टोक्यो पैरालंपिक में इस आईएएस अफसर ने हासिल किया सिल्वर मेडल: IAS Suhas Story

223
Success story of Suhas L.Y grabbing silver medal in Tokyo Paralympic 2020

कुछ लोगों की ज़िंदगी में परेशानियां तो होती हैं लेकिन वे सफलता की इबादत लिखना नहीं भूलते। आज हम आपको एक शख़्स से रूबरू कराएंगे जिन्होंने दिव्यांग होने के बावजूद भी सफलता की लड़ाई लड़ी और सभी के लिए उदाहरण बने। वे देश के इकलौता डीएम हैं, जिन्होंने ओलंपिक में मेडल हासिल किया।- Success story of Suhas L.Y

Success story of Suhas L.Y grabbing silver medal in Tokyo Paralympic 2020

डीएम सुहास एलवाई

वे शख़्स सुहास एलवाई (Suhas L.Y) हैं, जो किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। उन्होंने टोकियो पर ओलम्पिक में सिल्वर मेडल हासिल कर इतिहास रचा है। उनका जन्मस्थान कर्नाटक (Karnataka) है। वे गैतम बुद्ध नगर के जिला अधिकारी हैं। उन्होंने वर्ष 2016 में खेलना प्रारंभ किया और बड़ी सफलता हासिल की।- Success story of Suhas L.Y

जन्म से ही हैं दिव्यांग

सुहास एलवाई (Suhas L.Y) जन्म से दिव्यांग हैं लेकिन उन्होंने किसी भी खेल को इसलिए खेला ताकि वे उसमें जीत हासिल कर सकें। वैसे तो वे आईएएस नहीं बनना चाहते थे क्योंकि उनकी रुचि खेल में अधिक थी परन्तु ज़िंदगी में आए मोड़ के साथ उन्होंने स्वंय को सिविल सर्विस के लिए तैयार किया।- Success story of Suhas L.Y

Success story of Suhas L.Y grabbing silver medal in Tokyo Paralympic 2020

पिता का हुआ देहांत

उन्होंने अपनी शिक्षा सम्पन्न की और आगे की पढ़ाई की। अपनी प्रारंभिक शिक्षा उन्होंने गांव से ही की है परन्तु दुःखद बात यह थी कि उनके पिता का देहांत वर्ष 2005 में हो गया और वे बहुत टूट गए। पिता के देहांत के बाद उन्होंने यूपीएससी का मन बनाया। सुहास वर्ष 2007 के आईएएस अधिकारी हैं। सुहास क्रिकेट से अधिक प्रेम करते थे और उनकी फैमिली भी उनके रुचि में उनका सपोर्ट करती थी।

Success story of Suhas L.Y grabbing silver medal in Tokyo Paralympic 2020

शुरू किया बैडमिंटन खेलना

जब सुहास आजमगढ़ के डीयम बने तब उन्होंने बैडमिंटन खेलना प्रारंभ कर दिया परन्तु उस वक़्त उन्हें यह पता नहीं था कि वे बड़ी मुकाम को हासिल करेंगे। उन्होंने एशियन चैंपियन में गोल्ड मेडल हासिल किया है। उनकी जीत पर प्रधानमंत्री जी ने भी उन्हें बधाई दी है।- Success story of Suhas L.Y

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here