गुजरात के तीन दोस्तों ने गांव में लगाए 3000 पेड़, गांव में आई हरियाली और झूम उठे पेड़ पौधे: सैल्युट

3740
three friends from Gujarat starts planting trees near tirupathi temple junagadh

यह हम सब जानते हैं कि पेड़-पौधे लगाना कितना जरूरी होता है, लेकिन आज भी ऐसे कई जगह हैं, जहां पेड़-पौधों की बहुत कमी है। गुजरात में कच्छ के रण समेत कुछ इलाके ऐसे हैं, जहां पेड़-पौधे ना के सामान हैं। इस समस्या को समझते हुए यहां के लोगों ने वृक्षारोपण करने का अलग तरीका अपनाया है‌।

three friends from Gujarat starts planting trees near tirupathi temple junagadh
तीन दोस्तों ने लिया वृक्षारोपण का संकल्प

जूनागढ़ जिले में तिरूपति मंदिर के लिए प्रसिद्ध खोरासा (आहीर) गांव में अगर आज हरियाली देखती है, तो उसकी वजह कुछ ऐसे लोगों हैं, जिन्होंने वृक्षारोपण की अहमियत को समझते हुए इस दिशा में कार्य किया है। अब यहां बंजर धरती नहीं बल्कि बारिश में पेड़-पत्तों से टपकता पानी दिखता है। ऐसे लोगों में आते ये तीन दोस्त बटुक चावड़ा (Batuk Chavda), कमलेश लुहार (Kamlesh Luhar) और रमेश भरवाड़ (Ramesh Bharwad) हैं। जिन्होंने कुछ साल पहले वृक्षारोपण का संकल्प लिया था। – three friends from Gujarat starts planting trees near tirupathi temple junagadh

three friends from Gujarat starts planting trees near tirupathi temple junagadh
अबतक लगा चुके हैं 3 हजार से ज्यादा पेड़

ये तीनों दोस्त ने नीम, आम, पीपल आदि के पेड़ लगाए हैं। उन्होंने न केवल अपने गांव के अंदर बल्कि श्मशान से लेकर आसपास की खाली जमीन पर भी वृक्षारोपण किया है। उसके बाद पेड़ों को नियमित रूप से पानी देना तथा उनका पूरा ख्याल भी रखते हैं। तीन दोस्तों की इस जोड़ी ने अबतक करीब 3 हजार पेड़ लगाए हैं। पर्यावरण के प्रति उनके लगाव के चलते ही साबली डैम के पास स्थित हनुमान मंदिर भी अब हरे-भरे वातावरण के बीच चमकता नजर आता है।- three friends from Gujarat starts planting trees near tirupathi temple junagadhthree friends from Gujarat starts planting trees near tirupathi temple junagadh

तीन दोस्तों ने मिलकर बंजर जमीन को बनाया हराभरा

बटुक चावड़ा के अनुसार वे अबतक मंदिर परिसर और उसके आसपास 200 से ज्यादा पेड़ लगा चुके हैं। उन्हें वृक्षों से बेहद लगाव है इसलिए उन्होंने इस दिशा में काम करने का फैसला किया। बटुक वन विभाग की नर्सरी से पौधे लेते हैं। इसके अलावा वनकर्मियों ने समय-समय पर उनकी मदद भी की है। तीनों दोस्तों ने पेड़ लगाने के साथ-साथ पैरों का पूरा ख्याल भी रखा, जो जमीन कभी बंजर नजर आती थी। आज वह भी हराभरा दिखती है। इन तीनों दोस्तों से प्रेरित होकर हर किसी को पेड़-पौधे लगाना चाहिए। – three friends from Gujarat starts planting trees near tirupathi temple junagadh

2 COMMENTS

  1. Hi there just wanted to give you a quick heads
    up. The text in your content seem to be running off
    the screen in Safari. I’m not sure if this is a format issue or something to do with
    browser compatibility but I figured I’d post to let you know.

    The layout look great though! Hope you get the issue resolved soon.
    Many thanks

    Also visit my webpage tracfone coupon

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here