गार्डनिंग का जुनून ऐसा कि घर बनाने से पहले ही शुरु किया पौधें लगाना, अब पूरा घर सजावटी फूलों से सजा है

1159
Sudhir Saini Terrace Gardening in Haridwar

आज के समय में प्रदूषण से बचने के लिए हर कोई अपने घर को प्राकृतिक रूप देना चाह रहा है। कोई अपने घर को हीं गार्डेन का रूप दे रहा है तो कोई अपने घर को पेड़ पौधों के बीच में बनाना पसंद कर रहा है। ऐसे में हीं आपको एक ऐसे हीं शख्स के बताने वालें हैं, जिन्होंने अपना घर बनाने से पहले हीं पौधे लगाना शुरू कर दिया है और आज के समय में उनका घर फूलों की चादर से ढका रहता है।

कौन है वह शख्स?

हम बात कर रहे हैं, उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुज्जफरपुर से ताल्लुक रखने वाले सुधीर सैनी (Sudhir Saini) की, जो वर्तमान समय में हरिद्वार में निवास करते हैं। जिनके पिता एक किसान थे, जिस कारण उन्हे भी बचपन से खेती और किसानी से बेहद लगाव था।

विपरीत पतिस्थियों के कारण छोड़ा गांव

सुधीर सैनी (Sudhir Saini) ने कुछ विपरीत परिस्थिति हो जाने के कारण अपने गांव और अपने घर दोनो के छोड़ हरिद्वार में अपना डेरा जमा लिया। चूकि उनके मन में हमेशा से गार्डेनिंग की चाह थी, जिसे उन्होंने अपने घर में गार्डन लगाकर उसमे हजारों पौधों को लगाकर पूरा किया।

उन्होंने बताया कि, उनके एक बड़े भाई की सरकारी नौकरी थी और एक भाई ने खुद का बिज़नेस शुरू किया था। जिससे इन्हे लगने लगा था कि पिता की खेती इन्हीं को संभालना पड़ेगा। लेकिन कुछ विपरीत परिस्थितियों के कारण इनके सारे खेत बिक गए, जिस कारण उन्हे नौकरी के लिए घर और गांव छोड़ना पड़ा।

बता दें कि, शहर में जाकर उन्होंने कई नौकरियों को ज्वाइन किया लेकिन संतुष्टि नहीं मिलने के कारण सबको छोड़ वर्ष 2005 में वे हरिद्वार पहुंचे और यहां आकर एक नौकरी करना शुरू किया। वर्तमान समय में नौकरी करने के साथ हीं वे नेटवर्क मार्केटिंग का काम भी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें:- पुणे का एक अनोखा घर जहां रोजाना 50 से अधिक पक्षी डेरा लगाते हैं

शहर में मन नहीं लगने के कारण किया पौधे लगाना शुरु

जब वे हरिद्वार पहुंचे तो उन्हें यहां बिल्कुल भी मन नहीं लगता था, जिस कारण उन्होंने पौधे लगाना शुरू कर दिया लेकिन किराए के घर में उतनी जगह नहीं थी कि वे गार्डेन तैयाए कर सकें। जिसके कारण उन्होंने खुद का घर बनाने तथा उसमे गार्डेन तैयार करने का फैसला लिया।

खुद का घर बना कर तैयार किया उसमे एक खूबसूरत गार्डेन

सुधीर ने वर्ष 2018 में अपने घर बनाकर तैयार किया और फिर उसमे एक खूबसूरत गार्डेन लगाना शुरू किया। आज के समय में उनके घर में हजारों पौधे लगे हुए है। पूरे घर में उन्होंने सभी जगह पौधे लगाए हैं। बता दें कि, उन्होंने अपने घर के नीचे की जगह से लेकर दो बालकनी सहित छत पर भी कई सारे पौधे उगाए हैं।

Sudhir Saini Terrace Gardening in Haridwar

घर में लगे हैं कई सजावटी पौधे

सुधीर (Sudhir Saini) में अपने घर में की सजावटी पौधे जैसे फिलॉडेंड्रॉन का पौधा, मनी प्लांट, एरिका पाम जैसे कई सजावटी पौधे लगाए हुए हैं। इसके अलावें उन्होंने अपने घर में फूलों के भी कई पौधे लगाए है, जिसमे रात की रानी, गुलाब, चंपा, अडेनियम, डेजर्ट रोज सहित बोगनवेल के कई अलग-अलग रंगों के फूल शामिल है।

यह भी पढ़ें:- आगरा के इस शख्स ने घर को बना दिया “ग्रीन हाऊस”, घर है या गार्डन फर्क करना मुश्किल है

घर में हीं उगाते हैं कई प्रकार की फल तथा सब्जियां

सुधीर (Sudhir Saini), फूलों के पौधे के साथ अपने घर में कुछ सीजनल सब्जियां भी उगाते हैं साथ हीं घर में हीं उन्होंने दो किस्मों के आम उगाया है तथा इसके अलावें उन्होंने चीकू , लीची, अमरूद, आंवला, इमली सहित कई फलों के पेड़ भी लगाया हैं। चूकि उन्हे ताज़ी मिर्च खाने का शौक है, इसलिए उन्होंने अपने घर में हीं मिर्च का पौधा लगाया और अब हमेशा घर की उन्हे ताज़ी मिर्च खाने को मिलती है।

बता दें कि, अब इनके अपने गार्डेन में 15 बोन्साई भी तैयार हो चुके हैं और इसके अलावें उन्होंने अपने गार्डेन में सफेद और लाल दो किस्म के ब्रह्मकमल के दुर्लभ पौधे भी लगाया है। उन्होंने अपने घर को मधुमालती और बोगनवेलिया जैसी लताओं वाले पौधे ढका है, जो लोगों को खूब पसंद आता है।

निधि बिहार की रहने वाली हैं, जो अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अभी बतौर शिक्षिका काम करती हैं। शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करने के साथ ही निधि को लिखने का शौक है, और वह समाजिक मुद्दों पर अपनी विचार लिखती हैं।

12 COMMENTS

  1. When I initially commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time a comment is added I get four emails with the same comment.

    Is there any way you can remove people from that service?
    Appreciate it!

  2. I’m writing on this topic these days, baccarat online, but I have stopped writing because there is no reference material. Then I accidentally found your article. I can refer to a variety of materials, so I think the work I was preparing will work! Thank you for your efforts.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here