150 साल पुराने पीपल के पेड़ के बीच ही बनाया घर, प्रकृति से घनिष्ठ प्रेम के उदाहरण बन गए, जबलपुर के योगेश-

3314

जब हम अपने सपनों का आशियाना “अपना घर” बनाने की सोचते है तो हमे बहुत खुशी होती हैं। हम सब गार्डन के बिना अपने सपनों के घर की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं पर हमने कभी ये नही सोचा कि हमारे सपनों का घर बनाने में कितने सारे पेड़-पौधें कटे जाते है उस वक़्त हम में से कोई भी उन पौधो के बारे नही सोचता हैं।

यह हम सबने कभी न कभी जरूर किया हैं अनजाने में ही सही।परन्तु आज भी संसार मे ऐसे इंसान है जो प्रकीर्ति के सतज खिलवाड़ नही करते है। आइये आज हम आपको ऐसे परिवार से मिलवाते है जिन्होंने प्रकीर्ति को नुकसान पहुचाये बिना अपने सपनो का आशियाना बनाया है।

किसी पेड़ को कोई हानि नही पहुचाई:

योगेश केसरवानी जो मध्य प्रदेश के जबलपुर में अपने परिवार के साथ रहते हैं। योगेश जी का परिवार पूरे शहर में समान की नज़र से देखा जाता हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि योगेश जी के घर मे इतने प्रकार के पौधे हैं। जितनी किसी नर्सरी में भी नही होंगी। परंतु सबसे ज्यादा जो खास है योगेश जी के घर मे वो 150 साल पुराना पीपल का पेड़ हैं।

योगेश जी के पिता ने 1994 में अपना घर बनवाया था। जब योगेश जी के पिता ने यह जमीन खरीदी उससे पहले से यह पीपल का पेड़ वहाँ था।

योगेश जी के पिता को इंजीनियरिंग ने बताया कि अगर आप इस पेड़ को कटवा देते है तो आपको बहुत जगह मिल जाएगी।जिसमें आप गार्डन बना सकते है परंतु योगेश के पिता ने पेड़ कटवाने से साफ मना कर दिया। पीपल का पेड़ जमीन के बीचोबीच था जिससे घर बनाने में काफी मुश्किल हो रही थी। पीपल के पेड़ के साथ-साथ बहुत सारे छोटे पेड़ और भी थे उसे भी योगेश जी के पिता नही हटाना चाहते थे।

योगेश जी के पिता को कोई इंजीनियर नही मिल रहा था जो पीपल को काटे बिना उनका घर बना सके । बहुत कोशिश के बाद एक इंजीनियर तैयार हुए। योगेश का घर दो मंजिला हैं। घर के पास अंदर कोई गार्डन नही है पर योगेश जी को कभी भी गार्डन की कमी महसूस नही हुई।क्योंकि 150 साल पुराना पीपल का पेड़ और दूसरे पेड़ योगेश के घर के अंदर ही हैं।

प्रकीर्ति को नुकसान पहुचाना हमे ही छति पहुचाता हैं:-

हमारे समाज मर ऐसे लोह बहुत अधिक हैं जो हमारे अच्छे काम की सराहना ना करे परन्तु हतोत्साहित अवश्य करते हैं। परंतु योगेश के परिवार को कोई फर्क नही पड़ा। उन्हें तो खुशी होती है कि ऐसा अनोखा घर सिर्फ उनका हैं।

योगेश का कहना है कि-“लोक कल्याण दृष्टि से दस कुँए के बराबर एक बावड़ी का ,दस बावड़ियां के बराबर एक तालाब का,दस तालाब के बराबर एक पुत्र का और दस पुत्र के बराबर एक विरिक्ष का महत्व होता है”

अर्थात एक पुत्र आपको जीवनभर जितना सुख और लाभ देगा उतना ही एक विरीक्ष सामूहिक रुप से सामाजिक जीवन मे आपको सुख तथा लाभ पहुचता हैं।

कुछ साल बाद पीपल कर पेड़ की टहनियां खिड़कियों से बाहर निकल गयी।ये थोड़ा अचंभित है क्योंकि आमतौर पर घर के अंदर से पेड़ की टहनियां दिखती हैं परंतु यह कुछ अलग था। योगेश की माँ प्रतिदिन पीपल की पूजा करती थी अब योगेश की पत्नी यह परंपरा निभा रही हैं।योगेश जी के बच्चे इसी पेड़ पर झुला झूल-झूल कर बड़े हुए हैं।

काबिलेतारीफ है इस मकान की बनावट:-

जिस इंजीनियर ने यह घर बनाया है उनका काम सराहनीय है क्योंकि पीपल का पेड़ हो या दूसरे पेड़-पौधे कोई भी पेड़ घर के खिड़की दरवाजे को बाधित नही करते है। इंजीनियर ने हर पेड़ की टहनी को बाहर जाने का मौका दिया है इसके लियर बहुत सारे खिड़की बनाये गए है। साथ ही साथ छत पर भी जगह दी गयी है।

केसरवानी परिवार की जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है।योगेश जी के परिवार ने कोई पेड़ नही काटे बल्कि पेड़ो को सुरक्षित रखते हुए अपने घर का निर्माण करवया। घर मर पेड़ो की वजह से सारा वातावरण साफ और स्वच्छ रहता हैं। बहुत सारे कॉलेज के इंजीनियर के छात्र योगेश जी के घर पर स्टडी करने के लिए आज भी उनके घर जाते हैं।

योगेश जी के घर मे पीपल के अलावा 25 अन्य प्रजातियों के पेड़-पौधे हैं। इसके अलावा बहुत से सुंदर फूलों के पौधें भी है। योगेश जी के घर में यह परंपरा हमेशा चलती रहगी उनका कहना हैं।

अंततः kheti trend योगेश जी और उनके परिवार का आभारी है कि उन्होंने प्रकीर्ति कर बारे में इतना सोचा। और लोगों को उनसे प्रेरित होने के लिए आग्रह करता हैं।

अनामिका बिहार के एक छोटे से शहर छपरा से ताल्लुकात रखती हैं। अपनी पढाई के साथ साथ इनका समाजिक कार्यों में भी तुलनात्मक योगदान रहता है। नए लोगों से बात करना और उनके ज़िन्दगी के अनुभवों को साझा करना अनामिका को पसन्द है, जिसे यह कहानियों के माध्यम से अनेकों लोगों तक पहुंचाती हैं।

7 COMMENTS

  1. Thanks for another informative website. Where
    else may I get that kind of information written in such an ideal manner?

    I have a challenge that I am just now running on, and I have
    been at the glance out for such info.

  2. Good day! This post couldn’t be written any better!
    Reading through this post reminds me of my previous room mate!

    He always kept chatting about this. I will forward this page to him.
    Pretty sure he will have a good read. Thanks for sharing!

  3. YÖNETİM KURULU. T.C. SOSYAL GÜVENLİK KURUMU BAŞKANLIĞI Genel Sağlık Sigortası
    Genel Müdürlüğü SSK İlaç ve Eczacılık
    Daire Başkanlığı (Devredilen) 48258 Sayı.00/XVII-Konu Reçete yazım kuralları
    T.C TÜRK ECZACILAR BİRLİĞİ II. BÖLGE ANKARA ECZACI ODASI İlgide kayıtlı yazınız.

  4. Genç kızların gizli çekim sevişme görüntüleri.
    çıtır lezbiyenlerin ateşli am yalamasını izle.
    Am, göt ve sik içeren porno videolar “Türk porno izleyicisi” tarafından beğeniyle izleniyor.
    blogspot kadın kopek ıle sıkısı. türkçe konuşmalı vurarak sikiş.
    sekiz on yaşındaki kızların am resimleri.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here