मिट्टी नही, बल्कि बाल्टी और मछलियों की मदद से छत पर उगाएं खूब सब्जियां: जानिए कैसे

2533
urban gardening by sameer

Kheti trend ने आपको कई बार एक्वापोनिक्स तकनीक के बारे में बताया है, की इस तकनीक से कैसे आप आसानी से खेती कर सकते है, आज हम आपको ऐसे ही शख्श से मिलवाएंगे जिन्हें एक्वापोनिक्स तकनीक इतनी अच्छी लगी की उन्होंने गर्डनिंग करनी शुरू कर दी।

 

समीर का परिचय-

 

समीर पुणे में रहते है और आईटी प्रोफेशनल है, उनकी उम्र 38 वर्ष की है। समीर को किताबे पढ़ने का बहुत शौक है, एक बार जब समीर ने ” एक्वापोनिक्स”तकनीक के बारे में पढ़ा तो उन्हें इस तकनीक ने बहुत प्रभावित किया, और समीर ने गर्डनिंग शुरू कर दी। आज समीर अपना खुद फल सब्जियां उगा कर उसका सेवन करते है।

खुद से करने का किया निश्चय-

 

जैसे कि हमने पहले ही आपको बताया है कि एक्वापोनिक्स दो विधियों का मेल है। इस विधि का पहला भाग है एक्वाकल्चर (जलिये कृषि) और दूसरा है भाग है हीड्रोपोनिक्स जसमे हम मिट्टी के बिना पौधे उगा सकते है।

 

समीर इस तकनीक से इतने प्रभावित हुए की उन्होंने खुद इसे करने का मन बनाया और अपने छत पर पड़ी दो बाल्टियों का इस्तेमाल किया। पहले तो समीर ने वाटर पंप और लगाया फिर कुछ मछलियां और पाइप खरीद कर लाये। सबसे पहले समीर ने नर्सरी से पुदीना लाया और लगाया। एक हफ्ते बाद पुदीना में नए पत्ते आने लगे, और समीर अपने एक्सपेरिमेंट में सफल रहे, और यही से शुरुआत हुई बकेट पोनिक्स की ( बाल्टी में एक्वापोनिक्स) तरीके की शुरुआत।

 

63 प्रकार के सब्जियां उगा रहे है-

 

समीर ने जो पुदीना उपजाया था उसकी पत्तिया एक दम ताजा थी और पुदीने से खुश्बू भी बहुत अच्छी आ रही थी। समीर ने कहा कि उन्होंने किताबो में पढ़ा था कि मछलियों का अपशिष्ट, पानी मे अमोनिया तथा नाइट्रेट के अच्छे स्रोत का काम करता है, जो कि पौधो के विकाश के लिए बहुत आवश्यक है, समीर के इस एक्सपेरिमेंट से ये सही साबित हुआ।

 

समीर ने पुदीने से शुरुआत की थी आज वो 63 प्रकार के सब्जियां उगा रहे है जैसे- पालक, टमाटर, खीरा, मक्का, स्टीविया, कद्दू और भी बहुत कुछ। शुरू में समीर बाल्टियों का उपयोग करते थे पर धीरे धीरे वो ड्रम का भी इस्तेमाल करने लगे। एक साल तक समीर ने मछलियों के विभिन आवासों का एक्सपेरिमेंट किया, उसके बाद उन्हीने फाइनली ” फाइबर रिईफोर्स्ड प्लास्टिक ( FRP) से बने डबल डेकर टब का डिज़ाइन फाइनल किया, ये टब धूप में लगभग 25 साल तक चल सकता है।

खुद से ही सीखा बहुत कुछ-

समीर ऊपर वाले टब में सब्जियां लगाते है और नीचे वाले टब में मछलिया रखते है। नीचे वाले टब से पानी पंप की मदद से ऊपर पौधों में पहुचाते है, और रेक्सिक्लिंग के लिए इसे नीचे वाले टब में भेज दिया जाता है। खुद से ही समीर ने बहुत कुछ सीखा है और अपनी तकनीक को और अच्छा करने की चाहत में समीर ने बहुत सारी अलग अलग मछलियों के साथ एक्सपेरिमेंट किया है जैसे- कैटफ़िश, गपि, रोहू, कतला और कवई शामिल है। कवई मछली बहुत महँगी होती है लेकिन इससे उत्पादन भी अधिक होता है।

 

किताबो और ऑनलाइन वीडियोस से सीखा-

समीर ने पौधों के लिए पानी और पोषक तत्वों की मात्रा संतुलित रखने के तरीकों पर भी काम किया। समीर ने अकेले ही ये सब कुछ किया है बिना किसी के मदद के इसलिए उन्हें कई साल लग गए इस काम के लिए। समीर अपने पौधों की देखभाल करने के साथ, इस तकनीक के बारे में किताबो से और वीडियोज की सहायता से और सीखने की कोशिश करते है।

 

खुद उगाये अपना खाना-

 

समीर कहते है कि सब लोगो को अपने सेवन भर फल और सब्जियां अपने घर पर उगानी चाहिए, ऑर अधिक होने पर आप इसे बेच कर मुनाफा भी कमा भी सकते है। इसके साथ ही हम खाने की बर्बादी को रोकेंगे और केमिकल वाले सब्जी ना खा के अपने आप को स्वस्थ रखेंगे।

 

समीर एक वाक्य बताते हुए कहते है को उनके गार्डन को एक बच्चा देखने आया और उसने पालक तोर के खा लिया, उसने बोला कि पालक बिल्कुल भी कड़वी नही है, वो इसलिए क्योंकि मैं केमिकल का उपयोग नही करता हु अपने गार्डन में।

लोगो की भी कर रहे है मदद-

समीर ने एक सब्सक्रिप्शन मॉडल शुरू किया है, इसकी मदद से लोहा उनकी जैविक सब्जियां खरीद सकते है। समीर ने ये मॉडल 6 लोगो के साथ शुरू हुया था, समीर को 250 ग्राम चेरी या अन्य सब्जियों के लिए लोग प्रतिमाह 600 रुपये देते है।

 

अपना काम और बढ़ाने के लिए समीर रोज ऑनलाइन वर्कशॉप करते है, इसके साथ ही समीर प्रतिदिन सुबह 9 बजे से अपने इंस्टाग्राम पर समीर लोगो के गर्डनिंग से जुड़े सवालों का जवाब भी देते है। मुम्बई और रत्नागिरी के गार्डेनर्स के साथ साथ और भी बहुत सारी जगहों के गार्डनर उनसे गर्डनिंग से जुड़े सवाल पूछते है।

सबसे अच्छी बात ये है कि समीर का बिजनेस मॉडल रेडी है और मुम्बई का एक शख्श अपने छत्त पर ऐसा मॉडल बनवाना चाहता है, परन्तु समीर का कहना है कि ऐसे अर्बन किसान और बाजार तैयार करने के लिए अभी उन्हें और इन्वेस्टर की आवश्यकता है। अगर आपको और अधिक जानकारी चाहिए तो आप समीर से उनके इंस्टाग्राम एकाउंट प्लकइट (pluckit) पर जुड़ सकते है।

 

Kheti trend समीर की प्रयास की तारीफ करता है, साथ ही साथ उन्हें ढ़ेर सारी शुभकामनाएं भी देता हैं।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

14 COMMENTS

  1. I like the helpful information you provide in your articles.
    I’ll bookmark your weblog and check again here frequently.
    I am quite certain I will learn many new stuff right here!

    Best of luck for the next!

  2. Sloot Joker yʏaitu diantara үang ⅼumayan lama serta
    dikenal keerap kali orang di Jakarta. Tak cuma
    seƄab memiliki pengucapan nana yang gampang (dan benar-benar terkenal),
    Slot Joker memiliki ddemikian tak jɑrang alternatif.
    Ada minimal 81 tipe permainan slot, dittamЬah 11 variasi permainan fisһkng (pancing
    ikan) yang disebut yaang samgat kerap kali macamnya diperЬandingkan provider
    lainnya, seгta lima ipe permaiknan single player (casino table).
    Tentu sajа ada pula feature sеarϲh yang ⅾapat kita pakai
    untuk cari game Joker yang kitа kehendaki lebih cepat.

    Pеrmainan casino table yanbg disiapkаn terbagi dalam Baccarat, Belangkai, Dragon Tiger, HuLu, serta SicBo.
    Tigа salah satunya ialɑh ⲣermainan casino live yang tentu acap kali kitа jumpai.
    Jadi kalau jemu dengan permainan casino livе itu,
    kita dapat coba permainan semacam di Slot Joker.

    Di halaman pertama lobby slot Joker, kita sanggup ԁiterima dengan 20 Top game slot yang tеlоah diambil berdasar tingkat kepopuⅼerannya.

    Jadi kita tak semestіnya linglung սntuk pilih apa yɑng kurang lebih serіngkali dimainkan tak
    jaгang orang.

  3. Have you ever thought about publishing an ebook or guest authoring on other websites? I have a blog based on the same topics you discuss and would love to have you share some stories/information. I know my viewers would appreciate your work. If you’re even remotely interested, feel free to send me an e-mail.

  4. Nice post. I learn one thing more difficult on different blogs everyday. It should at all times be stimulating to read content from different writers and apply a bit of one thing from their store. I’d desire to use some with the content material on my weblog whether you don’t mind. Natually I’ll offer you a hyperlink on your net blog. Thanks for sharing.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here