चलाते हैं तथा उनकी मां एक गृहणी है। बाला की शुरुआती पढ़ाई लिटिल फ्लावर कान्वेंट और रामाकृष्ण मिशन स्कूल से पूरी हुई फिर वह चेन्नई के लोयला कॉलेज से बीकॉम की डिग्री प्राप्त की। वे बचपन से ही पढ़ाई में बहुत अच्छे थे और उनके स्कूल के टीचरों ने भी उन्हें आईएएस बनने के लिए सदैव प्रोत्साहित किया।- success story of becoming an IAS officer Bala Nagendran from Chennai.

success story of becoming an IAS officer Bala Nagendran from Chennai
अंग्रेजी पढ़ने में आई दिक्कत

बाला दसवीं तक की पढ़ाई तमिल भाषा में किए थे, इसलिए उन्हें अंग्रेजी पढ़ने में काफी दिक्कत हुई और इसे सीखने में भी काफी समय लगा लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और तैयारी में जुटे रहे। साल 2011 में बाला पहली बार यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा दिए, परंतु इस बार उन्हें सफलता नहीं मिल पाई। उसके बाद वह चार बार लगातार प्रयास किए फिर भी सफलता उनके हाथ नहीं आई। ऐसी परिस्थिति में कोई भी अपना धैर्य खो सकता है लेकिन बाला अपना धैर्य बनाए रखे और तैयारी में जुटे रहे। – success story of becoming an IAS officer Bala Nagendran from Chennai.

यह भी पढ़ें :-पिता ने ऑटो चलाकर पढ़ाया, बेटा बन गया वायुसेना में फ्लाइंग ऑफिसर: अब देश की सेवा कर रहा है

धैर्य नहीं खोए और तैयारी में जुटे रहे

बाला नागेंद्र (Bala Nagendran) अपनी कड़ी मेहनत से पांचवें प्रयास में सफलता प्राप्त कर लिए। साल 2016 में बाला यूपीएससी की परीक्षा में 927वीं रैंक प्राप्त कर ग्रेड ए सर्विस के लिए चुने गए लेकिन उनका सपना तो आईएएस बनने का था, इसलिए उन्होंने अभी कोशिश नहीं छोड़ी और फिर तैयारियों में लग गए। साल 2017 में उनका सेलेक्शन 1 अंक के कारण नहीं हो पाया। साल 2018 में उन्हें दोबारा असफलता का सामना करना पड़ा। उन्होंने अपने शारीरिक अक्षमता को कभी खुद पर हावी नहीं होने दिया और अपने लक्ष्य के पीछे भागते रहे। – success story of becoming an IAS officer Bala Nagendran from Chennai

success story of becoming an IAS officer Bala Nagendran from Chennai

सामाजिक समस्या को दूर करने के लिए बने आईएएस

आखिरकार साल 2019 में बाला 659वीं रैंक के साथ यूपीएससी की परीक्षा में सफलता प्राप्त किए। वे अपनी नेत्रहीनता को कभी कोसते नहीं हैं बल्कि उसे कुदरत का शक्तिशाली उपहार मानते हैं। उनका मानना है कि नेत्रहीनता ने उन्हें आंतरिक दृष्टि के महत्व का एहसास कराना सिखाया है। बाला आइएएस आर्मस्ट्रांग को अपनी प्रेरणा मानते हैं। वह शोषण और अपराध को रोकने के लिए आईएएस बनना चाहते थे। इसके अलावा वह आईएएस बन गरीबी, बेरोजगारी और अन्य सभी सामाजिक समस्याओं को दूर करना चाहते हैं। – success story of becoming an IAS officer Bala Nagendran from Chennai.

33 COMMENTS

  1. Greetings from California! I’m bored to tears at work so I decided to check out your site
    on my iphone during lunch break. I really like the info you provide here and can’t wait to take a look when I get home.
    I’m surprised at how fast your blog loaded on my
    phone .. I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyhow, amazing blog!

  2. Just want to say your article is as amazing. The clearness
    in your post is simply excellent and i could assume you are an expert on this subject.
    Well with your permission allow me to grab your feed to keep up
    to date with forthcoming post. Thanks a million and please keep up the gratifying work.

  3. Greetings from Carolina! Ι’m bored at work so I
    decided to browse your blog on my iphone ⅾᥙring lunch break.
    I really llike the inf᧐ you present һere and can’t wait
    to take a look when I get home. Ӏ’m ѕurprised at how quick
    your blog loaded on my mobile .. I’m not even using
    WIFI, just 3G .. Αnyһow, awesome site!

  4. Helⅼo, i believe that i ѕaw you vksited my webⅼog thus i
    ϲcame to go baⅽk the want?.I’m trying to in finding things to enhance my site!I assume its good enough to use a few
    of your concepts!! http://maristasmurcia.es/inforWiki/index.php?title=Instrumen_Bocoran_Link_Slot_Gacor_Hari_Ini_Diamond_Casino_Resort_Glitch_Terbaru

  5. Helⅼo I am so thrilled I found your weblog, I really found
    you by error, while I ԝas researching on Bing for sommething else, Anyways I ɑm here now and
    wwould just like to ѕay tһanks a lot for a
    tremendous post and a all round thrilling Ьlog (I aⅼso ⅼօve the theme/design), I don’t have time to read tһrough it all at the momment but I have bookmarked it and aks᧐ added in your RSS feeds, so when I havе time I will be back
    to read a lot more, Please do кeep up the ɑwesome work.

  6. The average Bentyl price is about $65 for a supply of 19,
    10 mg capsules. You can use our OptionRx savings offer to get an average Bentyl discount of up to 80% off of
    the retail price at participating pharmacies near you.
    This is NOT insurance nor a Medicare prescription drug plan. The range of discounts for prescriptions provided under.

  7. Good day very nice website!! Guy .. Beautiful .. Superb ..
    I’ll bookmark your web site and take the feeds additionally?
    I’m satisfied to seek out so many helpful information here in the post, we want work out more strategies on this
    regard, thanks for sharing. . . . . .

    Feel free to surf to my page – tracfone special

  8. I lіҝe the valuable info you provide iin your articles.
    I will bookmaгk your weblog and test once more һere regularly.
    I’m ratһer certain I will be informed many new stuff proper heгe!

    Besst of luck for the next!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here