पिता ने कर्ज लेकर पढ़ाया, अब दोनों बेटियों ने एक साथ पास की दारोगा भर्ती की परीक्षा

325
Two Sisters Pooja and Priya Got Success in Bihar Daroga Result

हर इंसान अपनी जिंदगी में पढ़ लिख कर एक सफल इंसान बनना चाहता हैं वे चाहता हैं की वे खूब पढ़ाई कर एक कामयाब इंसान बने। लेकिन कामयाबी को हासिल करना इतना आसान नहीं होता। कहियो की जिंदगी में सफलता को हासिल करने के लिए पूरी उम्र बीत जाती हैं तो वही कोई हार मान कर अपने सपनो को छोड़ देते हैं तो वही कोई अपनी जिंदगी में संघर्ष कर के अपनी मंजिल तक पहुंचने की कोशिश करता हैं। लेकिन अंत में सफलता वही हासिल करता हैं जिसके हौसले बुलंद होते हैं क्युकी कामयाबी को पाना इतना आसान नहीं है जितना हम सोच लेते हैं बहुत से संघर्ष कर और मेहनत के साथ सफलता को हासिल करना पड़ता हैं और हर कामयाब इंसान का सपना बच्चो के साथ उनके माता पिता भी देखते हैं हर माता पिता चाहते हैं की उनके बच्चे इतनी उचाईया छुए की उनका सीना गर्व से चौड़ा हो जाए।

आज हम आपको एक ऐसी सफलता की कहानी बताएंगे। जिन्होने अपने सपने को पूरा करने के लिए काफी संघर्ष कर अपनी मंजिल को हासिल किया और साथ ही साथ अपने माता पिता का सीना गर्व से चौड़ा किया। ऐसी दो बेटियां जिन्होने अपने सपने को साकार कर अपने माता पिता का नाम रोशन किया।

** कौन है वो दो बेटियां…..

कही माता पिता ऐसे भी है जो लड़के की अब भी चाव रखते हैं क्युकी कही लोगो का अभी भी मानना हैं की लड़का ही अपने माता पिता के सपनो को साकार कर सकता हैं लेकिन आज इस सोच को भी इन दो बेटियो ने गलत साबित किया और हर लड़कियो को प्रेरित किया। आज हम जिसकी बात कर रहे है उन दो बेटियो का नाम पूजा (Pooja) और प्रिया (Priya) हैं जो दोनो सगी बहने हैं जो बिहार (Bihar) के पकरीबरावां जिले की रहने वाली है। पूजा और प्रिया का जन्म एक मामूली से परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम मदन साव (Madan Shaw) है जो पकरीबरावां बाजार के व्यवसायी हैं। दोनो बहनों को बचपन से ही पढ़ाई में काफी शौक राह हैं, जिसके चलते दोनो बहनों ने ही बचपन में भविष्य सोच लिया था। दोनो बहने पुलिस नौकरी कर दरोगा बनना चाहती थी।

यह भी पढ़ें:- बाल काटते-काटते नाई बन गया करोड़पति, गैराज में मौजूद हैं एक से बढ़कर एक महंगी गाड़िया

**किस तरह राह पढ़ाई का सफर…..

दरअसल हमने आपको बताया की पूजा और प्रिया का जन्म बेहद ही मामूली परिवार में हुआ था जहा उनके पिता अपना घर खर्च चलाते थे वे साथ उनकी पढ़ाई का भी खर्च उठाते थे। पूजा और प्रिया ने अपनी शिक्षा पकरीबरावां से ही की हैं उसके बाद दोनों ने नवादा के प्रोजेक्ट कन्या उच्च विद्यालय से मैट्रिक की परीक्षा पास की। मैट्रिक की डिग्री लेने के बाद पूजा और प्रिया कृषक महाविद्यालय धेवधा से बारहवीं के बाद स्नातक किया।

**मेहनत कर पढ़ाया पिता ने….

हर माता–पिता चाहते हैं की उनके बच्चो का सपना सच हो। जिसके लिए वो हर मेहनत करने को तैयार हो जाते हैं। ठीक इसी तरह पूजा और प्रिया के घर की आर्थिक स्थिति खराब होने के बाद भी उनके पिता ने कभी भी उनके पढ़ाई में कोई कमी नही आने दी। उन्होंने हर वो कड़ी मेहनत की जिससे उनकी दोनो बेटियां अपने सपने को साकार कर सके और उनका नाम रोशन कर सके। पूजा और प्रिया के पिता ने हार ना मानते हुए पैसे की तंगी होने के बावजूद भी, अपनी लड़कियों को पढ़ाने के लिए कर्ज उठाया। जिससे उनकी बेटियां उच्च शिक्षा प्राप्त करे।

**तय किया अपना लक्ष्य…..

पूजा और प्रिया जो पढ़ाई में तेज होने के कारण बचपन से ही जिन्होने ठान लिया था की वह दोनो बड़ी होकर पुलिस सब इंस्पेक्टर की नौकरी करेंगी। जिसके लिए दोनो बहनों ने मिल के अपनी पढ़ाई पे खूब ध्यान दिया और साथ ही साथ काफी लगन से मेहनत की जिसका परिणाम आज दोनो बहने अपने सपने को पूरा कर चुकी हैं।

आपको बता दे की दोनो बहनों ने लक्ष्य तो एक साथ तय किया था लेकिन पहले प्रयास में सफलता पूजा ने हासिल की थी जिसके बाद प्रिया ने दूसरे प्रयास में अपने सपने को साकार कर अपने माता पिता सहित बाकी अन्य लोगो का भी नाम रोशन किया।

यह भी पढ़ें:- मिलिए भारत की पहली महिला DGP से, एक घटना ने किया था IPS बनने के लिए प्रेरित

**सारा श्रेय दिया अपने पिता को…

पूजा और प्रिया के पिता ने हार मुश्किल में अपनी बेटियो का साथ दिया। सच कहते हैं लोग पिता एक शब्द ही ऐसा हैं जो खुद धूप में जलेगा लेकिन अपने बच्चो के चेहरे पे सिर्फ हमेशा खुशी देखना चाहेगा। पूजा और प्रिया के पिता ने उनके सफर में आई हर मुश्किल का सामना किया। जिससे उनकी पढ़ाई में कोई बाधा न आए। दोनो बहनों का कहना है की उनका ये सपना उनके पिता के बिना पूरा होना मुश्किल था क्युकी उनके पिता ने अपनी दोनो बेटियो को पूरा सहयोग दिया। जिससे आज वो अपने इस सपने को साकार कर पाई। दोनो बेटियो ने अपने सपने को साकार होने का पूरा श्रेय अपने पिता को समर्पित किया।

**प्रेरणा……

आज दोनो बहनों ने साबित किया की बेटियां भी अपने माता पिता का नाम रोशन कर सकती हैं साथ ही साथ दोनो बेटियो ने हमे यह भी सिखाया की जिंदगी में आई कितनी भी परिस्थिति हमारे लक्ष्य से बहुत छोटी होती है अगर हमारे हौसले बुलंद हो तो हम किसी भी परिस्थिति का सामना कर अंत में सफलता हासिल कर सकते हैं।

8 COMMENTS

  1. Wonderful paintings! This is the type of information that are supposed to be shared across the internet. Disgrace on Google for not positioning this submit upper! Come on over and talk over with my site . Thanks =)

  2. Thanks for sharing excellent informations. Your web-site is so cool. I’m impressed by the details that you have on this site. It reveals how nicely you perceive this subject. Bookmarked this website page, will come back for extra articles. You, my friend, ROCK! I found just the info I already searched all over the place and just couldn’t come across. What a perfect site.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here