इस युवा उधमी ने बिना मिट्टी के अपने छत पर उगाये 300 से भी अधिक पौधे: जाने कैसे

2199
tarun upadhyaya roof farming

अभी के समय मे हर छेत्र में प्रयोग किया जा रहा हैं ।बेहतर को और बेहतर बनाने के लिए तो जाहिर सी बात है कि जब हर छेत्र आगे है तो कृषि का छेत्र इन सब मे कैसे पीछे रह सकता है। ज्यादातर लोग आज जैविक खेती कर रहे है।और कृषि छेत्र में तरह-तरह के प्रयोग कर रहे हैं।

Kheti trend आज आपको ऐसे ही इंसान कहानी बताने जा रहा हैं। जिन्होंने अपने गार्डनिंग का शौक पूरा करने के साथ-साथ इसमें बहुत सारे प्रयोग किए।

तरुण उपाध्याय मध्य प्रदेश के भोपाल में रहते हैं। तरुण एक सॉफ्टवेयर डेवलपर हैं। परंतु तरुण को गार्डेनिंग से इतना प्यार है कि तरुण नेअपने टेरस फल-फूल और हरी सब्जियों उगा रहे हैं। तरुण की गार्डनिंग की खासियत ये है कि ये सॉयल फ्री हैं। अर्थात तरुण मिट्टी का उपयोग नही करते हैं। तरुण एक खास तरह की पॉटिंग मिक्स तैयार करते है। जिसमे मिट्टी का उपयोग नही होता हैं।

अमेरिका की नौकरी छोड़ अपने देश आए,अपना शौक पूरा करने:-

तरुण की उम्र 41 वर्ष हैं। तरुण अपना स्टार्टअप चला रहे हैं। साथ ही साथ तरुण गार्डेनिंग भी करते हैं। 12 साल तक तरुण ने सॉफ्टवेयर डेवलपर पद पर काम किया।तरुण अमेरिका में अच्छी कंपनी में पदस्थापित थे। परंतु उन्हें फिर भी इस काम से संतुष्टि नही मिल रही थी कुछ कमी सी लग रही थी।

फिर तरुण ने अपनी नौकरी से इस्तीफा देके अपने देश वापस आ गए। तरुण ने वापस आने के बाद दो साल तक कोई नौकरी नही की।सिर्फ अपने आप को समय दिया और अपने शौक पर ध्यान दिया।

तरुण की उपलब्धियां:-

तरुण का खुद का एक स्टार्टअप है और दूसरे पर तरुण काम कर रहे हैं ।इसका अलावा भी तरुण एक इंटरनेशनल प्लेटफार्म “autodesk’s instructable” पर फीचर्ड ऑथर हैं।

तरुण एक ऑनलाइन हेल्थ रिच प्रोग्राम “fit banda.com”के को फाउंडर हैं। इसके साथ ही साथ तरुण नया स्टार्टअप Re-balance शुरू करने वाले है। परंतु इन सब के साथ तरुण ने अपने गार्डनिंग के शौक को नहीं छोड़ा । तरुण की पहली प्रथमिकता गार्डनिंग हैं। तरुण घर पर हर तरह के पेड़-पौधे लगे हैं। ऑर्नामेंटल फूलो के साथ फल और साग-सब्जियां भी।

तरुण को हमेशा गार्डनिंग का शौक था। परंतु जिंदगी को पटरी पर लाने की कोशिश में तरुण कभी अपना शौक पूरा कर ही नही पाएं। परंतु 2014 में जब तरुण को सारी परिस्थितियां अनुकूल लगी तब तरुण ने अपने शौक को पूरा करने की सोचा। सबसे पहले तरुण ने अपने घर को रेनोवेट कराया उसके बाद अपने घर के एक छत की जगह 5 छत बनवाया और टेरस गार्डनिंग शुरू किया।

300 से भी अधिक पेड़-पौधे हैं तरुण के टेरस गार्डन में:-

तरुण का कहना है कि आह 300 से अधिक पेड़-पौधे उपजा रहे हैं अपने टेरस गार्डन में। 30 से भी अधिक किस्म के फल और सब्जियां है। तरुण के गार्डन में।जैसे- अंजीर,अमरूद(थाई और लाल वैरायटी),थाई एप्पल बेर,मलबरी(लाल और हरा वैरायटी),स्टार फ्रूट,चीकू,आम्रपाली आम,पपीता,लाल वैल पेपर,स्ट्राबरी पालक,मेक्सिकन पुदीना,पुदीना,लेमनग्रास, सीताफल,टमाटर,तुलसी,करी पत्ता और एवोकेरो इत्यादि।

तरुण की गार्डनिंग की खासियत यह है कि तरुण का गार्डन पूरी तरीके से आर्गेनिक हैं। तरीन अपने गार्डन में किसी तरह के रसायन या पेस्टिसाइड का उपयोग नही करते हैं। दूसरी खासियत ये है कि तरुण अपनी गार्डनिंग सॉयल फ्री करते हैं।

आप कल्पना भी नही कर सकते है कि एक स्क्वायर मिट्टी बनने में 200 साल लगते है। बढ़ते केमिकल के उपयोग और प्रदूषण ने मिट्टी की उर्वरा उपज छमता की समाप्त कर दिया है। यही कारण है कि तरुण ने खुद की पॉटिंग मिक्स तैयार किया। इस पॉटिंग मिक्स में मिट्टी बिल्कुल भी नही है।तरुण को बहुत बार असफलता भी मिली परंतु तरुण ने हार नही मानी और कोशिश करते रहे। आज तरुण का तैयार किये हुए पॉटिंग मिक्स हर प्रकार के पेंड़-पौधे उपजाने के लिए सही तरीका हैं।

पॉटिंग मिक्स तैयार करने की विधि:-

तरुण की तरह पॉटिंग मिक्स बनाने के लिए आपको वर्मीकम्पोस्ट 30%,गोबर की खाद 30%, कोकोपिट 20 % ,प्लाइट 10% ,एडिटिव जैसे नीमखली,सरसोवली 10% ,इसके साथ ही साथ कभी कभार बोन मिल आदि भी मिला सकते है आप। इस प्रकार से आप तरुण की तरह पॉटिंग मिक्स बना सकते है।

पॉटिंग मिक्स के है अनेक फायदे:-

तरुण के पॉटिंग मिक्स के अनेक फायदे है आइये जानते हैं।

◆ आपको गमले और प्लांटर्स के वजन को मिट्टी से 50% तक कम रखता हैं। छत्त पर भी अधिक वजन नही पड़ता तथा प्लांटर्स मैनेज करना भी आसान रहता हैं।

◆ इससे पौधे के विकास में भी सहायता मिलती हैं। और इस पॉटिंग से जड़े अच्छे से विकसित होते हैं और जड़े भी मजबूत होती हैं।

◆ इस पॉटिंग मिक्स से ड्रेनेज अच्छे से होता है और नमी भी रहती हैं तथा हवा का आवगमन भी अच्छे से होता हैं।

◆ जैवीक एडिटिव,बोनमिल,मिलना आसान नाइ है।

◆ मिट्टी से अधिक वक़्त तक इस पॉटिंग मिक्स में पोषण रहता हैं। पॉटिंग मिक्स से पौधौ का ट्रांसप्लांट आसानी से हो जाता हैं।

इस सब के साथ-साथ तरुण नीम के तेल या करेंज का तेल भी पेस्टिसाइड की तरह पेड़-पौधे पर स्प्रे करते हैं। तरुण का लक्ष्य अगले साल तक अपनी गार्डनिंग से अपने घर की जरूरतें पूरी करने की हैं।

गार्डनिंग ने रोजमर्रा के जीवन को सरल बनाया:-

तरुण कहते है गार्डनिंग ने मुझे एक अच्छा इंसान बनाया हैं। गार्डनिंग की वजह से मैं रोज सुबह उठकर अपने कमरे से अपने टेरस गार्डन और सुंदर और ताजे फलों को देखता हूं । तरुण का कहना है कि ये पौधे तरुण को सकारात्मक स्वभाव रखने के लिए प्रेरित करते हैं।

तरुण तरह-तरह के गार्डनिंग ग्रुप्स से भी जुड़े है। तरुण का मानना है कि गार्डनिंग करना बच्चे को पालने जैसा है। आप बच्चों का ध्यान रखेंगे तो बच्चे भी आपको प्यार करेंगे।उसी तरह गार्डनिंग भी हैं। आज के समय मे हमारे घर के बच्चे केमिकल वाला खाना खा रहे हैं। जिससे कई बीमारियां हो रही हैं। कहा जाता है कि “जैसा अन्न,वैसा हो मन”।इसलिए हमें अपने खाने पर ध्यान देना होगा और साग-सब्जियां खुद से उपजाने चाहिए।

तरुण उपाध्याय की कहानी बहुत ही प्रेरित करने वाली हैं। अगर आप तरुण से संपर्क करना चाहते है तो तरुण को tarunupadhyaya@gmail.com पर ईमेल कर सकते हैं।

Kheti trend तरुण उपाध्याय को शुभकामनाएं देता है और तरुण की उज्जवल भविष्य के लिए भगवान से प्रार्थना करता हैं।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

20 COMMENTS

  1. I’ve been browsing online more than three hours today, yet I never found any interesting article like yours. It’s pretty worth enough for me. Personally, if all webmasters and bloggers made good content as you did, the web will be a lot more useful than ever before.

  2. I just wanted to compose a brief note in order to express gratitude to you for the nice recommendations you are giving at this site. My long internet look up has at the end of the day been paid with beneficial knowledge to go over with my guests. I ‘d suppose that most of us website visitors are undeniably lucky to exist in a remarkable network with very many lovely professionals with good tricks. I feel quite happy to have discovered your web site and look forward to some more cool minutes reading here. Thanks once again for all the details.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here